किसान आंदोलन

किसान आत्महत्या मामले में रमण सरकार दोषी, छत्तीसगढ़ किसान मजदूर महासंघ

किसान आत्महत्या मामले में रमण सरकार दोषी, छत्तीसगढ़ किसान मजदूर महासंघ

 

किसान आत्महत्या मामले में रमण सरकार दोषी, छत्तीसगढ़ किसान मजदूर महासंघ की आपात बैठक रायपुर में कल 18 जून को

16 जून को कर्जा माफी को लेकर प्रदेशव्यापी चक्का जाम आंदोलन को भी 1 दिन भी नहीं हुआ था कि आज सूचना मिली कि खैरागढ़ के गोपालपुर थाना क्षेत्र के किसान भूषण गायकवाड़ ने कर्जा से तंग आकर आत्महत्या कर ली । इस दुखद घटना पर शोक व्यक्त करते हुए छत्तीसगढ़ किसान मजदूर महासंघ ने रमन सरकार पर किसानों की गम्भीर होती समस्याओं की लगातार अनदेखी का आरोप लगाया है ।
किसान महासंघ के संयोजक मंडल के सदस्य द्वारिका साहू, वीरेंद्र पांडे,रुपन चंद्राकर, संकेत ठाकुर, पप्पू कोसरे, पारसनाथ साहू, गौतम बंदोपाध्याय, कामता रात्रे, उत्तम जायसवाल, दुर्गा झा आदि ने किसानों की आत्महत्या के लिए मुख्यमंत्री रमन सिंह और केंद्र की भाजपा सरकार को दोषी ठहराया है । किसान नेताओं ने प्रश्न किया है कि आखिर कितने किसानों की बलि लेने के बाद यह रमन सरकार किसानो का कर्जा माफ करेगी ? जबकि यह साबित हो ही चुका है कि लगातार बढ़ती लागत की वजह से खेती अब घाटे का व्यवसाय बन कर रह गई है तो आखिर कर किसान इस भारी-भरकम कर्जे को कहां से चुकायेंगे ?
भाजपा सरकार ने अपनी घोषणा के अनुरूप ना तो किसानों को बोनस दिया और ना ही वाजिब समर्थन मूल्य दिया । अब लगातार बढ़ते घाटे की वजह से किसानों को कर्जा पटाने में भारी तकलीफ का सामना करना पड़ रहा है । जबकि भाजपा शासित अन्य राज्य उत्तर प्रदेश महाराष्ट्र में कर्जा माफी की घोषणा की जा चुकी है तो रमन सरकार आखिर कर किसानों का कर्जा माफ करने से क्यों दूर भाग रही है ?
जबकि यही भाजपा सरकार औद्योगिक घरानों को उनके टैक्स में छूट देकर 4000 करोड़ तक का घाटा सरकारी खजाने पहुंचा चुकी है ।
किसान भाई भूषण गायकवाड की आत्महत्या और किसानों की लगातार गंभीर हो रही समस्याओं पर सरकार की अनदेखी को देखते हुए छत्तीसगढ़ किसान मजदूर महासंघ की राज्य समन्वय समिति की कल 18 जून को सुबह 11:00 बजे आशीर्वाद भवन रायपुर में आपात बैठक बुलाई गई है । इस बैठक में 31 किसान संगठनो के प्रतिनिधि किसान आंदोलन के संदर्भ में आगामी रणनीति पर विचार विमर्श करेंगे । इसबैठक में सरगुजा, बस्तर , बिलासपुर, रायपुर और दुर्ग संभाग से किसान प्रतिनिधि सम्मिलित होंगे ।

डॉ संकेत ठाकुर, द्वारिका साहू, रूपन चन्द्राकर, पप्पू कोसरे

संयोजक सदस्य
छत्तीसगढ़ किसान मजदूर महासंघ

Related posts

नदियां बिक गई पानी के मोल : पानी पानी छतीसगढ़ … आलोक प्रकाश पुतुल : छ: किश्तों में सम्पूर्ण अध्यन

News Desk

भाजपा के प्रतिशोध के शिकार हुये प्रगतिशील किसान कृषक डा. राजाराम .

News Desk

30अक्टूबर को देश भर में राष्ट्रीय एकता की मशाल जलाएं. – किसान सभा

News Desk