अभिव्यक्ति आदिवासी आंदोलन कला साहित्य एवं संस्कृति धर्मनिरपेक्षता महिला सम्बन्धी मुद्दे मानव अधिकार राजनीति शासकीय दमन

औरतें उट्ठी नहीं तो ज़ुल्म बढ़ता जायेगा , बिलासपुर में आयोजन 4 अप्रेल को .Women March for Change at bilaspur.

3.04.2019/ बिलासपुर 

औरतें उट्ठी नहीं तो ज़ुल्म बढ़ता जायेगा , बिलासपुर में आयोजन 4 अप्रेल को .
Women March for Change

भारत में महिलाओं के मार्च के लिए राष्ट्रीय आह्वान
बदलाव के लिए महिलाओं का वोट
डर और घृणा के ख़िलाफ़ महिलाओं की आवाज़

घृणा और हिंसा से भरे मौजूदा वातावरण के ख़िलाफ़ और लोकतान्त्रिक व्यवस्था में एक नागरिक के तौर पर अपने संवैधानिक अधिकारों की माँग के लिए देश भर में महिलाएँ 4 अप्रैल 2019 को एकसाथ मार्च में भागीदारी करने के लिए तैयार हैं . भारत में इस मार्च का उद्देश्य देश में महिलाओं के संवैधानिक अधिकारों को निशाना बनाए जाने के ख़िलाफ़ असंतोष की आवाज़ को एकजुट करना है . छत्तीसगढ़ में भी बिलासपुर में महिलाएं विभिन्न वर्ग, जाती, धर्म, समूह, और व्यवसाय से महिलाएं ४ अप्रैल को एकत्रित हो कर इस दिन आवाज़ बुलंद कर आज की दमनात्मक आर्थिक, सामाजिक, सांस्कृतिक और संसदी व्यवस्थार पर हल्ला बोलेंगी.

आपसे निवेदन है आप भी सहयोग देकर इस लड़ाई को और बुलंद करे.

स्थान: मिनी माता चौक, बिलासपुर, छत्तीसगढ़

समय और दिनांक: 4 अप्रैल, 2019, शाम के 5 बजे

प्रियंका शुक्ल – 8871067410
रजनी सोरेन- 8982844625

Related posts

क्या बस्तर की तर्ज़ पर उत्तर छत्तीसगढ़ भी जा रहा सरकार के नियंत्रण से बाहर..

News Desk

 पत्थलगांव :  भारत बंद के तहत शांतिपूर्ण बाइक रैली व ज्ञापन सौंपा गया.

News Desk

लोरमी : जमीन का पूरा हक पाने आदिवासी लगा रहे हैं अधिकारियों के चक्कर. बैगा आदिवासियों को जमीन का आधे से भी कम मिला वन अधिकार का पट्टा.

News Desk