अदालत मानव अधिकार राजकीय हिंसा

एसडीएम से मामूली विवाद में जान गंवानी पड़ी विवेक कुमार डडसेना को.जेल में हुई. मौत पर पिता व पत्नी और बच्चे को 15 लाख रुपए की क्षतिपूर्ति दे शासन . छत्तीसगढ़ हाईकोर्ट .

बिलासपुर : एसडीएम से मामूली विवाद में जान गंवानी पड़ी विवेक कुमार डडसेना को.जेल में हुई. मौत पर पिता व पत्नी और बच्चे को 15 लाख रुपए की क्षतिपूर्ति दे शासन . छत्तीसगढ़ हाईकोर्ट .

पत्रिका न्यूज

बिलासपुर , जस्टिस गौतम भादुड़ी की एकलपीठ ने पुलिस अभिरक्षा में शिक्षाकर्मी की मौत पर शासन को माता – पिता , पुत्री व पुत्र को 15 लाख रुपए की क्षतिपूर्ति देने का आदेश दिया है । विजय कुमार डडसेना हाईस्कूल पढिने तहसील पथरिया जिला बिलासपुर में पदस्थ थे । 4 अप्रैल 2009 को चुनाव पूर्व प्रशिक्षण के लिए उनकी ड्यूटी पथरिया में लगाई गई । प्रशिक्षण स्थल पर पीने पानी समेत किसी प्रकार की व्यवस्था नहीं होने पर डनसेना द्वारा एसडीएम आपत्ति दर्ज कराई गई । एसडीएम पथरिया ने आईपीसी की धारा 151 तहत कार्रवाई करने का निर्देश तहसीलदार को दिया । तहसीलदार ने कार्यवाही करते हुए 5 अप्रैल 2009 को बिलासपुर जेल भेज दिया । घर वापस नहीं आने पर डनसेना के माता – पिता ने पता लगाने की कोशिश की , आखिर उनका बेटा कहां है । किसी जानकारी दी कि उनका बेटा बिलासपुर सेंट्रल जेल में बंद है । अप्रैल 2009 को जेल अधिकारियों से जानकारी लेने पर किसी ने कुछ नहीं बताया । कहीं जानकारी मिली की उनके बेटे की मौत हो गई है और शव सिम्स घायरी में रखा है । बेटे की बिलासपुर सेंट्रल जेल मौत होने पर मृतक के पितारामखिलावन इनसेना व मां केशरबाई ने अधिवक्ता अली असगर के ग्राम से हाईकोर्ट में याचिका लगाई गई । याचिका में मामले की जांच सीबीआई या किसी अन्य एजेंसी के कराने की मांग करते हुए दोषियों पर कार्रवाई किए जाने की मांग की गई । याचिका में कहा गया कि एसडीएम के आदेश पर मृतक के साथ जेल में बुरी तरह से की गई , जिसके कारण उसकी मौत हुई है । मामले की सुनवाई के दौरान तत्कालीन एसपी शपथपत्र कोर्ट पेश किया गया , जिसमें विजय के साथ मारपीट के लिए शाम को ड्यूटी पर तैनात चक्कर अधिकारी एके मिश्रा व एस के मिश्रा के साथ जेल अधीक्षक को जिम्मेदार बताया गया था । साथ ही पहरेदार गणेश व लंबरदार को भी इस घटना में संलिप्त पाया गया

जस्टिस भादुड़ी की एकलपीठ से जेल में हुई मौत को बर्बर बताते हुए शासन को 15 लाख की क्षतिपूर्ति देने का आदेश दिया है । इसमें मृतक के माता पिता को 2 – 2 लाख , मृतक की पत्नी को 4 लाख व बच्चे को 7 लाख रुपए देने का आदेश दिया गया है । ये राशि दो माह में जमा करानी होगी।

पत्रिका न्यूज .काम से साभार

Related posts

मानवाधिकार कार्यकर्ताओं की गिरफ्तारी पर वक्तव्य : माकपा माले

News Desk

छग पी.यू.सी.एल. ने कमल शुक्ला के आमरण अनशन को समर्थन देते हुए मुख्य मंत्री से जवाब मांगा.

News Desk

देश के बहुचर्चित आदिवासियों के सामूहिक बलात्कार मामले में छत्तीसगढ़ सरकार को नोटिस

cgbasketwp