अभिव्यक्ति आंदोलन

इस बार 2 अक्टूबर को? (लेखक : विमलभाई NAPM)

आलेख : विमलभाई NAPM

गांधी जी की 150वीं वर्षगांठ पर इससे बड़ा क्रूर मजाक क्या होगा कि गांधी विचार की समाप्ति करने वाला व्यक्ति साबरमती आश्रम में जाएगा और उसको अंतरराष्ट्रीय स्तर का बनाने की बात करेगा। सुनने में आया है कि साबरमती आश्रम के ट्रस्टी भी इसे स्वीकार कर रहे हैं। अफसोस!

सरदार पटेल का भद्दा इस्तेमाल करने के बाद अब गांधी की 150वीं वर्षगांठ को भी अपने मकसद के लिए या कहिये अपनी टीआरपी बढ़ाने के लिए इस्तेमाल किया जा रहा है।

गांधी के अहिंसा के सिद्धांत को भी एक तरफ करते हुए गांधी की झाड़ू को देशभर में नचाने के बाद, अब गांधी की झाड़ू का झंडा बिल गेट्स के पुरुस्कार के तगमें से बांधा गया है। राष्ट्रवादिता का ढोल पीटने वाले पश्चिमी जगत से अपने आप को स्वच्छता का प्रतीक और देश का राष्ट्रपिता घोषित करवा रहे हैं.


तो प्रश्न गांधी के स्थापित नामलेवाओं और संस्थाओं से है कि इस बार की 2 अक्टूबर पर भी क्या सिर्फ फूल माला ही चढ़ेंगे? चरखांे से कताई होगी? मिटिंग, सेमिनार और सिर्फ वही अच्छी-अच्छी बातें हांेगी। कुछ सरकार की बुराई के साथ कुछ गांधी जी की वही आदर्शों पर चलने की कसमें खाई जायेंगी।


पर क्या 2 अक्टूबर पर कहीं कोई धरना होगा? कहीं लोग सड़क पर बैठेंगे? कहीं इस बात पर धरना होगा कि हजारों हजार दलित सफाई कर्मी नालियों में कीड़ों की तरह मर जाते है? कि बेटियों का बलात्कार करने वाले जेल में ना जाकर अस्पतालों में आराम फरमा रहे हैं? कि गांधी होते तो क्या करते से अलग, आज हम क्या करेंगे?


क्या यह बात ललकार के कही जायेगी कि सरकार झूठा राष्ट्रवाद फैला रही है। गांधी का राष्ट्रवाद सत्य और अहिंसा पर था और आज जो देश में सरकार पूरी तरह असत्य पर खड़ी है। न केवल सरकार बल्कि सरकार की पीछे की आर एस एस जैसे संगठन जो 2014 के बाद अति साधन संपन्न और शक्तिशाली हुए। वह देश के युवाओं को आक्रमक पर हिंसक बना रहे हैं हम गांधी में विश्वास रखते हुए इसका पूरा विरोध करते हैं निषेध करते हैं और संविधान की पालना का संघर्ष का संकल्प लेते हैं


मैं यहां उन आंदोलनों की, उन संगठनों की बात नहीं कर रहा जो रोज सड़कों पर उतरे हुए हैं। मैं उनकी बात कर रहा हूं जो गांधी का नाम लेते रहे हैं मगर बरसों से चुप हैं। अरे भाई मेरे तो 2014 से कान पक गए हैं और आंखों में श्मदोन्धीश् भी हो गई है। बड़ी-बड़ी कंपनियां एक व्यक्ति को, पखाना बनाने से संसार बनाने तक के लिए महान बना रही हैं।


जो काम महात्मा गांधी, भगत सिंह, बाबासाहेब, सुभाष चंद्र बोस, अशफाक उल्ला खान, श्री देव सुमन सरीखे लोग जिंदगी देकर कर पाये। उस पूरे विचार संविधान को यह व्यक्ति जड़ें खोद खोद के खत्म कर रहा है।


यह व्यक्ति जिस विचारधारा का यह पुत्र है। उस विचारधारा ने आज देश को कुतर्की भक्त बनाने में कोई कसर नहीं छोड़ी है। पिछले सालों में पंचायत चुनाव से लेकर उच्च चुनाव तक एक ही व्यक्ति का नाम प्रचारित किया गया है। जो गुजरात दंगों में संदिग्ध भूमिका में रहा जिसका साथी तड़ीपार रहा आज वह देश के सर्वाेच्च पदों पर हैं ।


देश के कानूनों में जनहित विरोधी बदलाव। मनचाही व्यवस्था लाने के लिए व शक्ति का विस्तार करने के लिए नियम और कायदों का उल्लंघन भी 2014 से आम बात हो गई है। एक तरफ हिंदुत्व वादियों को खुश करने के लिए बजट की प्रस्तुति भी लाल कपड़े में तो दूसरी तरफ कानूनों को ताक पर रखकर हवाई जहाज से पानी पर उतरना, सरदार सरोवर जैसी परियोजनाओं का उद्घाटन करना, मन की बात, मेरी बात, मैं और सिर्फ मैं। ताजा नौटंकी 1.24 लाख करोड़ रुपये, भारतीय करदाताओं के पैसे से अंतर्राष्ट्रीय नाटक में हाउडी मोदी का मतलब भारत में सब ठीक है कहना अहंकार की पराकाष्ठा है। ऐसे ही सब ठीक तो कश्मीर में क्यों दैनिक जीवन पर पर ताले है?
दलितों-मुसलमानों-आदिवासियों के हक में आवाज उठाने पर पाबंदी, खुलकर हगने पर हत्या, बलात्कारी मंत्रियों को संरक्षण । यह सभी कुछ एक व्यक्ति की छत्रछाया में ही हो रहा है। रोहित वेमुला की मां को भारत माता कहकर टसुवे बहाने वाला व्यक्ति, झारखंड को मोब लिंचिंग के लिए बदनाम ना करने की अपील करता है। कश्मीरी कैदखाने की आवाज़ों को कश्मीर की आर्थिकी के साथ कब्र में दफन करने के साथ अंतरराष्ट्रीय मंचों पर भारत की एकता का ढोल बजाता है।

चारण-भाटो की पूरी टीम है। जिसमें एक श्री रविशंकर महाराज ने जमुना के किनारे पर्यावरण नियमों को ताक पर रखकर अंतर्राष्ट्रीय नाच गाने का कार्यक्रम किया। अदालतों की भी परवाह नहीं। आज तक पांच करोड़ रुपए का जुर्माना जिसने अदा नही किया उसे पदम विभूषण से नवाजा गया। यह एक उदाहरण है। ऐसे अनेक है। जिसने जितनी चापलूसी और प्रचार में मदद की उसे उतना बड़ा पुरुस्कार। इसरो के एक प्रतिष्ठित वैज्ञानिक ने जब अंबानी से जुड़ी कंपनियों को सेटेलाइट निर्माण कार्य देने पर आपत्ति उठाई तो उनसे सभी काम छीन लिए गए तथा उन्हे कंधे पर आंसू बहाने वाले इसरो चीफ सीवन के पूरी तरह अधीन कर दिया गया। जिस आईएएस ने आवाज उठाई या सत्ता से अलग हुआ, ऐसे कश्मीर के आईएएस अधिकारी शाह फैसल को कैद किया। गुजरात के आईएएस कन्नगोपिनाथन ने कश्मीर की बुरी स्थिति के कारण इस्तीफा दिया तो उसे पाबंदियों में धकेला।

मगर बात यह भी सही है कि यह व्यक्ति जिस विचारधारा का पोषक है। वह विचारधारा को मानने वाले देश की आज़ादी में कही नही थे। इसलिए इस व्यक्ति को अरबों के खर्च के बाद, गांधी के समकक्ष खड़ा करने के लिए, एक महिला विरोधी गोरे से फादर ऑफ इंडिया कहलवा रही है। एक झूठा ही सही मगर आर एस एस को कम से कम कहने भर के लिए कोई प्रतीक मिल जाए, अमेरिका से लौटने पर जो सत्कार किए गया वह भी इसीलिये था।

झूठी शान के लिए जिस सरदार सरोवर में मध्य प्रदेश के बड़वानी जिले पुनर्वास के चिखलदा गांव को गांधी जी की मूर्ति सहित डुबाया। जिंदाबाद है नर्मदा बचाओ आंदोलन के साथियों को जिन्होंने उसे दुबारा पानी से उपर स्थापित किया और संघर्ष का नारा फिर बुलंद किया।

आइए! गांधी की 150वीं जयंती पर इस बड़े खतरनाक खतरे के खिलाफ खड़े हो। गांधी हमेशा सादगी के लिए काम करते रहे हैं। गांधी ने हमेशा इस तरह की फिजूलखर्ची वाले नाटकों का विरोध किया है और सत्य के पक्ष में खड़े हुए हैं। भले ही वे अकेले रह गए। इस बार मैं किसी समाधि पर नहीं जाऊंगा। मगर लोगों से यही बात करूंगा।

कम से कम गांधी की 150वीं जन्मदिन पर मैं केक खा कर अपना मुंह बंद नहीं रखूंगा।

डिस्क्लेमर (अस्वीकरण) :इस आलेख में व्यक्त किए गए विचार लेखक के निजी विचार हैं. इस आलेख में दी गई किसी भी सूचना की सटीकता, संपूर्णता, व्यावहारिकता अथवा सच्चाई के प्रति cgbasket उत्तरदायी नहीं है. इस आलेख में सभी सूचनाएं ज्यों की त्यों प्रस्तुत की गई हैं. इस आलेख में दी गई कोई भी सूचना अथवा तथ्य अथवा व्यक्त किए गए विचार cgbasket के नहीं हैं, तथा cgbasket उनके लिए किसी भी प्रकार से उत्तरदायी नहीं है.

Related posts

बधाई का शुक्रिया नहीं हो सकता है : रवीश कुमार

News Desk

देश मेरा ,वोट मेरा ,मुद्दा मेरा ः सेना के शहीदों के नाम पर वोट मांगना देशद्रोह है , मतदाता जागरूकता अभियान .बिलासपुर .

News Desk

असहमति की आवाज को कुचल दो! : उत्तम कुमार, सम्पादक दक्षिण कोसल

News Desk