कला साहित्य एवं संस्कृति

इतना भाव क्यूँ खा रहे हो कल मुँहे अशिष्ट , तुम बादल हो या कैपिटलिस्ट ??

बादल सरोज

नदी से नहर से, कुंए से बावड़ी से,
गमले से बाल्टी से, डबरे से घाटी से,
ताल से तलैया से, खुले में रखी कटोरी और थाली से
यहां तक कि
प्यासे पक्षियों के लिए बालकनी में लटकाये मिट्टी के बर्तनों
और दुःख और विरह में भीगी आंखों तक से भी ;
बिन पूछे बिन कहे कतरा कतरा चुराकर
खुद को कर लेते हो बदशक्ल और आकाश भर मोटा ।

जब लेना होता है तब :
और बाय द वे तुम्हे लेना नही होता कब ?
हमेशा ही तो ताक में रहते हो कि बस दिखे भर
नमी या आर्द्रता और धर लो उसे तुम अपनी गीली तिजोरी में !!
क्या है तुम्हारा अपना ?
सब कुछ तो धरती से उठाया धरा है तुम्हारे पास ।

लेने की बारी आती है तब न झिझक न संकोच न लाज न शरम
और जब लौटाने का वक़्त आया तो खुद के होने का इतना भरम
इतना भाव क्यूँ खा रहे हो कलमुँहे अशिष्ट
तुम बादल हो या कैपिटलिस्ट ??

Related posts

5. मसाला चाय कार्यक्रम में आज सुनिए शरद जोशी की कहानी “आम आदमी की पहचान “

Anuj Shrivastava

कविता संग्रह  , अनवर सुहैल  ःः  उम्मीद बाकी है अभी  ःः अजय चंन्द्रवंशी ,कवर्धा  

News Desk

सपने_देखने_की_आजादी_के_लिए_वोट ; ‘बराबरी और सामाजिक न्याय के लिए वोट दें ,अंधेरगर्द और बर्बर ताकतों को हरायें ; देेेश के प्रमुख रंंगकर्मियों ने किया आग्रह .

News Desk