अदालत नीतियां मानव अधिकार

इंदिरा जय सिंह ने कहा मानवाधिकार कार्यों के कारण यह सब हो रहा हैं. विपक्षी दलों ने छापेमारी की निंदा .

सीबीआइ टीम ने दिल्ली और मुंबई में पांच जगहों पर की छापेमारी इंदिरा जयसिंह और आनंद ग्रोवर के घर – दफ्तर पर मारे छापे .

नई दिल्ली . सुप्रीम कोर्ट की वरिष्ठ वकील एडिशनल सॉलीसिटर जनरल जयसिंह और उनके पति आनंद पर सीबीआइ का शिकंजा कस गया जांच एजेंसी ने करोड़ों रुपये के विदेशी चंदे के दुरुपयोग आरोप में घिरे ग्रोवर और उनके एनजीओ कलेक्टिव ‘ के खिलाफ एफआइआर दर्ज करते हुए दिल्ली और मुंबई में जगहों पर छापेमारी है गृह मंत्रालय ने राशि के दुरुपयोग लेकर सीबीआइ की अनुशंसा थी ।

सीबीआई केक्ष एक वरिष्ठ अधिकारी बताया कि मई के अंत में गृह मंत्रालय की ओर से जांच अनुशंसा का पत्र मिलने बाद 13 जून एफआइआर दर्ज की गई.

इसी सिलसिले में गुरुवार इंदिरा जयसिंह के दिल्ली के ईस्ट निजामुद्दीन स्थित घर दफ्तर साथ – साथ लॉयर्स कलेक्टिव मुंबई स्थित आफिस आनंद ग्रोवर केघर पर छापा मारा है । सीबीआई अफसरों ने गुरुवार सुबह पांच बजे से ही शहरों में दुरुपयोग के मामले में छापे के पर वरिष्ठ अधिवक्ता इंदिरा जयसिंह एएनआई छापेमारी शुरू कर दी थी ।

हालांकि मंत्रालय रिपोर्ट के मुताबिक सीबीआई एफआइआर में इंदिरा जयसिंह नाम नहीं है । हालांकि एफआइआर अज्ञात अफसरों निजी क्षेत्र के लोगों और सरकारी नौकरों को भी आरोपित बनाया गया है । सीबीआइ ने अपनी जांच में दावा किया है कि छानबीन में उन्हें कुछ अहम दस्तावेज भी । वरिष्ठ अधिकारी कहा कि जांच दौरान यह पता लगाने की कोशिश जाएगी कि लायर्स कलेक्टिव को चंदे में कुल कितने करोड़ रुपये की संस्था को जानबूझकर लाभ पहुंचाने कोशिश तो की गई । उन्होंने कहा कि जरूरत पड़ने मामले प्रवर्तन निदेशालय मनी लांड्रिग रोकथाम कानून के तहत जांच के लिए कहा सकता है । ताकि दुरुपयोग की राशि आरोपितों के पास से जब्त किया सके लॉयर्स कलेक्टिव लंबे समय एफसीआरए नियमों के उल्लंघन आरोपों में घिरा है । 2016 में गृह मंत्रालय टीम की ओर एनजीओ के बही खुलासा हुआ । गृह मंत्रालय की रिपोर्ट अनुसार 2006 से 2014 के बीच लॉयर्स कलेक्टिव खाते में लगभग करोड रुपये का विदेशी चंदा आया इनमें करोड़ के खर्च में अनियमितता सुबूत मिले ।

मई 2016 एनजीओ एफसीआरएलाइसेंस अस्थायी रूप निरस्त करते कारण बताओ नोटिस जारी कर दिया गया । लेकिन जवाब संतुष्ट नहीं होने के बाद दिसंबर 2016 एफसीआरएलाइसेंस निरस्त कर दिया.

मानवाधिकार कार्यों के लिए बनाया निशाना :

इंदिरा इंदिरा जयसिंह आवास के बाहर गुरुवार कि आनंद ग्रोवर और मुझे मानवाधिकार के क्षेत्र में सालों से काम करने के कारण निशाना बनाया जा रहा है. हालांकि सीबीआइ अफसरों ने छापेमारी के दौरान मिले सामान पर टिप्पणी करने से इन्कार कर दिया है ।

विपक्षी दलों ने छापेमारी की निंदा

मशहूर वकील इंदिरा जयसिंह और उनके ग्रोवर के एनजीओं “ लॉयस कलेक्टिव खिलाफ सीबीआइ की कार्रवाई पर विपक्षी दलों सांसदों ने कड़ी आलोचना उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पत्र लिखकर कार्रवाई को रोकने को कहा है कांग्रेस ,सपा , तृणमूल कांग्रेस , माकपा द्वारा हस्ताक्षरित पत्र में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को लिखा है कि

जयसिंह और उनके पति के मानवाधिकार के लिये कार्यों और उसकघ वजह से चली आ रही कार्रवाई और धमकियो बीच यह सरकार सत्ता जमकर दुरुपयोग कर रही । उन्होंने कहा कि इस दंपती ने मानवाधिकार के क्षेत्र में उल्लेखनीय काम किया है । दंपती ने प्रशासन के साथ पूरा सहयोग किया है । सहयोग के बावजूद उनके घर और दफ्तरों में छापेमारी किया जाना वाकई चौंकाने वाला है ।

**

Related posts

जगदलपुर ःः  ये दिल बहलाने नही वाले , दिल दहलाने वाले पुतले हैं… मौत का समान है .

News Desk

PUCL condemns ordinance preventing investigation against public servants : rajsthan 

News Desk

सक्रिय पत्रकार तामेश्वर सिन्हा के घर पर पुलिस ने की बिना वारंट तलाशी

News Desk