कला साहित्य एवं संस्कृति नीतियां मानव अधिकार शिक्षा-स्वास्थय

आसान नहीं है किसी बच्चे की मौत का दुख बर्दाश्त कर लेना .

मुजफ्फरपुर में रोज़ अपनी जान दे रहे वे नन्हे बच्चे इतने मासूम हैं कि अंतिम संस्कार में उनकी मृत देह को आग में जलते हुए हम कैसे देख सकते हैं ? उन्हें तो ज़मीन के हवाले ही करना होगा …। बहुत कठिन है किसी बच्चे की , जवान की या बुज़ुर्ग की मौत बर्दाश्त करना । औऱ उसमे सबसे अधिक बच्चों की , उन्होंने तो अभी दुनिया देखी ही नहीं थी .. अरे अभी अभी तो उनका जन्मदिन मनाया था और अभी अंतिम संस्कार ? शरद कोकास

कठिन है

आसान नहीं है
किसी बच्चे की मौत का
दुख बर्दाश्त कर लेना

अनदेखे सपनों की पिटारी को
डेढ़ हाथ की कब्र में दफना आना

आसान तो नहीं ही है
किसी बरगद बुज़ुर्ग की मौत पर
आँसू पी जाना

यकायक छाँव गायब पाना
अपने सर से

आसान नहीं है बिलकुल भी
किसी जवान मौत को सदमे की तरह
बर्दाश्त कर लेना

ज़िम्मेदारियों के पहाड़ों से
मुँह चुराकर निकल जाना

बहुत कठिन है
बहुत बहुत कठिन
उनकी छोड़ी हुई
दुनियाओं के बारे में सोचना

चट्टानों की तरह
अपनी जगह पर टिके रहना ।

  • शरद कोकास

Related posts

|| वेणु गोपाल || कविताएँ ,दस्तक में आज  प्रस्तुत : अनिल करमेले

News Desk

Release of report by PUDR A Pre-Decided Case: A Critique of the Maruti judgment of 2017 March 2018

News Desk

इस बहुत शोर के बीच – संपादकीय ,नथमल शर्मा 

News Desk