आदिवासी आंदोलन जल जंगल ज़मीन पर्यावरण प्राकृतिक संसाधन राजनीति

आर पार की लड़ाई हेतु बार अभ्यारण के 71 गांव का संकल्प बैठक जिसमे सभी गांव के मुखिया व पंचायत प्रतिनिधियों का हजारो की संख्या में बैठक लिया गया , अपराधी रेजर संजय रौतिया जब तक गिरफ्तार नही होगा तब तक संघर्ष जारी रहेगा : बारनवापारा

 

28.01.201

आर पार की लड़ाई हेतु बार अभ्यारण के 71 गांव का संकल्प बैठक जिसमे सभी गांव के मुखिया व पंचायत प्रतिनिधियों का हजारो की संख्या में बैठक लिया गया जिसमें सभी गांव के मुखिया व पंचायत प्रतिनिधियों द्वार यह संकल्प लिया गया की राजकुमार उसके परिवार को जब तक न्याय नही मिलेगा और अपराधी रेजर संजय रौतिया जब तक गिरफ्तार नही होगा तब तक संघर्ष जारी रहेगा

अनिश्चित कालीन धरने के छटवे दिन पर जन संघर्ष समिति बार नयापारा अभ्यारण के अध्यक्ष अमर ध्वज यादव ने लड़ाई का बिगुल फूंकते हुए कहा कि जरूरत पड़ने पर अनिश्चित कालीन धरन से भूख हड़ताल किया जाएगा एवम जगह से परिवर्तन किया जाएगा अतः उन्होंने पूरे जन संघठन को आव्हान किया है कि इस लोक तांत्रिक लड़ाई में बार अभ्यारण के पीड़ित परिवारो को न्याय दिलाने एवम वन विभाग के तानाशाही व वन विभाग के गुंडा गर्दी खिलाफ में एकजुटता दिखा कर.

रामपुर के पीड़ित परिवारो के साथ मार पीट व पीड़ित राजकुमार को ही जेल भेजने खिलाफ बार क्षेत्र की आदिवासी अब आर पार के लड़ाई के मुंड में दिख रहे है पुलिस प्रशासन द्वारा वन विभाग के रेंजर संजय रौतिया जो रामपुर के आदिवासीओ के साथ मार पीट किया है उसको पुलिस द्वारा बचाने का खेल चल रहा है पीड़ित जेल में बंद है जो मारने वाले रेंजर संजय रौतिया मजे से घूम रहे है 2013 में रामपुर को विस्थापित किया गया था लेकिन 10 परिवार विस्थापन नही होना चाह रामपुर में ही रहना चाहते है लेकिन आये दिन 4साल से वन विभाग द्वारा धमकिया दिया जाता राहा है रामपुर से भागने के नाम पर वन विभाग द्वारा रामपुर के 10 परिवार को न काम देते है उल्टा उन परिवारो को भगाने के लिये पुराने नोटिश को चस्पा कर भागने का नया नया पैतराअपनाते रहते है सरकारी योजनाओं का लाभ भी नही मिलता है स्कूल एवम आदिवासियों के आस्था का देव स्थल को तोड़ दिया गया है रामपुर के बच्चे आज शिक्षा से वंचित है 15 तारीख को वन विभाग के रेंजर संजय रौतियाअपने दल बल के साथ व बया चौकी पुलिस वालो को फोन करके बुलाकर पुलिस के साथ मिला कर गली गलौज करते हुए रामपुर के आदिवासी परिवार वालो के साथ मार पीट व जान से मारने का कोशिश किया गया और पीड़ित परिवार के राजकुमार के खिलाफ छूटे केस दर्ज करवा कर 25बतारिक को घायल राजकुमार को इलाज हेतु मेकाहारा ले जाते समय पुलिस अपने दल बल के साथ गिरफ्तार कर पुलिस रोब दिखाया गया जबकि राजकुमार सिर पर गंभीर चोट है और सिने मे दर्द है जबकी राजकुमार को इलाज का सकता जरूरत है वन विभाग के रेंजर संजय रौतिया को बचाने का प्रयास पुलिस प्रशासन द्वारा कर रहे है .

उसके विरोध में 23 तारिक से बया चौकी के सामने जन संघर्ष समिति एवम दलित आदिवासी मच के बैनर तले बार अभ्यारण क्षेत्र के सैकड़ो आदिवासियों ने अनिश्चित कालीन धरने पर बैठे हुए है

**

देवेंद्र की रिपोर्ट

Related posts

आपातकाल : सीताराम येचुरी ने अरूण जेटली को संघ प्रमुख के माफीनामे और इंदिरा गांधी के समर्थन की याद दिलाई .

News Desk

भिलाई : लोकतांत्रिक इस्पात एवं इंजीनियरिंग मजदूर यूनियन संयंत्र के प्रतिनिधि यूनियन चुनाव में .

News Desk

तीकोरन में निर्दोष लोगों पर जालियांवाला बाग़ की तर्ज़ पर पुलिस और तमिलनाडु सरकार द्वारा हत्याओं की पी.यू.सी.एल. घोर निंदा करता है.

News Desk