नीतियां राजकीय हिंसा राजनीति हिंसा

असम आने-जाने वाली सभी यात्री ट्रेनें निलंबित, इंडिगो ने रद्द की उड़ानें

एनडीटीवी इंडिया में प्रकाशित ख़बर-

नागरिकता संशोधन विधेयक के खिलाफ असम और त्रिपुरा में हो रहे हिंसक विरोध प्रदर्शनों का असर यातायात पर पड़ रहा है. रेलवे ने असम और त्रिपुरा आने-जाने वाली सभी यात्री ट्रेनों को निलंबित कर दिया और लंबी दूरी वाली ट्रेनों को गुवाहाटी में ही रोका जा रहा है. वहीं विमानन कंपनी इंडिगो ने डिब्रूगढ़ आने-जाने वाली सभी फ्लाइट्स कैंसल कर दी हैं. कंपनी ने यात्रियों को इसके लिए अल्टरनेट फ्लाइट लेने या रिफंड की पेशकश की है.

पूर्वोत्तर सीमांत रेलवे के प्रवक्ता सुभानन चंदा ने बताया कि सुरक्षा स्थिति को देखते हुए यह फैसला बुधवार रात में लिया गया,  जिसके बाद कई यात्री कामाख्या और गुवाहाटी में फंस गए. बुधवार रात गुवाहाटी में अनिश्चितकाल के लिए कर्फ्यू लगा दिया गया था क्योंकि यहां प्रदर्शनकारियों ने असम के मुख्यमंत्री सर्बानंद सोनोवाल और केंद्रीय मंत्री रामेश्वर तेली के घर को निशाना बनाया था.

असम के मुख्यमंत्री के गृहनगर डिब्रूगढ़ के चबुआ में प्रदर्शनकारियों ने बुधवार रात एक रेलवे स्टेशन को आग लगा दी थी. इसके अलावा तिनसुकिया जिले में पानीटोला रेलवे स्टेशन को भी आग के हवाले कर दिया गया.  आरपीएफ कुमार के महानिदेशक अरुण कुमार ने पीटीआई-भाषा को बताया कि रेलवे सुरक्षा विशेष बल (आरपीएसएफ) की 12 कंपनियों को क्षेत्र में भेजा गया है.

बता दें कर्फ्यू के बावजूद गुरुवार सुबह लोग सड़कों पर निकल आए थे. सेना ने शहर में सुबह फ्लैग मार्च निकाला. भारी संख्या में नाकेबंदी के बाद असम के कई शहरों में सड़कों पर वाहन फंसे हुए हैं. पांच-छह वाहनों में आग भी लगा दी गई. राज्य के कई हिस्सों में भाजपा और असम गण परिषद (अगप) के नेताओं के घर पर भी हमले हुए. असम पुलिस के अतिरिक्त महानिदेशक (कानून एवं व्यवस्था) ने कहा, ‘अगले आदेश तक कर्फ्यू लगा रहेगा. हम स्थिति पर करीबी नजर रख रहे हैं और अब तक स्थिति नियंत्रण में है.’

Related posts

सुकमा मुठभेड़ : आम निरपराध आदिवासियों को मारने का आरोप : मुख्यमंत्री ने कहा गोली खाओ या समर्पण करो ,सुरक्षा बलों ने 15 आदिवासियों को मार गिराया और गृहमन्त्री ने पीठ थपथपाई .

News Desk

सिम्स बिलासपुर ः मृत बच्चों के परिजनों को मुआवजा और जिम्मेदार लोगो के खिलाफ कार्यवाही करे छत्तीसगढ़ सरकार ःः प्रियंका

News Desk

कलकत्ता में जूनियर डॉक्टरों पर हुआ हमला निंदनीय, सरकार चिकित्सकों की सुरक्षा सुनिश्चित करे .डा.दिनेश मिश्रा

News Desk