जल जंगल ज़मीन पर्यावरण

अरपा को बहने दो . रूब़रू में चर्चा , नवल शर्मा और प्रथमेश मिश्रा से.

एक समय बिलासपुर की जीवनरेखा कही जाने वाली अरपा नदी, जो शहर के बीच से गुज़रती हुई पूरे शहर को तर करती थी, अब एल लम्बा मैदान बन चुकी है. अति दोहन के चलते अब अरपा नदी रेत से भी ख़ाली हो गई है. सख्त मिट्टी के मैदान में बदल चुकी अरपा अब ठीक तरह से पानी भी नहीं सोख पाती.

सीजीबास्केट के इस ख़ास कार्यक्रम “रूबरू” में आज चर्चा कर रहे हैं अरपा नदी से जुड़े इतिहास, इसके सूख जाने के कारणों और समाधान के विषय में. कार्यक्रम में हमारे मेहमान  हैं कवि व पर्यावरण विद नवल शर्मा और पेशे से इंजीनियर, तेवर से सामाजिक कार्यकर्ता व ज़हन से पर्यावरण चिंतक की तरह कार्य करने वाले प्रथमेश मिश्रा.

रब़रू के लिये चर्चा की रंगकर्मी अनुज श्रीवास्तव ने सीजीबास्केट के लिये .

Related posts

तीकोरन में निर्दोष लोगों पर जालियांवाला बाग़ की तर्ज़ पर पुलिस और तमिलनाडु सरकार द्वारा हत्याओं की पी.यू.सी.एल. घोर निंदा करता है.

News Desk

घर के परिसर में दो पेड़ लगाए बिना घर का रजिस्ट्रेशन नहीं मिलेगा . केरल का कोडंगलूर शहर

News Desk

कोयलीबेड़ा। मेटाबोदेली माइंस से त्रस्त होकर ग्रामीण विरोधस्वरूप सड़क पर उतरने को मजबूर हो गए हैं।

News Desk