आंदोलन दलित महिला सम्बन्धी मुद्दे मानव अधिकार राजकीय हिंसा राजनीति

अनुसूचित जाति की महिला के साथ सामूहिक बलात्कार के बाद लगातार प्रताड़ना और राजनैतिक सरंक्षण की शर्मनाक कहानी : जिला मुंगेली के पथरिया थानांतर्गत ग्राम ढोढापुर

सामाजिक कार्यकर्ता विजयशंकर पात्रे की रिपोर्ट 

11.01.2018

**

फ़िर एक बार मानवता को शर्मशार कर देने वाली घटना ने पूरे छत्तीसगढ़ शर्मिंदा कर दिया है.जिला मूँगेली के पथरिया थानांतर्गत ग्राम ढोढापुर
में एक अनुसूचित जाति की महिला के साथ कुछ भेड़िये प्रवृत्ति के लोगों ने गैंगरेप की घटना को अंजाम दिया है।
पिछले महीने 4 दिसंम्बर 2017 को आरोपी जितेंद्र राजपूत पीड़िता के माँ को अपशब्द कहे जिस पर पीड़िता की माँ ने विरोध किया तो बात और बढ़ने लगी फिर आरोपी ने पीड़िता के माँ से कहा कि वो अपनी बेटी को 30000 रुपये में उसके पास भेजे वह उसकी इज्जत बिगाड़ते हुए पूरे गाँव में घुमाएगा उसके साथ खुलेआम बलात्कर करेगा और आरोपी ने कहा कि तुम लोग मेरा कुछ बिगाड़ नहीं सकते मैं भाजपा का नेता हूँ धरमलाल कौशिक ,लखन साहू, बंशी साहू
के रहते तक मेरा कुछ नहीं कर सकते कहते हुए पीड़िता के माँ के हाथ को पकड़ कर उसके साथ मारपीट करने लगे,हाथ तोड़ने की कोशिश की गई जिससे हाथ की चूड़ियाँ टूट गई और चोट भी लगी।
इसके बाद रिपोर्ट लिखाने थाने गए लेकिन थाने में रिपोर्ट नहीं लिखा गया।

लिखित आवेदन देकर वापस आ गए।

दूसरे दिन 5/12/2017 को पीड़िता जो कि आंगनबाड़ी सहायिका है आंगनबाड़ी के लिए पानी भरने नल गयी हुई थी तो उसे देखते ही आरोपी जितेंद्र राजपूत ने उसे अश्लील गालियाँ देना शुरू कर दिया कि उसकी माँ ने उसके ख़िलाफ़ रिपोर्ट लिखाने गयी थी।

और कहा कि मेरा क्या कर लिए मेरा कुछ नहीं हुआ और फिर जातिगत गालियाँ देते हुए पीड़िता के हाथ पकड़ कर खींचते हुए घर की ओर ले जाने का प्रयास किया तब मुश्किल से पीड़िता अपना हाथ छुड़ाकर वहाँ से भागी और आँगनबाड़ी को बंद कर घर आकर अपने माता पिता को घटना की जानकारी दी। फिर रिपोर्ट लिखाने थाना गए तब एस.आई ने रिपोर्ट नहीं लिखूँगा कहा तथा जो भी है उसे लिखित में देने को कहा मगर फिर भी कोई कार्यवाही नही हुई। इसके बाद 7 दिसंम्बर 2017 को अनुसूचित जाति कल्याण थाना मूँगेली गए वहाँ रिपोर्ट लिखाई गयी किन्तु कोई कार्यवाही नहीं हुई।

इसके बाद बदस्तूर आरोपियों ने पीड़िता को गालीगलौच करते रहे.. और कहते कि रिपोर्ट लिखाने गए थे क्या कर लिया मेरा..मैं तेरी ऐसी तैसी करूँगा..

फिर 27 दिसंम्बर 2017 को मध्यरात्रि 2 बजे पीड़िता टॉयलेट के लिए बाहर गयी क्यूँ कि घर का टॉयलेट टूट गया था।
तभी वहाँ आरोपी करण सिंह राजपूत पिता माजीराम राजपूत उधर छिपे हुए थे उसने पीड़िता के मुह को दबाकर स्कूल के पास ले गए और उसके साथ बलात्कार किया।
आरोपी के भाई जितेंद्र राजपूत खुलेश्वर राजपूत ने भी अश्लील कार्य किया।
फिर आरोपियों ने पीड़िता को घर ले जाकर उसे लातघूसों डंडे और तवा से ख़ूब मारपीट किये उसे जान से मारने की कोशिश किये।
आरोपी की माँ टीबी बाई और बहन करुणा बाई व मनीषा बाई ने थूककर पीड़िता को चटवाया तथा उसके बाल खींचकर मारे भी।
जब चीखने चिल्लाने की आवाज़ सुनके पीड़िता की माँ बचाने आई तो उसे धक्के मारकर बाहर कर दिए और पीड़िता के साथ मारपीट करते रहे।
पीड़िता की माँ उसी समय थाने गयी एक मुंशी रिपोर्ट लिखा मगर कोई कार्यवाही के लिए नहीं आये। पीड़िता को आरोपी रात भर बंदी बना कर रखे रहे।
दूसरे दिन 28/12/2017 को सुबह 10 बजे आरोपी पीड़िता को छोड़ने आये तो पीड़िता की माँ ने कहा कि इसे मैं क्या करूँगी इसे अपने घर में ही रखो कह कर चली गयी।

फिर पीड़िता सरपंच ममता राजू खूँटे के पास गई और पूरी घटना की जानकारी दी फिर कोटवार के पास सूचना देने गयी, कोटवार थाना जाने को कहा और मैं 5 मिनट में पहुँच जाऊँगा बोला लेकिन कोटवार थाना नहीं पहुँचा।
फिर जब थानेदार को रिपोर्ट लिखने को कहा गया तो थानेदार ने रिपोर्ट लिखने से मना कर दिया और कहा कि जाओ जहाँ जाना है मैं रिपोर्ट नहीं लिखूँगा।
इसके बाद फ़िर पीड़ित एस.पी. कार्यालय गयी वहाँ डीएसपी मैडम ने थाना प्रभारी को रिपोर्ट लिखने को कहा और पीड़िता को वापस पथरिया थाना भेज दिया गया।
जब पीड़िता वापस पथरिया थाना पहुँची तो देखी कि आरोपियों के साथ प्रदेश भाजपा अध्यक्ष व पूर्व विधानसभा अध्यक्ष धरम लाल कौशिक ,बिलासपुर सांसद लखन लाल साहू, और जनपद पंचायत सदस्य बंशी साहू थाने में मौजूद हैं।
रात्रि 9 बजे के आसपास पीड़िता थानेदार को रिपोर्ट लिखने को बोली तो थानेदार उससे बद्तमीजी और डाँट फटकार लगाते हुए कहा कि
मैं मुलाहिजा के लिए पत्र बना रहा हूँ अभी रिपोर्ट नहीं लिखूँगा मैं अपने हिसाब से रिपोर्ट लिखूँगा तुम्हारे कहने से थोड़ी लिखूँगा।
फिर पीड़िता को डॉक्टरी मुलाहिज़ा के लिए सरगांव भेजा गया। जाँच केंद्र में पीड़िता ने देखा कि धरमलाल कौशिक और लखन साहू महिला डॉक्टर से बात कर रहे थे, पीड़िता को समझने में देर नहीं लगी कि दोनों किस उद्देश्य से वे डॉक्टर से बात कर रहे है।
फिर पुलिस वाले ने कल रिपोर्ट लिखेंगे कहकर
पीड़िता को वापस घर भेज दिया।
दूसरे दिन 29/12/2017 को बयान के लिए एक मैडम के पास पीड़िता को लाया गया तब पीड़िता के बातों को लिखा गया। लेकिन कोई पावती नहीं दिया गया।
इसके बाद सियाराम कौशिक विधायक के साथ पीड़िता आई.जी. के पास शिकायत लेकर गए तो आई जी के द्वारा कार्यवाही का आश्वासन दिया गया।
रिपोर्ट की कॉपी 31/12/2017 को दिया गया।
दिनाँक 5/1/2018 को मजिस्ट्रेट बयान हुआ लेकिन अभी तक कोई कार्यवाही नहीं हुई है।

 

आरोपियों/अपराधियों की गिरफ़्तारी नहीं हुई है।
अपराधी भाजपा के दिग्गज नेता धरमलाल कौशिक और लखन साहू के संरक्षण में है
भाजपा शासन के संरक्षण में है।
ये नेता और भाजपा सरकार बलात्कारियों के संरक्षक बने हुए है।
हम अपराधियों की तुरंत गिरफ्तारी की माँग करते हैं।

आगामी 26 जनवरी को अंबेडकर चौक बिलासपुर में  भाजपा नेता धरमलाल कौशिक ,लखन साहू और  भाजपा सरकार का पुतला दहन किया जाएगा ।

**

विजय शंकर पात्रे
सामाजिक कार्यकर्ता
समस्त न्यायपसंद नागरिकगण
बिलासपुर,छत्तीसगढ़

Related posts

छत्तीसगढ़ सामाजिक बहिष्कार अधिनियम’’ कितना प्रासंगिक_ *संगोष्ठी* का आयोजन

News Desk

उद्योग मंत्री कवासी लखमा का विधानसभा में एलान ; बस्तर में अदानी को घुसने नहीं देंगे .

News Desk

इन आदिवासी लडकियों को मिलना था सरकारी अनुदान पर 3 साल से एक रुपिया भी नहीं मिला

News Desk