आदिवासी जल जंगल ज़मीन पर्यावरण

अनुसूचित क्षेत्र में नहीं खरीदी जा सकती जमीन

बिलासपुर  नईदुनिया

हाई कोर्ट ने माना है कि अनुसूचित क्षेत्र में जनजाति की भूमि कलेक्टर की अनुमति के बाद भी नहीं खरीदी जा सकती है इसके साथ मामले में भूमि की खरीदी बिक्री को शून्य कर दिया है । दंतेवाड़ा जिले के बड़े बचेली में गैर अनुसूचित जनजाति वर्ग के कुछ लोगों ने कलेक्टर से अनुमति प्राप्त कर अनुसूचित जनजाति वर्ग की भूमि को खरीदा ।

बस्तर कमिश्नर ने प्रावधान नहीं होने के कारण कलेक्टर द्वारा दी गई अनुमति को निरस्त कर दिया । इसके खिलाफ खरीदारों ने हाई कोर्ट में याचिका दाखिल की  इसमें कहा गया छत्तीसगढ़ भू राजस्व संहिता 1959 165 ( 6 ) , ( 1 ) के अनुसार कक्षत्र में कलेक्टर से अनुमति प्राप्त कर अनुसूचित जनजाति वर्ग की जमीन गैर आदिवासी भी खरीद सकते हैं । इसलिए खरीदी अवैध नहीं है। हाई कोर्ट ने सुनवाई उपरांत आदेश में कहा कि छत्तीसगढ़ भू राजस्व संहिता 1959 की धारा 165 ( 6 ) , ( 1 ) के अनुसार अनुसूचित क्षेत्र में कलेक्टर से अनुमति प्राप्त होने के बाद भी अनुसूचित जनजाति की जमीन गैर अनुसूचित जनजाति का व्यक्ति नहीं खरीद सकता है । कंट खरीदी बिक्री के लिए हुए व्यवहार का शून्य घोषित किया जा सकता है।

Related posts

कांकेर: बीएसएफ ने दो ग्रामीणों को अवैध तरीके से गिरफ्तार कर गायब किया। परिजनों ने लगाया आरोप। परतापुर कैंप का मामला. पखांजूर में पुलिस से लगाई न्याय की गुहार.

News Desk

बस्तर : एडसमेट्टा गाँव कि महिलाओं ने पुलिस पर लगाया मारपीट का आरोप

News Desk

कांकेर ज़िले में ” जमीन अदला बदली” पीड़ित ग्राम में बेदखली की प्रक्रिया आरम्भ: छत्तीसगढ़ बचाओ आन्दोलन ने जताई चिन्ता , वन अधिकार पत्रक अप्राप्त, पांचवी अनुसूची एवं पेसा कानून का भी उल्लंघन .

News Desk