आदिवासी जल जंगल ज़मीन राजकीय हिंसा

अडानी का विरोध कर रहे आदिवासी युवक को पुलिस ने गोली से उड़ाया:हिमांशु कुमार

कल रात पोदिया और उसके साथी को पुलिस ने गोली से उड़ा दिया

यह दोनों आदिवासी युवा छत्तीसगढ़ के बैलाडीला में अडाणी का विरोध कर रहे थे

इससे पहले इनके साथी गुड्डी को भी पुलिस ने गोली से उड़ा दिया था

गुड्डी ने अडाणी के लोगों द्वारा पेड़ काटना बंद करवा दिया था

अडाणी ने बैलाडीला की नंद राज पहाड़ी पर 2000 पेड़ काट डाले थे

गुड्डी ने पेड़ काटने वाले लोगों को वहां से भगा दिया था

इसके बाद पुलिस ने जाकर गुड्डी को गोली से उड़ा दिया

सोनी सोरी जब दंतेवाड़ा के एसपी अभिषेक पल्लव से मिलने गई

तभी अभिषेक पल्लव ने कह दिया था कि मैं गुड्डी के साथी पोदिया को भी गोली से उड़ा दूंगा

सोनी सोरी ने फ्रंटलाइन की महिला पत्रकार को पहले ही बता दिया था कि एसपी अब पोदिया की हत्या करेगा

और कल रात एसपी ने पोदिया को गोली से उड़वा दिया

जो आदिवासी आपके बच्चों की सांसें बचाने के लिए इस देश के जंगलों को बचा रहे हैं

बड़े पूंजीपतियों से पैसा लेकर पुलिस अधिकारी उन आदिवासियों को गोली से उड़ा रही है

आपको बताया जा रहा है कि यही विकास है

लेकिन इसमें तो सिर्फ अडाणी का विकास होगा

बस्तर के आदिवासी मारे जाएंगे

और आपके बच्चे बिना ऑक्सीजन के तापमान बढ़ने से मारे जाएंगे

लेकिन खेल देखिए

आप आदिवासी के मरने पर आवाज नहीं उठाएंगे

और आप अडाणी के पक्ष में बोलेंगे

पुलिस की जय जयकार करेंगे

आप अपने बच्चे का गला खुद घोटेंगे

और इसे विकास तथा राष्ट्रवाद से जोड़ कर पुलिस और अडाणी की जय बोलते रहेंगे

आदिवासियों ने सोनी सोरी और बेला भाटिया को गांव बुलाया है

वे लोग पोदिया और उसके साथी की मौत की हत्या की एफआईआर कराने की कोशिश करेंगे

हम जानते हैं पुलिस एफआईआर. नहीं करेगी

इस मामले को कोर्ट में ले जाया जाएगा

लेकिन बहुत सारे मामले पहले भी कोर्ट में ले जाए गए

न्याय तो वहां से भी नहीं मिला

इस समय आदिवासी ही खतरे में नहीं है

आप भी खतरे में है

आपका लोकतंत्र संविधान विकास सब खतरे में है

लेकिन आप समझ नहीं रहे हैं

हिमांशु कुमार

Related posts

आदिवासियों की चिंता क्यों है तुम्हें? – ग्लैडसन डुंगडुंग

News Desk

लखनऊ में जो योगी कर रहे हैं, अपने विरोधियों को लेकर हिटलर का ठीक यही रवैया था

News Desk

डिपोजिट 13.ः इसे कहते है अस्वीकृतियों को स्वीकृतियों में बदलने का खेल .राज्य सरकार चाहे तो वापस ले सकती हैं पूर्व सरकार की सहमति – आलोक शुक्ला .

News Desk