तलवार की धार की तरह तेज होता राजस्थान का किसान आंदोलन महिलाएं भी झांसी की रानी बनकर उतरी संघर्ष के मैदान में, ** प्रदेश की सत्ताधारी सरकार के हाथ पांव फुल चुके है बौखलाहट साफ नजर आ रही है रानी सरकार की तकरीबन 12 जिलो में किसान आँदोलन की चिंगारी फैल चूकी है राजस्थान की
Complete Reading

22.8.17 ** नन्द कश्यप  पूरे देश के उत्तर मध्य और दक्षिणी हिस्से में 16 अगस्त तक बारिश सामान्य से कम है, मध्यप्रदेश और छत्तीसगढ़ में सूखे के हालत ,बाज़ार द्वारा नियंत्रित मीडिया जनता के सामने इस सचाई को सिर्फ इसलिए नही ला रहा क्योंकि शेयर बाज़ार में गिरावट आ जायेगी, सरकार को लोककल्याण के कामों
Complete Reading

21  8.17 *** एक बात मेरे ज़ेहन में लगातार उमड़ घुमड़ रहा था कि जब आज भी आर एस एस की स्वीकार्यता भारतीय जनमानस में न्यून है, फिर एक विशाल जन आन्दोलन से निकली कांग्रस पार्टी आर एस एस की रणनीति से पस्त कैसे हो गई, आज राजीव गांधी का जन्मदिन है ,और कांग्रेस को
Complete Reading

अगस्त 17 ** संघीय ढाँचे की वकालत करने वाले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सत्ता संभालने के बाद के बाद सहकारी संघवाद की वकालत की, लेकिन व्यवहार में ठीक उल्टा ही हो रहा है. त्रिपुरा और पश्चिम बंगाल के मुख्यमंत्रियों ने कई बार संघीय ढांचे को कमजोर करने की शिकायत खुलकर की है. इतना ही नहीं,
Complete Reading

** संघीय ढाँचे की वकालत करने वाले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सत्ता संभालने के बाद के बाद सहकारी संघवाद की वकालत की, लेकिन व्यवहार में ठीक उल्टा ही हो रहा है. त्रिपुरा और पश्चिम बंगाल के मुख्यमंत्रियों ने कई बार संघीय ढांचे को कमजोर करने की शिकायत खुलकर की है. इतना ही नहीं, अतिकेद्रीकृत व्यवस्था
Complete Reading

हमें सत्ता और उसके लिए युद्ध को देशभक्ति के नजरिए से देखने की आदत सी हो गई है लेकिन हम भूल जाते हैं इन युद्धों के साथ आती हैं बदहालियां बलात्कार एक स्थाई क्रूरता जो अगले युद्ध की भूमिका तैयार करती हैं इसी संदर्भ में कुमार अंबुज की यह कविता कुछ कहती है. नन्द कश्यप 
Complete Reading

नन्द कश्यप ** क्या फर्क होता है एक इंसान और इंसान में, वैज्ञानिक कहते हैं दुनियाभर के मनुष्यों में जेनेटिक असमानता दसमलव शून्य चार और पांच से ज्यादा नहीं होती, क्या फर्क होता है एक इंसान और इंसान में कोई कह सकता है कि उसमें भय प्रेम क्रोध दया संवेदना नहीं है वो फराओ हो
Complete Reading

…अमेरिका ने कहा कि भारत और चीन सीधे बातचीत से सीमा विवाद हल करें , भारत की छवि हमेशा से विश्व शांति के लिए प्रतिबद्ध देश की रही है और हम सारी दुनिया को शांति का संदेश देते रहे हैं, लेकिन आज विश्व बाजार और साम्राज्यवाद ही है जो युद्वोन्माद पैदा करने वाली ताकतों को
Complete Reading

  नंद्कश्यप की तीन कवितायेँ [दस्तक में प्रकाशित ] मैं एक प्रतिबद्ध एक्टिविस्ट हूं,आप सभी को पढ़ता हूं कि बेहतर समाज निर्माण के लिए कुछ मिले, कविता, कहानी लिखना मेरे बस की बात नहीं, और व्यवस्था की भाषा में अराजक भी, इसलिए कोई कैरियर की गुंजाइश भी नहीं, छत्तीसगढ़ के बिलासपुर में रहता हूं फिर
Complete Reading

Create Account



Log In Your Account