हर पल हँसते चले जाना जाना है ज़िन्दगी …… ** ज़हीन सिंह

हर पल हँसते चले जाना जाना है ज़िन्दगी …… ** ज़हीन सिंह

हर पल हँसते चले जाना जाना है ज़िन्दगी ……
**
ज़हीन सिंह
23 अगस्त 2017

**
कुछ करना है ,कुछ बढ़ना है आसमान को छूना हैं
उसमे सपनो के पंख लगा के बादलों से ऊँचा उड़ना हैं.
हिम्मत की चादर ओढ़े ,होसले का बांध बनाना हैं ….
मुश्किलें भरी आँधियों में भी पत्थर की तरह डटना हैं
कुछ करना हैं ,बहुत बढ़ना है , आसमाँ से आगे बढ़ना हैं //

जब भी लगे की कुछ ठीक नहीं ,खुद के आंसुओं से रोज लड़ना है
हर सुबह फिर हवा के कानो में कहना है ,एक दिन आएगा मेरा ..
जब न लड़ना पड़ेगा आंसुओं से ,सिर्फ खुशहाली ही खुशहाली
होगी चारो तरफ …
यह कहने की हिम्मत खूब जुटाना है ..
खूब उथलपुथल है दिल के अन्दर उसे शांतशील बनाना हैं .\

बस मुस्कराना है , बस मुस्कराना है ,और आगे खुद से यह कहते जाना हैं
तुम्हे अब अपना हुनर दिखाना है .
जो सिखाया पापा ने जो सिखाया मम्मा ने ,उसे सच करके दिखाना हैं

कोन कहता है कि झुक जाएंगे या रुक जायेंगे
अब ज़माने को भी कुछ करके दिखाना हैं ,
बहुत हुआ अब समझना और समझाना ,अब तो अपने आप को बड़ा करके दिखाना है .
सोचा था बचपन में गुड्डो गुड़ियों का खेल है यह जिंदगी
पर ज़िन्दगी को ज़िन्दगी से चुराना है ,ज़िन्दगी ..
हर पल हंसते चले जाना है ज़िन्दगी ….
****

CG Basket

Leave a Reply

Create Account



Log In Your Account



%d bloggers like this: