यह संवेदनहीनता नहीं है तो और क्या हैं ?
पहले पिता ने फिर 17 साल के किशोर ने की खुदकशी , नगरनिगम के मकान तोड़ने से आहत थे पिता पुत्र .
हाईकोर्ट के स्थगन के बाबजूद झोपडी तोड़ने पहुचे निगमकर्मियो ने बच्चे की मरने की बात पर कहा , की मरना है तो मर ,मकान तो टूटेगा ही आज नहीं तो कल .
कुछ महीने पहले इसी बच्चे के पिता ने भी की थी अपनी झोपडी को बचाने के लिए

.*****

[1 जुलाई 2017 ]

बिलासपुर / 17 साल के बच्चे की उम्र ही क्या होती हैं ,जब उसे अपने झोपडी के रूप में पूरा भविष्य दिखे और उसके देखते ही देखते उसी आशियाने को तोडने नगरनिगम के लोग आमदा हों . उसने अपनी आखरी कोशिश भी की और उन पिशाचों से कहा भी की मेरी झोपडी मत तोड़ो नहीं तो में कहाँ रहूँगा ,यदि यह नहीं बचा तो वो मर जायेगा .इसपेर नगनिगम के कर्मचारी ने कह दिया की मरना है तो मर घर तो आज नहीं तो कल टूटेगा हैं .सबसे बड़ी बात तो यही की इन्हियो मकानों को तोड़ने के खिलाफ छत्तीसगढ़ हाईकोर्ट ने स्टे कर दिया था ,
इस दुर्भाग्य पूर्ण कहानी का दुखद पक्ष यह है की मृतक भोला साहू के पिता संजय साहू ने भी दो साल पहले नगरनिगम के लोगो द्वारा माकन तोड़ने की धमकी से दुखी होकर आत्म हत्या के ली थी ,आत्महत्या के जानकारी मिलते ही नगरनिगम का अमला वहां से भाग खड़ा हुआ और पदिसियो से कहां की तुम लोग पुलिस में रिपोट कर दो ,उस समय भोला की माँ और बड़ा भाई मजदूरी करने बहार गये थी ,आत्महत्या की खबर सबसे पहले उसके 10 वर्षीय छोटे भाई को मिली और जब वो अपने घर में गुषा तो सामने उसके बड़े भाई का शव लटका दिखा .

पूरी घटना

बिलासपुर के सरकंडा थाना में नाग नागिन पारा में अतिक्रमण हटाने नगरनिगम का अमला पंहुचा ,उन्हें मालूम था की इन झोपियो को हटाने के खिलाफ कोर्ट ने स्टे दिया है इसके बाबजूद नगरनिगम के लोगो ने वहां रहने वालो को धमकाना शुरी किया ,और इओसी में एक नाबालिग बेटे की बली ले ली .
कहा जा रहा है की निगम कर्मियों के यह कहने पर की आज नहीं तो कल यह सब माकां टूटेंगे ही इस पर भोला [17 वर्षीय ] ने विरोध किया और कहा की यदि मेरा माकन तोडा गाया तो में मर जाऊंगा .यह भी कहा की में आत्महत्या कर लूँगा .इसपर उन लोगो ने धमकाते हुए कहा की मरना है तो मर ,माकन तो टूटेगा ही आज नहीं तो कल .इसपर उस बच्चे ने भागकर अपने घर में जाकर फंदे से लटककर अपनी जान देदी .
नगरनिगम के लोग और पार्षद के पति मिलकर लोगो से सहमती पत्र पर हस्ताक्षर करवा रहे थे की हम सब अपना मकान कुहिद छोड़कर जाने को तैयार हैं .इस तरह के सहमती पत्र निगम के कर्मचारी और पुलिस पहुची थी ,वह लोग कुछ मकानो को तोड़ भी रहे थे और बंकि से सहमती पत्र भरवाए जा रहे थे,.

नायडू कर रहा था दलाली और दबाब डाल रहा था .

मोहल्ले वासियों का कहना है की नायडू नाम के व्यक्ति ने इस पुरे घटनाक्रम मेम्ह्त्वपूर्ण भूमिका अपने है ,लोगो का कहना है की नायडू ही बार बार यहाँ आकर माकन खली करवाने और देख लेने की धमकी दे रहा था .
राहुल ने दी थी धमकी की की भले ही फाँसी लगा ले हम माकन खली करा के ही लोटेंगे .,

मकांन खाली करने के विवाद में रहुल नाम के निगमकर्मी ने ही कहा था की तू भले ही फाँसी लगा ले हम माकन खली करा के हो लोटेंगे .

कांग्रेस ने की एफआईआर दर्ज करने की मांग

बिलासपुर कोंग्रेस ने आज ही सीएसपी शलभ सिन्हा को ज्ञापन सोम्पते हुए मांग किया कि निगम आयुक्र ,नगम दस्ता प्रभारी ,और भाजप पार्षद के पति के खिलाफ प्रताड़ना और आत्महत्या के लिए प्रेरित करने का मुकदमा दर्ज होना चाहिए .

***

CG Basket

Leave a Reply

Create Account



Log In Your Account



%d bloggers like this: