धान पर बोनस की घोषणा भारतीय जनता पार्टी के हित में अधिक किसानों के लिए कम लाभकारी

धान पर बोनस की घोषणा भारतीय जनता पार्टी के हित में अधिक किसानों के लिए कम लाभकारी

31.8.17♥

छत्तीसगढ़ किसान मजदूर महासंघ ने आज मुख्यमंत्री डॉक्टर रमन सिंह की बोनस संबंधी घोषणा को किसानों के लिए कम भारतीय जनता पार्टी के लिए अधिक हितकारी बताया है । महासंघ के संचालक मंडल की बैठक में सभी सदस्यों ने यह महसूस किया कि वर्तमान भाजपा सरकार किसानों को लेकर घनघोर संवेदनहीन है और सिर्फ उसे अपने चुनाव जीतने की चिंता  है । किसान महासंघ  पिछले तीन महीनों से प्रदेश भर के किसान भारतीय जनता पार्टी के संकल्पों 300 रु बोनस,  शून्य प्रतिशत ब्याज पर लोन, स्वामीनाथन कमेटी की सिफारिश के अनुरूप लागत पर डेढ़ गुना समर्थन मूल्य की घोषणा, 2100 रुपय समर्थन मूल्य, एक एक दाना धान की खरीदी, धान का समर्थन मूल्य मुफ्त बिजली आदि संकल्पों की याद भाजपा के विधायकों और मंत्रियों को करा रहे हैं । प्रदेश भर में हुये किसान आंदोलन से सरकार ने घबराकर बोनस का ऐलान जरूर किया लेकिन अपने संकल्पों को भाजपा ने पूरा नहीं किया और आज की घोषणा शुद्ध रूप से चुनावी घोषणा है जिसमें सिर्फ 1 साल के बोनस का ऐलान कर डाक्टर रमन सिंह किसान आंदोलन को खत्म करना चाहते हैं ।

किसान महासंघ के संचालक मंडल की बैठक में रूपन चंद्राकर, द्वारिका साह,ू आलोक शुक्ला, पारसनाथ साहू, श्रवण चंद्राकर,गोविंद चंद्राकर, पप्पू कोसरे, लक्ष्मी नारायण, गौतम बंदोपाध्याय, वीरेंद्र पांडे, डॉक्टर संकेत ठाकुर उपस्थित हुए ।

आज जाहिर हो गया कि भारतीय जनता पार्टी को किसानों की आत्महत्या, किसानों की बढ़ती कृषि  लागत, कर्ज आदि से कोई लेना देना नहीं है ।  प्रदेश की 50 तहसीलों में भयंकर सूखा पड़ा है लेकिन सूखाग्रस्त किसानों के लिए किसी भी तरह के राहत पैकेज का ऐलान नहीं करने से जाहिर है कि वह किसानों के प्रति संवेदनहीन है ।

आज की बहु प्रचारित आपात बैठक में बोनस की घोषणा कर रमन सिंह ने सन 2018 के चुनाव को साधने की कोशिश की है कि उसे विधानसभा में विशेष सत्र करने की कोई आवश्यकता नहीं है ना मंत्रिमंडल में चर्चा करने की जरूरत है और वह सिर्फ और सिर्फ इससे चुनावी स्वरुप देने की कोशिश कर रहे हैं  ।

**
छत्तीसगढ़ किसान मजदूर महासंघ

CG Basket

Related Posts

Leave a Reply

Create Account



Log In Your Account



%d bloggers like this: