शरद पवार के सपनो की बदरंग सिटी  लवासा .
***
सुनसान ,बेरंग ओर भुतिहा
लवासा सिटी पुणे .
***
आप भी शायद कभी गये होंगे  पूणे  डेड़ घंटे की  दुरी
पर शरद पवार ने बसायी हैं लवासा  सिटी .
हाँ ,वही शरद पवार जिन्हें  पदमविभूषण सम्मान मिलने की चर्चा थी  और केंद्र ,राज्य में कई बार मंत्री रहे .
लवासा सिटी दो बड़े पहाडो पर बसाये स्वप्न शहर जैसा है.
लगभग पूरे पहाडी पर बनाए सिंगल डबल ओर मल्टीस्टोरी  ,छितरे इधर उधर ,धूलधूसरित ओर मटमैले बेरंग से मकान .
हजारो नहीं तो कई सौ तो होंगे ही .
पहाड़ पर बने मकान लगभग सभी खाली भुतिहा से लगते.
पानी के लिए  दो बड़े इंटेक बेल ,इसके पानी से ही कत्रिम नदी सा आभास .
शहर के अमीर जादो का अपनी काली कमाई को ठिकाने लगाने का आसान तरीका .
मल्टीस्टोरी में करोड़ों का खर्च फिर भी सुनसान .
बड़े बड़े होटल ,सेमिनार हाल ,रेस्टारेंट में बहार सिर्फ बरसात के चार महीने बस ,फिर वेसे ही .
एक तालाब के किनारे को लन्दन सा सजाया ,वैसी ही बिल्डिंग वैसे ही किनारा , धनाडय लोगो की ऐशगाह .
**
किसी को मालुम हो तो बतायें कि इतने खुबसूरत पहाड़ को बेचने का हक़  शरदपवार को किसने दिया .
पहाड़ी पर बनाये हजारो मकान के लिए जमींन किसने और कैसे बेचीं .
पहाड़ के मालिक कोन ,कब और कैसे बन गए.
अभी तक खनिज के लिए पहाड़ की लीज सुनी थी ,
लेकिन ऐशगाह बनाने के लिए पहाड़ों की बिक्री पहली बार सुनी .
किसी से भी पूछो ,सबका जबाब एक ही की यह शहर शरदपवार ने बसाया है ,लेकिन कैसे ,कोई  नहीं जानता .
पहाड़  के करोडो पेड काट दिये गये , कंक्रीट का जंगल खड़ा ही गया , पहाड पर रहने वाले लोग ,पशु ,पक्षी , जानवर कहाँ गये ,पूरी ईकोलाजी बदलने के लिए कोन जिम्मेदार है. क्या सिर्फ शरदपवार या पूरा सिस्टम !
**
में मार्च की 13 तारीख ,सन 17 को गया  . अब  जब लौट रहा हूँ  तब बहुत निराश हूँ  ,कई पहाड़ियों की इस दुर्दशा को देखकर .
**
पूणे
14.3.17

cgbasketwp

Leave a Reply

Create Account



Log In Your Account



%d bloggers like this: