विभाजन के वक्त देखा क्रूर साम्प्रदायिक यथार्थ,:  “तमस और भीष्म साहनी ”  और अपने वक्त की तमस रचने का समय… : प्रलेसं इंदौर का आयोजन .

रिपोर्ट :  सारिका श्रीवास्तव 10 अगस्त 2018 / इंदौर   प्रगतिशील लेखक संघ, इंदौर इकाई द्वारा 8 अगस्त 2018, भीष्म साहनी के जन्मदिवस पर केनरिस कला वीथिका में बैठक आयोजित की गई। प्रलेसं इंदौर इकाई के अध्यक्ष एस के दुबे ने भीष्म साहनी का परिचय देते हुए कहा कि भीष्म साहनी की रचनाओं में उस समय
Complete Reading

प्रेमचंद के स्त्री पात्र   रिपोर्ट :  सारिका श्रीवास्तव 04.08.2018 प्रगतिशील लेखक संघ, इंदौर  एवं  भारतीय महिला फेडरेशन, .इंदौर  के संयुक्त तत्वाधान में प्रेमचन्द जयंती पर 1 अगस्त 2018 को कस्तूरबा रूरल महाविद्यालय, इंदौर की छात्राओं के साथ सामाजिक ढाँचे में स्त्री व्यथा और प्रेमचन्द की कलम विषय पर परिचर्चा की गई। इसके साथ ही 1 अगस्त
Complete Reading

मंटो का लिखा पढ़ने के बाद कई दिनों तक दिमाग पर तारी रहता है। मंडराता ही रहता है। लगता है मंटो जिंदा हैं और आज के हालात पर ही लिख रहे हैं। इस्मत और मंटो को लेकर अनेक घटनाएँ, किस्से हैं। आज इस्मत की मंटो से पहली मुलाकात पर एक संस्मरण। इस्मत की कलम से.
Complete Reading

13.04.2018 इंदौर   सारिका श्रीवास्तव की रिपोर्ट    8 अप्रैल 2018। इंदौर (मध्य प्रदेश)। प्रगतिशील लेखक संघ के स्थापना दिवस की पूर्व संध्या पर शहर से करीब 30 किलोमीटर दूर सिमरोल के सागरपैसा गाँव में किसानों, मेहनतकशों और मजदूरों के साथ उनकी समस्या पर परिचर्चा की। प्रधानमंत्री सड़क योजना को पन्द्रह साल होने को आए हैं
Complete Reading

13.04.2018 इंदौर   सारिका श्रीवास्तव की रिपोर्ट    8 अप्रैल 2018। इंदौर (मध्य प्रदेश)। प्रगतिशील लेखक संघ के स्थापना दिवस की पूर्व संध्या पर शहर से करीब 30 किलोमीटर दूर सिमरोल के सागरपैसा गाँव में किसानों, मेहनतकशों और मजदूरों के साथ उनकी समस्या पर परिचर्चा की। प्रधानमंत्री सड़क योजना को पन्द्रह साल होने को आए हैं
Complete Reading

Create Account



Log In Your Account