91 वर्ष की उम्र तक मजदूरों, मेहनतकशों के हक में खड़ी रहने वाली जीवट पेरिन दाजी आज हमारे बीच नहीं रहीं. ःः कॉमरेड_पेरीन_दाजी_को_दी_गई_अश्रुपूरित_विदाई..

6.02.2019 पेरिन दाजी का जन्म 25 नवम्बर 1939 में एक सम्पन्न पारसी परिवार में हुआ था। सुविधाजनक जीवन को छोड़कर कॉमरेड होमी दाजी के साथ प्रेम और शादी कर इस संघर्ष में खुद ही शामिल हो गईं। 18 बरस की आयु में कॉमरेड होमी दाजी से शादी के बाद पेरिन Continue Reading

दस्तावेज़ ःः    सवाल करने पर विज्ञान इनाम और धर्म देता है सजा ःः  “विज्ञान एवं संस्कृति” विषय पर आयोजित वैचारिक सत्र .

 “धर्म का उपयोग जोड़ने में नहीं तोड़ने में किया जा रहा है। अंतिम रूप से इंसान एक है, उसकी बनावट एक है यह विज्ञान हमें बताता है”  -भगत सिंह   हरनाम सिंह एवं  सारिका श्रीवास्तव, इंदौर इप्टा सम्वाद 3 के वैचारिक सत्र “विज्ञान और संस्कृति” 30 अक्टूबर, 2018, इप्टा के Continue Reading

दस्तावेज़ ःः इप्टा राष्ट्रीय प्लैटिनम जुबली समारोह में प्रदर्शनियाँ .

“फ़िलहाल तस्वीरें इस समय हम नहीं बना पायेंगे अलबत्ता पोस्टर हम लगा जायेंगे ।”   हरनाम सिंह, इंदौर सारिका श्रीवास्तव, इंदौर   इप्टा राष्ट्रीय प्लैटिनम जुबली समारोह के मौके पर भारतीय नृत्य कला मंदिर के बहुद्देश्यीय सांस्कृतिक परिसर की गैलेरी में प्रदर्शनियाँ लगाई गईं। इस बहुद्देश्यीय परिसर को मशहूर चित्रकार Continue Reading

दस्तावेज़ ःः कहानी….सच की कहानी…. “एक वीरान पुस्तकालय”

9.11.2018 प्रस्तुति सारिका श्रीवास्तव  73 की आयु में पी. व्ही. चिन्नातम्बी एक सुनसान पुस्तकालय चलाते हैं। केरल के इडुक्की जिले के वीरान जंगल के बीच 160 पुस्तकों से भरी–कालजयी रचनाओं से सुसज्जित-पुस्तकों को गरीब मुथावनादीवासीयो द्वारा नियमित तौर पर लिया, पढ़ा एवं वापस किया जाता है पी.साईंनाथ अनुवाद: सिद्धार्थ चक्रवर्ती* Continue Reading

फिल्म समीक्षा : बारां माजिद – मजीदी की एक ईरानी फिल्म :. महज़बीं

सारिका श्रीवास्तव की प्रस्तुति  17.09.2018 ‘बारां माजिद – मजीदी की एक ईरानी फिल्म है ….इस फिल्म की खासियत यह है कि फिल्म की नायिका बिना बोले अपने किरदार को बाखूबी निभाती हैं… ज़्यादा उम्र नहीं उनकी लगभग 14/15 साल की हैं… इतनी कम उम्र में बिना बोले अपने किरदार को Continue Reading

आडम्बर और राजनीति के प्रपंचों को बेनकाब करते परसाई :  प्रगतिशील लेखक संघ, देवास

23.08.2018 देवास , मध्य प्रदेश रिपोर्ट सारिका श्रीवास्तव   हरिशंकर परसाईजी की जयंती पर प्रलेसं ने देवास जिले के ग्राम नागदा के सरकारी विद्यालय में किया संगोष्ठी का आयोजन. कार्यक्रम की शुरुआत छात्रा जया जारोलिया द्वारा हरिशंकर परसाई के जीवन परिचय के साथ हुई। विद्यालय की छात्राओं शबिस्ता शेख व आसिया शेख Continue Reading

विभाजन के वक्त देखा क्रूर साम्प्रदायिक यथार्थ,:  “तमस और भीष्म साहनी ”  और अपने वक्त की तमस रचने का समय… : प्रलेसं इंदौर का आयोजन .

रिपोर्ट :  सारिका श्रीवास्तव 10 अगस्त 2018 / इंदौर   प्रगतिशील लेखक संघ, इंदौर इकाई द्वारा 8 अगस्त 2018, भीष्म साहनी के जन्मदिवस पर केनरिस कला वीथिका में बैठक आयोजित की गई। प्रलेसं इंदौर इकाई के अध्यक्ष एस के दुबे ने भीष्म साहनी का परिचय देते हुए कहा कि भीष्म साहनी Continue Reading

इंदौर ,प्रलेसं और महिला फेडरेशन का आयोजन : “सामाजिक ढाँचे में स्त्री व्यथा और प्रेमचन्द की कलम” प्रेमचन्द जयंती .

प्रेमचंद के स्त्री पात्र   रिपोर्ट :  सारिका श्रीवास्तव 04.08.2018 प्रगतिशील लेखक संघ, इंदौर  एवं  भारतीय महिला फेडरेशन, .इंदौर  के संयुक्त तत्वाधान में प्रेमचन्द जयंती पर 1 अगस्त 2018 को कस्तूरबा रूरल महाविद्यालय, इंदौर की छात्राओं के साथ सामाजिक ढाँचे में स्त्री व्यथा और प्रेमचन्द की कलम विषय पर परिचर्चा की गई। Continue Reading

मंटो ऐसे जिया और ऐसे मरा इस्मत चुगताई

मंटो का लिखा पढ़ने के बाद कई दिनों तक दिमाग पर तारी रहता है। मंडराता ही रहता है। लगता है मंटो जिंदा हैं और आज के हालात पर ही लिख रहे हैं। इस्मत और मंटो को लेकर अनेक घटनाएँ, किस्से हैं। आज इस्मत की मंटो से पहली मुलाकात पर एक Continue Reading

इंदौर : प्रगतिशील लेखक संघ के स्थापना दिवस की पूर्व संध्या पर शहर से करीब 30 किलोमीटर दूर सिमरोल के सागरपैसा गाँव में किसानों, मेहनतकशों और मजदूरों के साथ उनकी समस्या पर परिचर्चा की.

13.04.2018 इंदौर   सारिका श्रीवास्तव की रिपोर्ट    8 अप्रैल 2018। इंदौर (मध्य प्रदेश)। प्रगतिशील लेखक संघ के स्थापना दिवस की पूर्व संध्या पर शहर से करीब 30 किलोमीटर दूर सिमरोल के सागरपैसा गाँव में किसानों, मेहनतकशों और मजदूरों के साथ उनकी समस्या पर परिचर्चा की। प्रधानमंत्री सड़क योजना को पन्द्रह Continue Reading