जनपक्षधरता रचनाकार को बड़ा बनाती है प्रस्तुति: अनुपम भट्ट

16 अप्रैल, 2018 बिजूका .कॉम से  आभार सहित  ”अल्पना मिश्र अपनी कहानियों में पाठक के लिए स्पेस बनाती हैं. मतलब यह कि उनकी कहानियों में ऐसे बिंदु तेजी से आते हैं जो पाठक से उम्मीद करते हैं कि वह लेखक द्वारा छोड़ी गई जगहों को खुद भरेगा. यह अपने आप Continue Reading

यातना, स्वप्न और जीवनः जी. एन. साईबाबा की कारावास कविताएं – अनुवाद अंजनी कुमार , प्रस्तुतकर्ता  सत्यनारायण पटेल 

यातना स्वप्न और जीवन अंजनी कुमार आभार बहुत बहुत  https://bizooka2009.blogspot.in/2018/04/blog-post_11.html?m=1 जी. एन. साईबाबा जी. एन. साईबाबा दिल्ली विश्वविद्यालय के रामलाल आनंद कालेज में अंग्रेजी के एसिस्टेंट प्रोफेसर हैं। उन्होंने अध्यापन का कार्य 2003-04 की अवधि में शुरू किया।  2010-2011 में अपना शोध प्रबंध लिखा और गिरफ्तारी के कुछ समय बाद Continue Reading