शिकागो का भाषण : मुझे तो झूट का पुलंदा नज़र आया, उसमे इतिहास की पूरी उपेक्षा की गई है -कवँल भारती

12.11.2017 स्वामी विवेकानंद को उनके जिस शिकागो भाषण के लिए सबसे ज्यादा याद किया जाता है, उसका पुनर्पाठ होना चाहिए। मैंने 1977 में उस भाषण को पढ़ा था, जिसे श्रीरामकृष्ण आश्रम, नागपुर ने “शिकागो वक्तृता ” शीर्षक से छापा था। आज मैंने उस भाषण को फिर से पढ़ा। सच कहूँ, मुझे वह झूट का पुलिंदा
Complete Reading

-विनीत तिवारी-सारिका श्रीवास्तव 5 सितम्बर 2017 को बेंगलुरु की पत्रकार एवं सम्पादक सुश्री गौरी लंकेश की सम्प्रदायवादियों द्वारा हत्या कर दी गई। इसके प्रति अपना विरोध और आक्रोश दर्ज कराने 7 सितम्बर 2017 को शाम 5 बजे से इंदौर में रीगल चौराहे, गाँधी प्रतिमा पर करीब 400-450 लोग एकत्र हुए।  नरेंद्र दाभोलकर, गोविंद पानसरे और
Complete Reading

रायपुर, 8 सितंबर 2017। कर्नाटक में सांप्रदायिक ताकतों तथा अंधश्रद्धा के खिलाफ मुखर आवाज वरिष्ठ पत्रकार गौरी लंकेश की निर्मम हत्या कर दी गई, यह हत्या ठीक उसी तरह से की गई है जिस तरह से कलबुर्गी, दाभोलकर और पानसारे की हत्या की गई थी। बड़े मुर्ख हैं दक्षिणपंथी , सांप्रदायिक , धर्मांध कट्टरपंथी विचारधारा
Complete Reading

** राजनंदगांव से हजारों किसान करेंगे मार्च 21 सितम्बर को घेरेंगे मुख्यमंत्री निवास सूखा घोषित कर फसल ऋण माफ़ करने की मांग, पिछले तीन सालों से बोनस भुगतान और स्वामीनाथन आयोग की सिफारिशों के अनुसार फसल की लागत मूल्य का डेढ़ गुना लाभकारी समर्थन मूल्य के रूप में देने को लेकर जिला किसान संघ के
Complete Reading

7 सितम्बर 17 अगर उन्हें हिंदूओं की फिक्र होती तो हिंदू किसान आत्महत्या न करते यदि उन्हें हिंदू बच्चों की फिक्र होती तो सैकड़ों बच्चे सरकारी अस्पतालों में मारे न जाते क्यों उनका मुकद्दम कहता कि बच्चे पालना सरकार का काम नहीं ? यकीन मानिए यह लड़ाई सिर्फ हिंदू और मुसलमान की नहीं है ।  
Complete Reading

7 सितम्बर 17 * ये घर से बुलाकर  नहीं कहते कि कपड़े उतारो,  नहाओ, और गैस चेम्बर में जाओ । ये घर से बुलाकर, सड़क पर, सब्जी खरीदते, कहीं भी सीधे गोली मार देते हैं । अपने विरोधियों को मारकर जश्न मनाना इनकी सांस्कृतिक परम्परा है । इन्होंने सबको मारकर जश्न मनाया , ताड़का से
Complete Reading

कल रात से रीढ़ में फिर से बहुत दर्द है लेकिन उससे ज़्यादा दर्द एक पोस्ट पढ़कर हुआ जिसमे लिखा है गौरी लंकेश का असली नाम पैट्रिक था और वो मूलतः ईसाई थी और उसे ईसाई धर्म प्रचार करने के लिए पैसे देते थे इसलिए उसने उनके लिए गौरी लंकेश पैट्रिक अखबार शुरू किया था.
Complete Reading

मुझे संघी होने में क्या समस्या है? राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ एक सांस्कृतिक संगठन है, राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ ही भारतीय जनता पार्टी का वैचारिक आधार है, भारतीय जनता पार्टी भारत की सत्ताधारी पार्टी है, भारतीय जनता पार्टी का विचार ही भारत सरकार का विचार है, यानी राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ के विचार ही अब
Complete Reading

PEOPLE’S UNION FOR CIVIL LIBERTIES 270-A, Patpar Ganj, Opposite Anand Lok Apartments, Mayur Vihar I, Delhi 110 091 Phone 2275 0014 PP FAX 4215 1459 Founder: Jayaprakash Narayan; Founding President: V M Tarkunde President: Ravi Kiran Jain; General Secretary: Dr. V. Suresh E.mail: puclnat@gmail.com& pucl.natgensec@gmail.com *** 06th September, 2017 Pucl Statement on the Assassination of
Complete Reading

कुमार की प्रस्तुति गौरी लंकेश नाम है पत्रिका का। 16 पन्नों की यह पत्रिका हर हफ्ते निकलती है। 15 रुपये कीमत होती है। 13 सितंबर का अंक गौरी लंकेश के लिए आख़िरी साबित हुआ। हमने अपने मित्र की मदद से उनके आख़िरी संपादकीय का हिन्दी में अनुवाद किया है ताकि आपको पता चल सके कि
Complete Reading

Create Account



Log In Your Account