डॉ आम्बेडकर : एक बहुआयामी व्यक्तित्व : प्रोफेसर हेमलता महिश्वर 

13.04.5019 हिंदी विभाग, जामिया मिल्लिया इस्लामिया नई दिल्ली. “डॉ अम्बेडकर सिर्फ दलितों के थोड़े ही हैं, वे तो हम सबके हैं। मैं भी उनके जयंती समारोह में जो राशि इकट्ठा की जा रही है, उसमें सहयोग देना चाहूँगा।” मेरे साथी डॉ विवेक दुबे ने यह कहा तो मुझे यकीन करने Continue Reading

में सुजोय मंडल बोल रहा हूं : 9 अप्रैल 2014 चिंतागुफा नक्सल हमले को लेकर एक्स कोबरा सुजोय मंडल ने प्रेस से कहा- कि भले ही घटना को पांच साल बीत गए पर उनका दर्द आज भी हरा है,अब और क्या अच्छे दिन आएंगे..

सुजोय मंडल , एक्स कोबरा जवान  12.04.2019 नितिन सिन्हा  कोलकाता / आमतौर पर हर व्यक्ति के जीवन काल मे कुछ अच्छी-बुरी ऐसी घटनाएं घटती है,जिसकी कसक उसे ता-उम्र बनी रहती है। वह इन घटनाओं को चाह कर भी भुला नही पाता है। ऐसी ही एक घटना को याद करते हुए Continue Reading

देशबंधु के साठ साल : ललित सुरजन 

11.04.2019 मायाराम सुरजन ,देशबंधु के संस्थापक  देशबन्धु ने साठ साल का सफर तय कर लिया है। हीरक जयंती के लिए बस दो दिन शेष हैं। शुभ मुहूर्त के हिसाब से रामनवमी संवत् 2016 को रायपुर से देशबन्धु का प्रकाशन प्रारंभ हुआ था। प्रचलित कैलेण्डर के हिसाब से तारीख थी 17 Continue Reading

बस्तर की लड़ाई सिर्फ एक सीट या वोट की लड़ाई नहीं है : रूचिर गर्ग

11.04.2019 बस्तर की लड़ाई आदिवासियों के उन सवालों की लड़ाई है जिनका हवाला देकर माओवादियों ने वहां पैर जमाए और उनके कथित प्रभाव के लगभग साढ़े तीन दशक बाद भी यदि कुछ हासिल हुआ है तो बंदूक ,बारूद और खून में इज़ाफ़ा । बंदूक इधर की हो या उधर की, Continue Reading

जब मीडिया संस्थान साहेब के चरणों में बिछ जाया करता था. ःः राजकुमार सोनी का पूरा वक्तव्य और उनकी आप बीती ..

9.04.2019 जब मीडिया संस्थान साहेब के चरणों में बिछ जाया करता था. पत्रकार सुरक्षा कानून पर राष्ट्रीय सम्मेलन 17 मार्च 2019 को रायपुर मे हुआ उसमें वरिष्ठ पत्रकार राजकुमार सोनी बता रहें थे कि भाजपा शासन के दौरान उनकी कलम रोकने के लिये कैसे कैसे हथकंडे अपनाये जाते थे .  Continue Reading

चौकीदार चोर नहीं दंगाई है : अमेरिका में भारतीयों ने लगाए नारे…

प्रस्तुत अनुज श्रीवास्तव    अमेरिका के न्यूयॉर्क शहर में भारतीय दूतावास के बाहर सैकड़ो भारतीय सामाजिक कार्यकर्ताओ और अलग-अलग संगठनों के द्वारा एक बड़ा विरोध प्रदर्शन आयोजित किया गया.  ये विरोध प्रदर्शन मोदी सरकार की लगातार बढ़ती ज्यादतियों के ख़िलाफ़ किया गया.   विरोध प्रदर्शन में शामिल मनोज ने हमें इस विरोध प्रदर्शन Continue Reading

राजनीतिक रिपोर्टिंग के दौरान होती है पत्रकारों की मौत –बस्तर में हो चुकी हैं पत्रकारों की मौत कारण आज तक नहीं आए बहार .. वही कई पत्रकार है जा चुके जेल …

रिपोर्टिंग के दौरान रखना चाहिए वास्तु स्थिति का ध्यान– द कमिटी टू प्रोटेक्ट जर्नलिस्ट्स ,सीपीजे के भारतीय संवाददाता ने बीजापुर में चुनावों को कवर करने वाले पत्रकारों के लिए  सुरक्षा किट वितरित किया.  पुष्पा रोकड़े  की  रिपोर्ट  बीजापुर / 7.04.2019 द कमिटी टू प्रोटेक्ट जर्नलिस्ट्स (सीपीजे) के प्रतिनिधि  बीजापुर में Continue Reading

औरतें उट्ठी नहीं तो ज़ुल्म बढ़ता जायेगा Women March for Changeभारत में महिलाओं के मार्च के लिए राष्ट्रीय आह्वान, बिलासपुर और भिलाई में हुआ प्रतिरोध मार्च.

बदलाव के लिए महिलाओं का वोट डर और घृणा के ख़िलाफ़ महिलाओं की आवाज़. आज पूरे देश के बीस राज्यों के 145 स्थानों पर महिलाओं ने घृणा और नफ़रत के खिलाफ़. सड़कों पर मार्च किया . छत्त्तीसगढ के भिलाई और बिलासपुर में बड़ी संख्या में महिलायें सडकों पर निकलीं . Continue Reading

  द कमिटी टू प्रोटेक्ट जर्नलिस्ट्स ,सीपीजे के भारतीय संवाददाता ने रायपुर में चुनावों को कवर करने वाले पत्रकारों के लिए  सुरक्षा किट वितरित किया.

रायपुर, 3 अप्रैल, 2019: द कमिटी टू प्रोटेक्ट जर्नलिस्ट्स (सीपीजे) के प्रतिनिधि ने आज रायपुर में स्थानीय पत्रकारों से मुलाकात की और सीपीजे द्वारा बनाई गई “चुनावों को कवर करने वाले पत्रकारों के लिए सुरक्षा किट” की प्रतियां वितरित की.    सीपीजे की इमरजेंसी रिस्पांस टीम (ईआरटी) ने अंतर्राष्ट्रीय कार्यप्रणाली Continue Reading

औरतें उट्ठी नहीं तो ज़ुल्म बढ़ता जायेगा , बिलासपुर में आयोजन 4 अप्रेल को .Women March for Change at bilaspur.

3.04.2019/ बिलासपुर  औरतें उट्ठी नहीं तो ज़ुल्म बढ़ता जायेगा , बिलासपुर में आयोजन 4 अप्रेल को . Women March for Change भारत में महिलाओं के मार्च के लिए राष्ट्रीय आह्वान बदलाव के लिए महिलाओं का वोट डर और घृणा के ख़िलाफ़ महिलाओं की आवाज़ घृणा और हिंसा से भरे मौजूदा Continue Reading