सरकार बदलने से जंगल जमीन खनिज की कारपोरेट लूट खत्म नही होती.:, संदर्भ सरगुजा परसा केते

सरकार बदलने से जंगल जमीन खनिज की कारपोरेट लूट खत्म नही होती। पर्यावरण का विनाश करने पर भी अडानी जैसी कंपनियो पर प्रशासन मेहरबान बना ही रहता हैं । सरगुजा में अडानी द्वारा संचालित परसा ईस्ट केते बासन कोयला खदान से साल्ही नाला जो अटेम नदी से हसदेव में मिलता Continue Reading

खुलासा :  सरगुजा स्थित हसदेव अरण्य के सघन वन क्षेत्र में नियम विरुद्ध गलत तथ्यों के आधार पर परसा कोल ब्लाक को जारी की गई पर्यावरणीय स्वीकृति .

15.03.2019  आदिवासियों की आजीविका, संस्कृति और पर्यावरण के बजाए कार्पोरेट मुनाफे के लिए प्रतिबद्ध हैं मोदी सरकार l छत्तीसगढ़ के हसदेव अरण्ड कोल फ़ील्ड्स में स्थित परसा कोल ब्लॉक को केन्द्रीय वन पर्यावरण एवं क्लाइमेट चेंज मंत्रालय की पर्यावरण प्रभाव आकलन समिति (EAC) ने पर्यावरणीय स्वीकृति प्रदान करने की अनुशंसा Continue Reading

सरगुजा स्थित हसदेव अरण्य के सघन वन क्षेत्र में नियम विरुद्ध गलत तथ्यों के आधार पर परसा कोल ब्लाक को जारी की गई पर्यावरणीय स्वीकृति :छत्तीसगढ़ बचाओ आन्दोलन एवं  हसदेव अरण्य बचाओ संघर्ष समिति.

14.03.2019 रायपुर  आदिवासियों की आजीविका, संस्कृति और पर्यावरण के बजाए कार्पोरेट मुनाफे के लिए प्रतिबद्ध हैं मोदी सरकार . छत्तीसगढ़ के हसदेव अरण्ड कोल फ़ील्ड्स में स्थित परसा कोल ब्लॉक को केन्द्रीय वन पर्यावरण एवं क्लाइमेट चेंज मंत्रालय की पर्यावरण प्रभाव आकलन समिति (EAC) ने पर्यावरणीय स्वीकृति प्रदान करने की Continue Reading

अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस : महिला विरोधी हिंसा ,अवैध गिरफ्तारीयों ,फासिस्ट दमन , के खिलाफ रायपुर में महिला अधिकार मंच का थरना, प्रदर्शन तथा बड़ी संख्या में गिरफ्तारी .

रायपुर 8 मार्च , रायपुर  आज रायपुर में अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस के अवसर पर महिला अधिकार मंच छत्त्तीसगढ ने प्रदेश में हिंसा के अलग-अलग रूपों का जैसे प- मजदूरों की आजिविका छीनना या उनको न्यूनतम वेतन ना देना, महिलाओं पर तेजाब छिडकाव, अत्यधिक संसाधनों के खनन, विस्थापन तथा वंचितों के Continue Reading

छत्तीसगढ़ के सरगुजा जिले में : अदानी कंपनी की खनन परियोजना के विरोध के प्रभावित ग्रामीणों ने ब्लॉक आफिस उदयपुर तक 28 किलोमीटर की पदयात्रा …

5.03.2019 : सरगुजा . सरगुजा जिले के उदयपुर जिले में संचालित परसा ईस्ट केते बासन कोयला खदान एवं प्रस्तावित परसा कोल ब्लॉक राजस्थान राज्य विधुत उत्पादन निगम लिमिटेड को आवंटित हैं, इसका खनन का ठेका MDO के माध्यम से अडानी कंपनी के पास हैं l इन दोनों परियोजनाओं को यहाँ Continue Reading

15 दिन की जांच समिति अस्वीकार : 128 दिन के लंबे उपवास पर सरकार गंभीर नहीं

  28 फरवरी, 2019 मातृ सदन हरिद्वार में 26 वर्षीय उपवासरत आत्मबोधानंद जी का आज 128वां दिन है। देशभर में प्रदर्शनों, समर्थन में भेजे जा रहे पत्रों के बावजूद भी सरकार गंभीर नहीं नजर आती। हमारी जानकारी में आया है की सरकार ने सात निर्माणाधीन बांधो की ताजा स्थिति जानने Continue Reading

सर्वोच्च न्यायालय में वनाधिकार कानून के तहत आदिवासी तथा परंपरागत वनवासियों के जंगल अधिकार को मान्यता देने पर केंद्र -राज्य सरकारों के ढुल मुल रवैये का छत्तीसगढ़ पी यू सी एल ने कडा एतराज़ किया है .

बिलासपुर .26.02.2019 रायपुर में सम्पन्न राज्य स्तरीय सम्मेलन के मौके पर एक प्रस्ताव पारित कर कहा कि केंद्र और राज्य सरकारों द्वारा सुप्रीम कोर्ट में समुचित पैरवी नही करने के कारण ही देश के एक करोड़ परिवार आज जबरन बेदखली के मुहाने पर हैं जो किसी भयंकर त्रासदी से कम Continue Reading

छत्त्तीसगढ ःः संवैधानिक हकों और वन संसाधनों पर अधिकारों के लिए ग्राम सभाओं की एकजुत्ता :  वन अधिका कानून को उसकी मूल भावना के अनुरूप के अनुसार लागू करना हमारी सरकार की पहली प्राथमिकता.: आदिवासी विकास मंत्री .

 मोरगा ,कोरबा / 24 फ़रवरी 2019  छत्त्तीसगढ बचाओ आंदोलन के संयोजक आलोक शुक्ला ने बताया कि कोरबा  ज़िले के ग्राम मोरगा में सुप्रीम कोर्ट द्वारा 13 फरवरी को देश के लाखों आदिवासियों व वन समुदायों के खिलाफ आये आदेश के बाद ग्राम सभाओं का महाजुटान हुआ। अपनी तरह के विशिष्ट Continue Reading

उद्योग मंत्री कवासी लखमा का विधानसभा में एलान ; बस्तर में अदानी को घुसने नहीं देंगे .

रायपुर / 23.02.2019 छत्तीसगढ़ विधान सभा में आज उद्योगमंत्री कवासी लखमा ने कहां की हम उद्योग विरोधी नहीं हैं ,लेकिन गरीब आदिवासियों का नुकसान करके हम किसी को उद्योग नहीं लगाने देंगें. उन्होने अनुदान मानगो पर चर्चा करते हुए स्पष्ट रूप से कहा कि अदानी को किसी  भी कीमत पर Continue Reading

उद्योग मंत्री कवासी लखमा का विधानसभा में एलान ; बस्तर में अदानी को घुसने नहीं देंगे .

रायपुर / 23.02.2019 छत्तीसगढ़ विधान सभा में आज उद्योगमंत्री कवासी लखमा ने कहां की हम उद्योग विरोधी नहीं हैं ,लेकिन गरीब आदिवासियों का नुकसान करके हम किसी को उद्योग नहीं लगाने देंगें. उन्होने अनुदान मानगो पर चर्चा करते हुए स्पष्ट रूप से कहा कि अदानी को किसी  भी कीमत पर Continue Reading