संगीत के पुरोधा खुमानलाल साव का चले जाना एक युग का अंत. उत्तम कुमार .

सम्पादक दक्षिण कोसल छत्तीसगढ़ी संगीत के पुरोधा खुमान साव का चले जाना एक युग की समाप्ति कहा जा सकता है। दक्षिण कोसल ने 2015 के अंक में उनसे लंबी बातचीत की थी। विडंबना देखिए की उन्हें पद्मश्री जैसे सम्मान से नहीं नवाजा गया था। लंबे संघर्षों के बाद 2016 में Continue Reading

बिलासपुर : बावरा-मनः प्राचीन शास्त्रीय संगीत ‘ध्रुपद’ पर सागर की बंदिशें सुनकर मंत्रमुग्ध हो गये श्रोता.

By Bilaspur Live – June 9, 2019  बिलासपुर। भारतीय शास्त्रीय संगीत की सबसे प्राचीन व शुद्ध गायन शैली ध्रुपद पर सागर मोनारकर की तान ने आज शाम संगीत प्रेमियों को मंत्रमुग्ध कर दिया। उन्होंने करीब दो घंटे तक श्रोताओं को बांधकर रखा। पखावज पर कृष्ण साकुंले ने लोहा मनवाया और उभरते हुए वादक Continue Reading

पर्सनालिटी ऑफ द वीक में मराठी कवि कपूर वासनिक से विशेष बातचीत. डीएमए इंडिया के लिये संजीव खुदशाह द्वारा .

इस रविवार पर्सनालिटी ऑफ द वीक खास कड़ी में हम बातचीत कर रहे हैं मराठी कवि कपूर वासनिक जी से जो मराठी साहित्य में डब्लू कपूर के नाम से जाने जाते हैं। वह बता रहे हैं यदि आप लेखन की दुनिया में है तो आपका नाम और सरनेम कितना महत्वपूर्ण Continue Reading

छत्तीसगढ़ी लोक संगीत के बेजोड़ शिल्पी-खुमान साव का निधन .

कल शाम छत्तीसगढ़ के महान लोक कलाकार खुमान साव जी कि निधन हो गया .उन्हें याद करते हुये रचनाकार ब्लॉग से बीरेंद्र बहादुर सिंह का लेख साझा कर रहे है जो खुमान साव जी को स्मरण करता हैं . . छत्तीसगढ़ी लोक संगीत के बेजोड़ शिल्पी -खुमान साव छत्तीसगढ़ की Continue Reading

वह मेरा ” पहल समय “शाकिर अली का जीवन कथ्य .

अभी कल ही शाकिर अली की तीसरी पुस्तक आलोचना का लोकधर्म , उद्भावना प्रकाशन.से छप कर आयी और अभी बीते इन दिनों मासिक पत्रिका में भी शाकिर अली का लिखा अपने प्रारंभिक जीवन पर उनका लिखा लेख प्रकाशित हुआ जिसमें उन्होंने अपनी प्रारंभिक जीवन यात्रा ,रचना प्रक्रिया और अपने पढने Continue Reading

Civil Society strongly condemns the criminal intimidation and threats made to noted scholar and ant-communalism activist Dr. Ram Puniyani and demand speedy and thorough investigation into the crime.

On 6th June 2019, Dr. Ram Puniyani received a phone call at 8.30 p.m., when the caller who refused to identify himself, started using abusive and filthy language towards him and said that he should stop his activities and leave or else…. He was told that he has time of Continue Reading

बिलासपुर : बावरा मन का संगीत जलसा, ध्रुपद गायन की शाम…. 9 की शाम रविवार को सीएमडी कॉलेज के स्पोर्ट्स कॉम्प्लेक्स के ऑडिटोरियम में .आईये …

बावरा मन के संयोजकों ने रुचिसंपन्न श्रोताओं को ध्रुपद गायन में शिरकत करने का आग्रह किया है। राजेश दुआ .. बिलासपुर। भारतीय शास्त्रीय संगीत की सबसे प्राचीन और शुद्ध गायन शैली “ध्रुपद” की शाम रविवार को सीएमडी कॉलेज के स्पोर्ट्स कॉम्प्लेक्स के ऑडिटोरियम में सजेगी। कार्यक्रम शास्त्रीय संगीत, कला और Continue Reading

राजेंद्र यादव : मुड़-मुड़के देखता हूँ, कोई देखता न हो. समीक्षा अजय चंन्द्रवंशी .

लोग अपना आकर्षण प्रकट करते हैं. संबंध कोई बंधन नही रह गया है;जहां तक निभता है, निभाते हैं, न निभे तो अलग हो जाते हैं.राजेन्द्र जी ने अपने ‘प्रेम प्रसंगों ‘को प्रकट किया है.इनमे से कुछ दोस्ती की सीमा से आगे नही बढ़ते, अवश्य इनमे यौन आकर्षण भी रहा होगा. Continue Reading

रायगढ़ की जीवन रेखा ‘केलो’ का शोक गीत :”नदियों के साथ हमारे मानवीय सम्बन्ध” रमेश शर्मा

सी. वी. रमन विश्विद्यालय में स्थापित वनमाली सृजन पीठ बिलासपुर (जिसके अध्यक्ष ख्यात कथाकार सतीश जायसवाल जी हैं ) द्वारा “नदियों के साथ हमारे मानवीय सम्बन्ध” बिषय को लेकर आज पर्यावरण दिवस पर एक सार्थक साहित्यिक परिचर्चा सम्पन्न हुई . इस अवसर पर डॉक्टर अमिता द्वारा लिखी गई किताब नदियां Continue Reading

फिल्म में प्रत्येक फ्रेम एक जैसा नहीं होता। मौलिकता का कभी कोई री-टेक नहीं हो सकता. शाश्वत गोपाल

देश के प्रसिद्ध साहित्यकार विनोद कुमार शुक्ल के पुत्र शाश्वत गोपाल फिल्मों से मौलिकता के क्षरण को लेकर चिंता जता रहे हैं. भले ही उनका यह लेख हिंदी फिल्मों के तथाकथित विकास पर चोट है जहां से  गांव-घर, किसान सब गायब है. इस लेख से छत्तीसगढ़ के उन फिल्मकारों को भी गुजरना Continue Reading