आदिवासी क्षत्रों में पहले दिए गए अधिकारों को अब छीनने की तैयारी : पड़ताल , बस्तर : तामेश्वर सिन्हा ( बस्तर प्रहरी से साभार ) / आदिवासी लोग अपने समुदाय के आधार जल, जंगल, जमीन को बचाने के लिए आज भी संवैधानिक लड़ाई के ही पक्ष में है, और वो संविधान में दिए गए सारे अधिकारों के तहत अपनी लड़ाई लड़ रहे हैं। लेकिन मौजूदा सरकार आदिवासियों के संवैधानिक अधिकारों का हनन खाकी के दमन से करने में लगी हुई है। ऐसा ही छत्तीसगढ़ के बस्तर संभाग में एक गांव बुरुंगपाल है

Monday , 04 दिसम्बर 2017 तामेश्वर सिन्हा (बस्तर प्रहरी साभार ) बस्तर। आदिवासी लोग अपने समुदाय के आधार जल, जंगल, जमीन को बचाने के लिए आज भी संवैधानिक लड़ाई के ही पक्ष में है। और वो संविधान में दिए गए सारे अधिकारों के तहत अपनी लड़ाई लड़ रहे हैं। लेकिन Continue Reading

” सामाजिक परिवर्तन में अधिवक्ताओं की भूमिका ” विषय पर आल इण्डिया लॉयर्स यूनियन का सेमिनार :,7 दिसम्बर को बिलासपुर में .

*** 6 दिसम्बर 2017 को आल इण्डिया लॉयर्स यूनियन द्वारा सामाजिक परिवर्तन में अधिवक्ताओ की भूमिका विषय पर सेमिनार का आयोजन किया गया हैं ,यह आयोजन लखीराम अग्रवाल सभा ग्रह में शाम 6 बजे से 8 बजे तक आयोजित हैं,। सेमीनार के मुख्य अतिथि छत्तीसगढ़ उच्च न्यायालय के मुख्य न्यायधीश Continue Reading

भोपाल गैस कांड की आज 33वीं बरसी है. जो लोग वास्तविक पीड़ित हैं, अब भी बेहाल हैं. किसी भी अपराधी को आज तक कोई सजा नहीं दी जा सकी है, जबकि नई पीढ़ी में भी इसके कारण गंभीर शारीरिक समस्याएं आ रही हैं. इलाज और मुआवजे के हालात भी बीमार ही हैं…. लगता है ऐसे पीड़ितों का कोई मालिक नहीं है.

भोपाल गैस कांड की आज 33वीं बरसी है. जो लोग वास्तविक पीड़ित हैं, अब भी बेहाल हैं. किसी भी अपराधी को आज तक कोई सजा नहीं दी जा सकी है, जबकि नई पीढ़ी में भी इसके कारण गंभीर शारीरिक समस्याएं आ रही हैं. इलाज और मुआवजे के हालात भी बीमार Continue Reading

पांचवी अनुसूचित क्षेत्र चारामा में पारम्परिक ग्राम सभा कर निजी सर्वेक्षण कम्पनी का काम बंद कराकर ठोका गया जुर्माना: जानिए पूरा मामला बस्तर प्रहरी से तामेश्वर सिन्हा की रिपोर्ट

3.12.2017 बस्तर प्रहरी से तामेश्वर सिन्हा की रिपोर्ट (आभर सहित ) चारामा:- पेट्रोलियम एवं प्राकृतिक गैस मंत्रालय दिल्ली के प्रस्ताव पर निजी कम्पनी इकोलाजिस्टिक्स प्रा.लि. द्वारा किए जा रहे भूकंपीय सर्वेक्षण को ग्रामवासियों ने संवैधानिक रूप से नाकार कर कंपनी के ऊपर रूढिगत ग्राम सभा कर जुर्माना लगाया गया. मालूम Continue Reading

के.जी.कन्नाबीरन स्मृति व्याख्यान एवं सामाजिक न्याय के लिये समर्पित अधिवक्ताओं का सम्मान” : अध्यक्षता : वसंत कन्नाबीरन ( सामाजिक कार्यकर्ता एवं लेखक ), मुख्य वक्तागण : प्रशांत भूषण , सुप्रीम कोर्ट के अधिवक्ता , रवि नायर (Executive director of South Asia Human Rights Documentation Centre (SAHRDC) , वी सुरेश.(राष्ट्रीय सचिव पीयूसीएल ) ,गोपाल कृष्ण ( Citizens Forum for Civil Liberties )

1.12.2017 छत्तीसगढ़ पीयूसीएल द्वारा अन्तराष्ट्रीय मानवाधिकार दिवस [10 दिसम्बर] के अवसर पर  के.जी.कन्नाबीरन स्मृति व्याख्यान का आयोजन किया जा रहा है। साथ ही, सामाजिक न्याय के संघर्ष के लिए समर्पित अधिवक्ताओं को सम्मानित किया जाना तय किया गया है। श्री कन्नाबीरन, आन्ध्र प्रदेश के े एक जाने माने अधिवक्ता एवं मानव Continue Reading

न्यायालय बचाओ, देश बचाओ न्याय यात्रा पहुंची दुर्ग ,ग्राम न्यायालय स्थापित करने के लिए चलाया जाएगा राज्य व्यापी अभियान :तेंदू पत्ता की बिक्री की पूरी राशि संग्रहकर्ताओं की है, बोनस तिहार के नाम पर अपने प्रचार के लिए खर्च कर रही है सरकार.

28.11.2017 न्यायालय बचाओ, देश बचाओ अभियान के अंतर्गत फोरम फार फास्ट जस्टिस के राष्ट्रीय संयोजक प्रवीण पटेल के नेतृत्व में न्याय यात्रा आज दुर्ग पहुंचा, न्याय यात्रा का स्वागत छत्तीसगढ़ स्वाभिमान मंच के अध्यक्ष राजकुमार गुप्त, महासचिव रजा अहमद, बीजू जान्सन, छत्तीसगढ़ बचाओ आंदोलन के रमाकांत बंजारे, जिला किसान संघ Continue Reading

एडिटोरियल कमेंट:राष्ट्रपति कोविंद के साहसिक बयान ने सत्ता, संघ व संघी मीडिया में खलबली मचा दी : सत्ता और सरकार का मुखौटा बने रहने की बेबस परम्परा को राष्ट्रपति कोविंद ने जिस साहस से चुनौती दे डाली है उसकी उम्मीद आरएसएस, सत्ताशीर्ष पर बैठे महारथियों और सामंतवाद के सारथी मीडिया को भी नहीं थी

  26-11-2017 इर्शादुल हक, एडिर, नौकरशाही डॉट कॉम ** कुछ महीने पहले जब बिहार के राज्यपाल रामनाथ कोविंद को राष्ट्रपति चुना गया तो कुछ लोगों ने उन्हें संघ का मुखौटा घोषित कर दिया था. यह बताया जा रहा था कि कोविंद हिंदुत्व की राजनीति के वाहक हैं और यह भी Continue Reading

राजनैतिक ,आर्थिक मुक्ति से पहले जरूरी है सामाजिक बराबरी का आंदोलन ,बिना सामाजिक मुक्ति के राष्ट्र का निर्माण  संभव नहीँ .सम्विधान दिवस के आयोजन में वक्ताओं ने याद दिलाई कानून की ताकत .: बिलासपुर मैं हुआ भव्य आयोजन .:अम्बेडकर युवा मंच बिलासपुर की शानदार पहल .

26.11.2017 बिलासपुर / आम्बेडकर चौक में सम्विधान दिवस के दिन अम्बेडकर युवा मंच ने भव्य आयोजन किया ,शानदार सांस्कृतिक कार्यक्रम ,प्रतिभाशील लोगों का सम्मान , युवा साथी सुरेश रामटेके का संस्मरण और देश के प्रसिध्द अम्बेडकर वादी चिंतक चौथी राम यादव और डॉ. सुनील सुमन के वक्तव्य से भारी संख्या Continue Reading

जस्टिस लोया और प्रभाकर ग्वाल :आज संविधान दिवस है , ,आज एक दूसरे जज की चर्चा करते हैं उस जज का नाम है प्रभाकर ग्वाल.

आज संविधान दिवस है देश की सत्ता पर बैठी हुई पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष का मुकदमा सुन रहे जज की हत्या का मामला चर्चा में है आज एक दूसरे जज की चर्चा करते हैं उस जज का नाम है प्रभाकर ग्वाल प्रभाकर ग्वाल छत्तीसगढ़ के सुकमा में जज थे वे Continue Reading