इतना भाव क्यूँ खा रहे हो कल मुँहे अशिष्ट , तुम बादल हो या कैपिटलिस्ट ??

बादल सरोज नदी से नहर से, कुंए से बावड़ी से, गमले से बाल्टी से, डबरे से घाटी से, ताल से तलैया से, खुले में रखी कटोरी और थाली से यहां तक कि प्यासे पक्षियों के लिए बालकनी में लटकाये मिट्टी के बर्तनों और दुःख और विरह में भीगी आंखों तक Continue Reading

वोल्गा से शिवनाथ तक” छूती है भिलाई की अंतरात्मा को, भिलाई की संस्कृति व परंपरा और इसके इतिहास पर चर्चा की भारतीय-रूसी प्रतिनिधियों ने.

मोहम्मद ज़ाकिर हुसैन की रिपोर्ट भिलाई। भिलाई के इतिहास पर केंद्रित हाल ही में प्रकाशित किताब ‘वोल्गा से शिवनाथ तक’ पर बीती शाम मूलनिवासी कला साहित्य और फिल्म फेस्टिवल भिलाई, आल इंडिया एस.सी./ एस.टी. एम्प्लाईज फेडरेशन व जनवादी लेखक संघ भिलाई- दुर्ग ने संयुक्त रूप से एक चर्चा गोष्ठी सेक्टर-4 Continue Reading

राम विलास शर्मा : अपनी धरती अपने लोग: एक जुझारू आलोचक की आत्मकथा. : अजय चंन्द्रवंशी कवर्धा .

आगे उन्होंने भाषा विज्ञान और सामाजिक-सांस्कृतिक इतिहास पर जो काम किया जो एक विस्तृत योजना का ही परिणाम है।इसी तरह विवेकानंद के अनुवादों के पुनः प्रकाशन पर सवाल उठाया गया।डॉ शर्मा वेदांत की सीमित युग सापेक्ष प्रगतिशीलता को स्वीकार करते थे मगर उसकी सीमा को भी जानते थे। विवेकानन्द के Continue Reading

घुमक्कड़ राम की डायरी” पीआर यादव.

पीआर यादव छत्तीसगढ़ कर्मचारी संघ के जानेमाने नेता है .वे अपने मित्रों के साथ आजकल कैलाश पर्वत और हिमाचल की वादियां में भ्रमण कर रहे है।उन्होंने अपना. यात्रा वृतांत लिखा और फेसबुक पर शेयर किया है.बिलासपुर और पूरे छतीसगढ मे उनके बहुत मित्र है जो पढना भी चाहेगा .तो प्रस्तुत Continue Reading

बैला….डिला … बैलाडिला…… मैं आंय बस्तर जिला चो आदिवासी पिला…

बस्तर का इतिहास कोयतुर इतिहास को जानना पहचानना हो तो गोण्डी हल्बी भतरी लोकगीतों को पढ़िए विश्लेषण करो विश्लेषककोसो होड़ी उर्फ माखन लाल सोरीलंकाकोट कोयामुरी दीप बस्तर के लोकगायक तिरुमाल लखेश्वर कुदराम का वो गीत जो बस्तर की असल पहचान बताती है *बैला….डिला … बैलाडिला…… मैं आंय बस्तर जिला चो Continue Reading

जनकवि नागार्जुन स्मृति सम्मान इस बार प्रख्यात कवि राजेश जोशी को .

भोपाल।जनकवि नागार्जुन स्मृति सम्मान इस बार प्रख्यात कवि राजेश जोशी को प्रदान किया जाएगा।आगामी 17 जून को जवाहरलाल नेहरु विश्विद्यालय दिल्ली में ‘जनकवि नागार्जुन स्मारक निधि’ संस्था द्वारा आयोजित इस सम्मान समारोह की अध्यक्षता वरिष्ठ आलोचक प्रो.नित्यनंद तिवारी करेंगे।मुख्य अतिथि प्रो.रविभूषण और विशिष्ठ अतिथि बतौर डॉ.विश्वनाथ त्रिपाठी उपस्थित रहेंगे। प्रो. Continue Reading

जनकवि नागार्जुन सम्मान राजेश जोशी_को

भोपाल।जनकवि नागार्जुन स्मृति सम्मान इस बार प्रख्यात कवि राजेश जोशी को प्रदान किया जाएगा।आगामी 17 जून को जवाहरलाल नेहरु विश्विद्यालय दिल्ली में ‘जनकवि नागार्जुन स्मारक निधि’ संस्था द्वारा आयोजित इस सम्मान समारोह की अध्यक्षता वरिष्ठ आलोचक प्रो.नित्यनंद तिवारी करेंगे।मुख्य अतिथि प्रो.रविभूषण और विशिष्ठ अतिथि बतौर डॉ.विश्वनाथ त्रिपाठी उपस्थित रहेंगे। प्रो. Continue Reading

लोक कलाकार खुमान साव का पार्थिव शरीर पंचतत्व में विलीन.हजारों प्रशंसकों ने दी विदाई.

राजनांदगांव . छत्तीसगढ़ी लोक संस्कृतिक मंच ‘ चंदैनी गोंदा ‘ के संचालक और सुप्रसिद्ध लोक संगीतकार खुमानलाल साव का देहावसान हो गया । रविवार को उनका पार्थिव शरीर पंचतत्व में विलीन हो गया । हजारों की संख्या में उपस्थित कलाकारों , साहित्यकारों और लोकसंगीत के रसिक श्रोताओं ने आज उन्हें Continue Reading

सोशल मीडिया का तिलिस्म : संजीव खुदशाह

आज का युग सही मायने में सोशल मीडिया का युग है। लोगों को सोशल बनाने एवं समान विचारधारा वाले लोगों को जोड़ने में सोशल मीडिया का एक बड़ा योगदान है। कुछ लोग यह मानते हैं की सोशल मीडिया एक खाई की तरह है जिसमें आप जिस विचारधारा के हैं उस Continue Reading

कविता . आस्था को जनतंत्र में बदल दो . हेमलता महीश्वर .

आस्था को जनतंत्र में बदल दो – तीजन बाई किसके गीत गाती हो तुम? तुम्हारी व्यथा तुम्हारे गीतों में क्यों नहीं है? गाथा जो गा-बोलकर सुनाती हो उसमें तुम अकेली नहीं संगत देते संगतकार हैं और साथ है तुम्हारे रागी कथा के साथ हँसती हो रोती हो कथा के साथ Continue Reading