फासीवाद विरोधी योद्धा ब्रेख़्त की कलम से

( अनुवाद गौहर रज़ा) 1⃣ कोई नहीं पूछेगा अख़रोट का दरख़त कब झूम उठा पूछेंगे सरकार ने कब मज़दूरों को कुचल कर रख दिया कोई नहीं पूछेगा कब नन्हें हाथोंने तालाब में चिकने पत्थर से ख़ूबसूरत लहरें उठाईं पूछेंगे जंग की तैयारियाँ कब शुरू हुईं कोई नहीं पूछेगा हुस्न कब कमरे में दाख़िल हुआ पूछेंगे
Complete Reading

** जैसा कि पूरे देश मे जिस तरह तेजी से हमले बढ़ रहे है, चाहे वो भीड़तंत्र द्वारा हो चाहे आतंकवादी। व इसी कड़ी में अमरनाथ के यात्रियों पर जो हमला हुआ है, वो अत्यंत निंदनीय है।  और इसी संदर्भ में आज आम आदमी पार्टीि बिलासपुर तथा नागरिक गण द्वारा नेहरू चौक में शाम को
Complete Reading

  एक वक्त था जब मूर्ख होना गाली था. अब बुद्धिजीवी होना गाली है क्योंकि दौर मूर्खता के संस्थागत होने और उसके सशक्तिकरण का है राकेश कायस्थ प्रकाशित – 08 जुलाई 2017 एएफपी बचपन में धर्मयुग पत्रिका में एक व्यंग्य लेख पढ़ा था. लेखक का नाम इस वक्त याद नहीं है. उस अनाम लेखक की
Complete Reading

  देश मे निरन्तर हो रहे हिंसा,जात धर्म के नाम पर भीड़ के शक्ल में हो रही हत्याओं, अशांति दंगे फसादों आदि अनैतिक गतिविधियों को रोकने समाज को जागरूक करने व सकरात्मक संदेश देने छात्र युवा संघर्ष समिति ने आज रविवार शाम 5 बजे शहीद पार्क में एक हस्ताक्षर अभियान और *NOT IN MY NAME
Complete Reading

मजदूर बिगुल से आभार सहित 1⃣ *यह नयी राजनीतिक शैली है / पंकज चतुर्वेदी* ——————————– यह नयी राजनीतिक शैली है कि हत्या की नहीं जाती वह माहौल बनाया जाता है जिसमें हत्या एक स्वाभाविक कर्म हो जो इस माहौल के जनक हैं वे हत्या पर अफ़सोस करते हैं 2⃣ *हादसा/ अदनान कफ़ील दरवेश* ——————————– जब
Complete Reading

रवीश कुमार NDTV *** जर्मनी की तमाम रातों में 9-10 नवंबर 1938 की रात ऐसी रही जो आज तक नहीं बीती है। न वहां बीती है और न ही दुनिया में कहीं और। उस रात को CRYSTAL NIGHT कहा जाता है। जर्मनी की तमाम रातों में 9-10 नवंबर 1938 की रात ऐसी रही जो आज
Complete Reading

(नवभारत, छत्तीसगढ़-ओड़िशा में प्रकाशित ) भीड़ की क्रूरता से आँख फेरने का समय नहीं गणेश तिवारी 04-07-2017 को प्रकाशित रॉक बैंड बीटल्स के संस्थापक सदस्य और मशहूर गायक जॉन लिनन का कहना था, कल्पना कीजिए कि (आपका) कोई देश नहीं है, जिसके लिए मारा या मरा जाए. यह सोच पाना बहुत कठिन भी नहीं है.
Complete Reading

(नवभारत, छत्तीसगढ़-ओड़िशा में प्रकाशित ) गणेश तिवारी ** रॉक बैंड बीटल्स के संस्थापक सदस्य और मशहूर गायक जॉन लिनन का कहना था, कल्पना कीजिए कि (आपका) कोई देश नहीं है, जिसके लिए मारा या मरा जाए. यह सोच पाना बहुत कठिन भी नहीं है. सोचिए कि कोई धर्म भी नहीं है. सब शांतिपूर्वक जीवनयापन कर
Complete Reading

2 जुलाई 2017 बिलासपुर / मुंगेली जिले के तखतपुर में कल दोपहर पुलिस गाय तस्करी के आरोप में इमरान खान ड्राइवर को गाड़ी सहित चिल्फी ले जा रही थी ,की तखतपुर में वहां के लोगो को मालूम हुआ की आरोपी को ले जाया जा रहा हैं ,तो लोग इक्कठे हो गए और उसे परेशां करने
Complete Reading

** हम सब भारतीय केन्द्रीय नारे के साथ, आइए देश में भीड़ की हिंसा और नफ़रत के विचारों का विरोध करें, प्रेम, शांति , एकजुटता तथा भाईचारे का संदेश दें। शनिवार 1जुलाई शाम 4 चार बजे से 5बजे तक बिलासपुर में विवेकानंद उद्यान से सिम्स चौराहे के बीच पोस्टर कविता,नारे आदि के साथ खड़े हों.
Complete Reading

Create Account



Log In Your Account