अडानी के विकास की बलि पर सरगुजा के आदिवासी

अडानी के विकास की बलि पर सरगुजा के आदिवासी

छत्तीसगढ़ के सरगुजा ज़िले के हसदेव अरण्य क्षेत्र स्थित अदानी की पर्सा ईस्ट केते बासन कोल माइन के विस्तार के लिए कल 11 सितम्बर 2016 को तय पर्यावरणीय  जनसुनवाई (देखें लिंक http://www.sangharshsamvad.org/2016/08/11_28.html) सम्पन्न हुई। जनसुनवाई से पहले ही अदानी से इसे करने के लिए तरह तरह की तिकड़में रची थीं जिसमे अपने गुंडे बिठाने से लेकर गाँव वालों को डरना धमकाना शामिल था जिससे की लोग डर के मारे जनसुनवाई में भागीदारी ही ना करे और जैव विविधता, दुर्लभपशु-पक्षी से भरपूर इस छेत्र को लूटने की छूट मिल जाए (देखें लिंक-http://www.sangharshsamvad.org/2016/09/blog-post_35.html)। 11 सितंबर को हुई जनसुनवाई में अदानी की यह कोशिश रंग लाई और पूरी जनसुनवाई के दौरान प्रशासन अदानी के पक्ष में माहौल बनाने का प्रयास में जुटा नजर आया। हम यहां पर 11 सितंबर की जनसुनवाई पर गिरीश कुमार की रिपोर्ट के साथ-साथ ग्राम सभा परिषद द्वारा जनसुनवाई के विरोध में जिलाधीश को सौंपा गया आवेदन भी साझा कर रहे हैं;http://www.sangharshsamvad.org/2016/09/blog-post_13.html

Leave a Reply

You may have missed