अल्ट्राटेक सीमेंट समझौते का पालन करे और न्यूनतम मजदूरी और वृद्धि दर का भुगतान करें: शाशन से हस्तक्षेप की मांग .आन्दोलन जारी .

 

 

अल्ट्राटेक सीमेंट समझौते का पालन करे और न्यूनतम मजदूरी और वृद्धि दर का भुगतान करें: शाशन से हस्तक्षेप की मांग .आन्दोलन जारी

अल्ट्रा टेक सीमेंट हिरमी के सामने पिछले तीन दिन से जन आधारित श्रमिक संघ ,मजदूर यूनियन के साथ 600,700 मजदूर धरने पर बैठे है , मजदूर कम्पनी के साथ किये गए समझौते के अनुसार मजदूरी भुगतान की मांग कर रहै है और मैनेजमेंट इन सब पर कोई बात ही नही करना चाहता .मसजदूर संघटनो ने कलेक्टर और श्रम विभाग से अपील की है कि वे तुरन्त हस्तक्षेप करें और कम्पनी को सेट्रलमेंट कानून और पूर्व में मजदूरों के साथ हुए समझौते के अनुसार पेमेंट करने के लिए कहें. मजदूर संघटन ने अन्य सामाजिक संघटनो से भी अपील की है कि वे समय रहते प्रशासन को वार्ता के लिए राजी करें . कम्पनी मैनेजमेंट तरह तरह से दमन की कोशिस कर रहा है और विरोध प्रदर्शन को अवैध घोषित करने की कोशिश कर रहा हैं.

 

मजदूर नेता लखन लाल साहू ने बताया कि
कम्पनी के साथ 26 नवम्बर 2014 को सेटलमेंट कानून के तहत त्रिपक्षीय लिखत समझौता हुआ था जिसके अनुसार कुशल ,अर्ध कुशल और अकुशल मजदुरो को 6,16,17 ,18 रुपये वेतन वृद्धि देने की बात थी.न्यूनतम 42 रुपये के साथ यह भुगतान एक साल किया भी गया लेकिन 2016 में राज्य शाशन Iके न्यूनतम वेतन लागू होने के बाद समझौते से मैनेजमेंट ने इंकार कर दिया .

शांतिपूर्ण धरने पर बैठे मजदूरों ने बताया कि मेनेजमेंट ने मजदूरों के वेतन से 42 और 62 रूपये की कटौती शुरू कर दी गई साथ ही 25,30 मजदूरों को काम से बैठाया गया है .यह सब पूरी तरह गैरकानूनी और समझौते का सरासर उलंघन है.

शांतिपूर्ण धरने पर बैठे मजदूरों ने बताया कि मेनेजमेंट ने मजदूरों के वेतन से 42 और 62 रूपये की कटौती शुरू कर दी गई साथ ही 25,30 मजदूरों को काम से बैठाया गया है .यह सब पूरी तरह गैरकानूनी और समझौते का सरासर उलंघन है.
मजदूर अपनी जायज़ मांगों को लेकर धरने पर लगातार बैठे है,।

**

Leave a Reply

You may have missed