छत्तीसगढ़ सामाजिक बहिष्कार अधिनियम’’ कितना प्रासंगिक_ *संगोष्ठी* का आयोजन

_’’छत्तीसगढ़ सामाजिक बहिष्कार (रोकथाम, निषेध और निवारण) अधिनियम’’ कितना प्रासंगिक_ विषय पर *संगोष्ठी* का आयोजन

रायपुर, 29 08.2017

जाति उन्मूलन आंदोलन छत्तीसगढ़ कमेटी द्वारा आगामी 3 सितंबर 2017 (रविवार) को ’’छत्तीसगढ़ सामाजिक बहिष्कार (रोकथाम, निषेध और निवारण) अधिनियम’’ कितना प्रासंगिक विषय पर संगोष्ठी का आयोजन किया जाना सुनिश्चित गया है। उक्त कार्यक्रम वाई एम सी ए प्रोग्राम सेंटर, इन्द्रावती कालोनी, जनता से रिश्ता प्रेस के पास, कैनाल लिंकिंग रोड, रायपुर में अपरान्ह 4 बजे से आयोजित किया जायेगा। कार्यक्रम में प्रमुख वक्ता के तौर पर जाति उन्मूलन आंदोलन के अखिल भारतीय कार्यकारी संयोजक संजीव खुदशाह, अंधश्रद्धा निर्मूलन समिति छत्तीसगढ के अध्यक्ष व ख्यातिप्राप्त नेत्र चिकित्सक डॉ. दिनेश मिश्रा, पीयूसीएल के नंद कश्यप, क्रांतिकारी सांस्कृतिक मंच के राष्ट्रीय संयोजक तुहिन व एडवोकेट जन्मेजय सोना उपस्थित रहेंगे। इसके अलावा राज्य में जाति/सामाजिक बहिष्कार से पीड़ित कई भुक्तभोगी भी अपनी बात संगोष्ठी में रखेंगे। कार्यक्रम का उद्देश्य समाज में व्याप्त जाति प्रथा के खिलाफ जनमत तैयार करना व सामाजिक प्रताड़ना एवं बहिष्कार के रोकथाम के लिए प्रदेश में छत्तीसगढ़ सामाजिक बहिष्कार (रोकथाम, निषेध और निवारण) अधिनियम’’ बनाने के लिए सरकार पर दबाव बनाने की पहल करना है जिससे समतामूलक एवं वैज्ञानिक आधार पर समतावादी समाज व्यवस्था स्थापित करने में सफलता प्राप्त की जा सके।
कार्यक्रम में शहर के बुद्धिजीवीगण, पत्रकारगण, छात्र/छात्राएं, महिला अधिकार व महिला समानता की दिशा में कार्य करने वाले समस्त सुधीजन सादर आमंत्रित हैं।

**
————–

CG Basket

Leave a Reply

Next Post

आदिवासियों की धोके से खरीदी गई जमीन के मामले दर्ज़ कर उन्हें वापस की जाये . कोसमपाली में आमरण अनशन के दसवें दिन काग्रेंस और जन संघठनो ने किया समर्थन

Wed Aug 30 , 2017
** रायगढ़ के तमनार विकासखंड में लिबरा से  कोसमपाली रोड  केजीएस केम्प के पास  21 अगस्त को सुबह 8 बजे […]

You May Like