तमनार ब्लाक रायगढ़ में अनिश्चितकालीन अनशन का आज छटवां दिन , कोसमपाली सरसमाल में चल रहा है चक्का जाम . पुराने समझोते को भी पूरा करने की मांग

 

रायगढ़ /26 अगस्त /

***

रायगढ़ के तमनार विकासखंड में लिबरा से  कोसमपाली रोड  केजीएस केम्प के पास  21 अगस्त को सुबह 8 बजे से आर्थिक नाकेबंदी करके बड़ी संख्या में ग्रामीण  चोराहे पर पिछले 6 से चक्का जाम किये हैं .यह अनशन एसईसीएल 4/2 और 4/3 के मुख्य गेट के सामने   अनुसूचित जन जाति ,अनुसूचित जाति ,पिछड़ा वर्ग समाज के बैनर टेल  अनिश्चित कालीन अनशन पर लगातार ग्रामीण 6 दिन से बैठे हुए है .

उनका कहना है कि कोल इण्डिया के एसईसीएल गारे पेलमा 4/2 और 4/3 में पदस्थ उप क्षेत्रीय प्रबंधक बीएन झा और प्रबन्धक रूक्मिण द्वारा ग्राम पंचायत कोसमपाली सरसमाल के किसानो और प्रशाशन के अधकारियो के बीच जो समझोता हुआ था उसका पालन नहीं किया जा रहा हैं .सिर्फ यहाँ की गरीब आदिवासियों को बेब्कुफ़ बनाया जा रहां हैं .यह अधिकारी झूठे प्रोडेक्शन दिखा कर सरकार के साथ छलावा किया हैं , कोयले की हेरा फेरी की ,किसानो को एक भी वायदा पूरा नहीं किया ,तब  किसान तंग आकर यह अनिश्चितकालीन अनशन कर रहे है .

गारे पेलमा 4/2 और 4/3 में कोयला ब्लास्टिंग से गरीब आदिवासी के मकान रोज एक एक करके  टूट रहे हैं, लोग मज़बूरी में खुले में अपना जीवन जी रहे है ,जब शिकायत करो तो यह अधिकारी कहते है की प्रधानमंत्री से शिकायत कीजिये .आन्दोलनकारी कहते है की क्या यही हमारे 70 साल की आज़ादी का इनाम है ,क्या धारा 170 ख के तहत हमें न्याय नहीं मिलेगा ,सभी एक स्वर में नारे लगा रहे है की ,लड़ेंगे ,जीतेंगे ,हक लेके रहेंगे .

अनिश्चित कालीन चक्का जाम करने वाले आंदोलनकारियो की मांग है की .

1, ग्राम कोसमपाली की किसानो की जमींन 170 ख के तहत वापस की जाये .

2 ओबी डम्प को लेवल किया जाये .

3 सीएसआर के तहत ग्राम में काम किया याये .

4 ओबी डम्प और कोयले में लगी आग के जहरीले धुंए पर तत्काल रोक लगाई जाये .

5 गारे पेलमा खदान को जो उच्च अधिकारियो ने बंद किया है उसे बिना ग्रामवासियों की अनुमति के दुबारा शुरू न किया जाये ,

6   गारे पेलमा 4/2 और 4/3 से एसईसीएल ने करोडो की कमाई की है उस आमदनी का शेयर किसानो को दिया जाये .

 

7 जिन किसानो की जमीन से कोयला निकला जा रहां है उस किसान को मुआवजा देकर उन्हें तत्काल नोकरी दी जाये .

  1. उप क्षेत्रीय प्रबंधक बीएन झा और प्रबन्धक रूक्मिण को तत्काल कार्य से निलंबित किया जाये और इसकी जाँच सिबिआई या विजिलेंस जाँच इन्क्वारी गठित की जाये /

9 नोकरी के मामले में अगर प्रश्निक और कस्टोडीयन कंपनी नौकरी नहीं दे सकती तो इस बाबत कोल मंत्रालय से जाँच और दिशा निर्देश मांगे जाएँ जब तक किसी नई जमीन पर खुदाई न की जाये,

10 170 ख के करीब 100 केस बुधवार तक  रजिस्टर किया जाएँ ,परिक्षण के तहत इन  जमीनों पर और कोई खुदाई नहीं हो,

11 जो लोग नौकरी कर रहे है उन्हें पूरा वेतन ,पीएफ मेडिकल दिया जाये ,और ठेकेदारी के लोगो को नियमित किए जाये .

 

आंदोलनकारियो से लगातार तीन दिनों से कलेक्टर एसडीएम और तहसीलदार से बातचीत हो रही हैं

लेकिन कोई निर्णय पर नहीं पंहुचा जा सका हैं  ,

आन्दोलनकारी अपनी मांगे पूरी होने तक अनशन करने को दृढ हैं .

***

 

 

CG Basket

Leave a Reply

Next Post

सर्वोच्च न्यायालय स्पष्ट रूप से निजता को एक मौलिक अधिकार मानता है - प्रेस विज्ञप्ति, rethinkaadhaar campaign

Sat Aug 26 , 2017
*** आधार के मामले में केंद्र सरकार ने अगस्त 2015 में कहा था कि भारत के संविधान के अनुसार निजता […]