जब मैंने सीआरपीएफ के सिपाहियों द्वारा आदिवासी स्कूली लड़कियों के साथ दुष्कर्म का मामला उठाया तो भाजपा वाले संघी भक्त मुझे झूठा नक्सली और देशद्रोही कह रहे थे. – हिमांशु कुमार

हिमांशु कुमार
9.8.17
*
अब इस मामले में दो सीआरपीएफ के सिपाही गिरफ्तार हुए हैं,

भाजपाइयों क्या अब भी मुझे झूठा कहोगे ?

याद रखो दुनिया की कोई भी सेना जनता से ज्यादा बड़ी नहीं है,

सेनाएं जनता के लिए बनाई गयी हैं,

जनता के साथ कोई सेना अगर अत्याचार करेगी तो उसका विरोध करना ही चाहिए,

आप जितना न्याय की तरफ जायेंगे आपको उतनी ही शांति प्राप्त होती जायेगी

आप जितना अन्याय करेंगे आप उतनी ही अशांति का सामना करेंगे,

यह मेरा नियम नहीं है यह प्रकृति का नियम है,

जिसे मैं मानता हूँ आप नहीं मानते,

वैसे यह जानना भी दिलचस्प है कि भाजपा सरकार ने इस मामले में इतनी तेज़ी क्यों दिखाई ?

बस्तर में इससे पहले भी सैंकड़ों महिलाओं के साथ सीआरपीएफ और अन्य सुरक्षा बलों के सैनिकों ने बलात्कार किये हैं,

हमने हमेशा उन मामलों पर लिखा,

लेकिन सरकार ने कभी कोई कार्यवाही नहीं करी,

फिर अब क्या हुआ जो सरकार कानून की इतनी इज्ज़त करने लगी ?

असल में छत्तीसगढ़ में एक साल के भीतर चुनाव होने वाले हैं,

स्कूली लड़कियों के साथ दुष्कर्म वाले इस मामले में अगर बस्तर में जन प्रदर्शन शुरू कर देंगे तो भाजपा को चुनाव में नुकसान हो सकता है,

इसलिए इस मामले में आनन फानन में रिपोर्ट लिखी गई और गिरफ्तारियां कर ली गई हैं,

जो भी हो हम सरकार को इस काम के लिए धन्यवाद देते हैं,

**
हिमांशु कुमार

Leave a Reply