किसानों की बढ़ती आत्महत्या, कर्ज की वजह छिपाने में लगा प्रशासन

किसानों की बढ़ती आत्महत्या, कर्ज की वजह छिपाने में लगा प्रशासन

25-06-2017

छत्तीसगढ़ किसान मजदूर महासंघ द्वारा त्वरित कार्यवाही कर मूल वजह सामने लाने में मुख्य भूमिका….

किसान लगातार आत्महत्या कर रहे है और भाजपा, सरकार और उनके अधिकारी लीपापोती करने में लगे हैं ।
मोखा में किसान मन्थीर सिंह ने कर्ज से तंग आकर आत्महत्या की, लेकिन शासन के अधिकारी इसे छिपाने उनके बेटों और भाई का बयान लिखते वक्त बदलवा दिये । छत्तीसगढ़ किसान मजदूर महासंघ के साथी द्वारिका साहू, संकेत ठाकुर और प्रभाकर ग्वाल मौके पर पहुंच गये । तहसीलदार के समक्ष दिये बयान को उनके सहयोगी से पढ़वाया तो सारा माजरा परिजनों और ग्रामीणों को समझ आया ।
किसान महासंघ की उपस्थिति में मन्थीर सिंह के बेटे मोहन सिंह के बयान को सुधरवाया गया और वास्तविक वजह सामने आयी कि कर्ज के दबाव, फसल के सूख जाने और फसल बीमा का मुआवजा नहीं मिलने की वजह से तंग आकर मन्थीर सिंह ने हत्या की ।

कल 24 जून को हीराधर निषाद ने भी रु 21000 के कर्ज, बिजली बिल ना पटा सकने और फसल बीमा मुआवजा नहीं मिलने के कारण आत्महत्या की । सूचना मिलते ही किसान महासंघ के साथी रूपन चन्द्राकर, पारस साहू, श्रवण चन्द्राकर और लक्ष्मी नारायण सबसे पहले ग्राम जामगांव पहुंच गये और हीराधर की आत्महत्या की वास्तविक वजह को सामने लाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभायी ।

बागबाहरा में 2 आत्महत्या के मामले में छग किसान महासंघ के साथियों की त्वरित कार्यवाही ने सच्चाई को सामने लाने में मदद की ।

**

संकेत ठाकुर की पोस्ट

 

 

संकेत ठाकुर की पोस्ट

CG Basket

Related Posts

Leave a Reply

Create Account



Log In Your Account