साल के आदिवासी बच्चे सेमारू को फोर्स ने मेटापाल में संगीन से और फिर गोली से मारकर नक्सली ड्रेस पहना कर मूठभेड बता दिया.

* बस्तर में रोज रोज की जा रही है हत्यायें ,कोई कही रोकटोक नहीं.
* 13 साल के आदिवासी बच्चे  सेमारू को फोर्स ने मेटापाल में संगीन से और फिर गोली से मारकर नक्सली ड्रेस पहना कर मूठभेड बता दिया.
* बच्चा महुआ के पेडपर चींटियां का झुण्ड को इकट्ठा कर रहा था,वही से खींच लिया पुलिस ने .
* सोमारू के मा पिता और ग्रामीण पहुचे छत्तीसगढ़ हाईकोर्ट .
* कोर्ट ने तीन दिन में दुबारा पोस्टमार्टम करने के आदेश दिये .
* कमिश्नर जगदलपुर  और परिजनों की देखरेख में होगा पोस्टमार्टम .
* बिलासपुर में पत्रकार वार्ता  में हाजिर हुये परिजन .
*शालिनी गेरा,ईशा खंडेलवाल ,प्रियंका शुक्ला और नीकिता कर रहे है पैरवी .
***
बीजापुर जिले के मेटापाल के पटेलपारा थाना गंगालूर में 16 दिसंबर को तेरह साल के बच्चे सोमारू की सीआरपीएफ और छत्तीसगढ़ पुलिस के संयुक्त सैनिकों ने हत्या कर दी ओर उसे नक्सली मुठभेड़ बता दिया .
सोमारू के मां पिता और परिजन कल  छत्तीसगढ़ हाईकोर्ट पहुचे और राहत की गुहार लगाई .
हाईकोर्ट के माननीय न्यायधीश गौतम भादुड़ी ने प्रशासन को आदेश दिया की तीन दिन में शव को कब्र से खोदकर दुबारा पोस्टमार्टम किया जायें ,इसकी जिम्मेदारी कमिश्नर जगदलपुर रहेंगे और सोमारू के परिजन कब्र खोदते समय और पोस्टमार्टम के वक्त  उपस्थित रहेंगे .
13 साल का सोमारू 16 दिसम्बर की सुबह अपने साथियों के साथ धान मिजाई कर रहा था , इसके बाद महुआ के पेड पर चींटियों के झुण्ड इकठ्ठा करने के लिये पेड पर चढा था ,इतने में   15-20 सिपाही वहाँ आ गये और सबको घेर लिया ,बांकी लोग तो भाग गये लेकिन कम सनने के कारण सोमारू पकड  में आ गया.
इसके बाद सैनिकों का दल गाँव में आया और उसके पिता चाचा और दूसरे ग्रामीणों को पकडकर वहाँ ले गये जहाँ मेरा बेटा सोमारू को एक अंगोछे से पेड में बांध दिया था .
हम सबके सामने पुलिस के लोग सोमारू को संगीन से घोंप घोंप कर मार रहे थे ,और बाद में उसके सीने गले और पेट में नजदीक से  गोली मार दी .और हम सबके सामने ही उसके कपड़े उतार कर उसे काली ड्रेस पहना दिया ,और फोटो खींच लिया गया .”
बाद में  जिन लोगों को पुलिस गांव से पकडकर लाई थी उन्हें ही सोमारू की लाश को थाने लाने के लिये कहा ,हम लोग ही लाश लेके थाने गये.
पुलिस ने जल्दी जल्दी में पोस्टमार्टम किया ओर ,परिवार को बड़े अपमानजनक तरीके से सोमारू की लाश नंगी पोलीथीन में लपेट कर दे दी .
परिवार ने छत्तीसगढ़ हाईकोर्ट में याचिका लगा कर दुबारा पोस्टमार्टम की अपील की ,जिसपर माननीय न्यायालय ने तीन दिन में कमिश्नर की देखरेख में परिजनों की उपस्थिति में पोस्टमार्टम के आदेश दिया.
पत्रकार वार्ता में  नंद कश्यप ,डा, लाखनसिंह  आदि उपस्थिति थे .
***

cgbasketwp

Related Posts

Leave a Reply

Create Account



Log In Your Account