शरम करो और माफी मांगो मनु

आलेख : बादल सरोज

25 सितम्बर की सुबह शिवपुरी में दो मासूम बच्चों की ह्त्या जितनी विचलित और स्तब्ध करने वाली थी उससे कहीं ज्यादा भयावह थी वह खबर जिसे ज्यादातर समाचार पत्रों ने लिया ही नहीं, जिस एक अखबार ने लिया उसने भी खबर के बीच एक उल्लेख भर बनाकर रख दिया गया था।  आखिरकार आमतौर से अखबार और मीडिया भी वर्चस्व कायम करने का एक माध्यम है।  इसलिए खबर लिखने बताने के पीछे भी एक एजेंडा होता है  और इन दिनों तो खबर होती ही नही है सिर्फ अजेंडा भर ही होता है।

“खुले में शौच” की लीड  बकवास और गुमराह करने वाली थी  । शिवपुरी के बच्चों के हत्यारे स्वच्छता दूत नही थे । वे मनसा, वाचा कर्मणा गंद और प्रदूषण के मूर्तमान रूप थे और जैसा कि बाद में वहां पहुँची दलित शोषण मुक्ति मंच और सीपीएम की टीम  ने पाया कि बच्चे तो सिर्फ असमर्थ शिकार भर थे, दबंगों का असली मकसद “धाक ज़माना था” और भारतीय समाज मे धाक जमाने के लिए स्त्रियों और  दलितों से अधिक आसान जरिया और कोई नहीं होता ।  लेकिन सच्ची खबर इतनी भर भी नहीं है।  असली खबर बोल्ड अक्षरों की दो पंक्तियों के नीचे दबी तीसरी पंक्ति में है ।  जो है ; हत्या करने वाले के “सपने में भगवान आने और उसे राक्षसों का सर्वनाश करने का आदेश देने” की ‘स्वीकारोक्ति’ ।

ये सपने में आने वाले भगवान 33 करोड़ में से ये कौन से वाले भगवान थे ? संहार किये जाने वाले राक्षस कौन हैं ? खबर यहां से शुरू होती है और ठेठ हम सबके घर के भीतर पहुंचती है । इन “भगवान” का नाम है मनु और इनका काम है मनुष्य का पूरी तरह अमानुषीकरण  !! इस सूत्र मे निहित राक्षस सिर्फ दलित भर नहीं, जाति श्रेणीक्रम की कथित ऊंचाईयों की श्रंखला है । एक कुत्सित बोध है जो किसी सर्वनाशी मानसिक रोग से कम नहीं है । एक ऐसा ”बोध” जिसमे अपने से ऊपर कही जाने वाली हर जाति के वर्चस्वकारी रवैये और बर्ताब के प्रति जायज और सही आक्रोश है किन्तु इसी के साथ अपने से  नीची मानी जाने वाली हर जाति समुदाय राक्षस है और इसलिए उसका पददलन और उत्पीड़न यहाँ तक कि हत्या भी (जिसे ग्रन्थों मे वध कहा जाता है) एक धर्मसम्मत शास्त्रोक्त कृत्य है । इनमे भी स्त्रियॉं – छोटी, बड़ी, युवा, बालिका, बुजुर्ग सभी – इधर भी निशाने पर हैं, उधर भी । क्योंकि इन “भगवान” के हिसाब से वे शूद्रातिशूद्र हैं ।

जिस मनु ने इस देश की मेधा, शोध, खोज, निर्माण और सृजन के कोई 1500 साल बर्बाद कर दिए, इस देश से उसकी मनुष्यता और संवेदनशीलता छीन ली ; कायदे  से उसे अब तक कालातीत हो जाना चाहिए था, एक बुरे सपने की तरह भुला दिया जाना चाहिए था । वह मनु अबतक न सिर्फ ‘अलाइव एंड किकिंग’ है बल्कि  हिंदुत्व का बाना ओढ़कर आखेट पर निकला हुआ  है । मनुस्मृति को वास्तविक संविधान मानने वालो के सत्ता मे पहुँच जाने के बाद से बिना डर भय के उसकी नरमेध यात्रा जारी है ।

जब तक समाज मे, सोच में, विचार में, आचार में, व्यवहार में, घर मे परिवार में और खुद के भीतर भी छुपे इस दुष्ट मनु की शिनाख्त नही करेंगे : पक्का मानिए बिल्कुल भी सुरक्षित नहीं हैं कोई  भी और किसी का भी परिवार । रौशनी (12 वर्ष) अविनाश (10 वर्ष) के लिए आँसू जाया करने से कहीं ज्यादा जरूरी है अपनी रौशनी और अपने अविनाश को भेड़िया या उसका शिकार या दोनों, बनने से बचाने के हरसंभव प्रयत्न करना । अपने शासकवर्गी वर्ग-हित सचेत सार और रूप के बावजूद भारत का संविधान काफी हद तक इस मनुवादी सोचविचार से मुक्ति के प्रबंध करता है । अंधविश्वास और जाति, धर्म, स्त्री-पुरुष के नाम पर होने वाली गैरबराबरी और ज्यादती के रास्ते बंद करता है । मगर एक तो सिर्फ लिखने भर से कुछ होता जाता नहीं है, दूसरे जिनके हाथों मे इस संविधान को लागू करवाने का जिम्मा था/है  उनका इस कुरीति और आपराधिक सोच को दूर करने की धारणा से कोई रिश्ता नाता नहीं है । नतीजा सामने हैं ।

बुरे को बुरा कहने और साबित करने भर से भी बुराई खत्म नहीं हो जाती । उसे धिक्कारने, अतीत मे उसके किए पर पश्चाताप और उसका शिकार बनी पीढ़ियों की पीड़ाओं का प्रायश्चित करने की भी आवश्यकता होती है । दुनिया के अनेक देश, समुदाय, धर्म और पंथ अपने अपने काले अतीत का पुनरावलोकन करते रहते हैं । जनदवाब बढ्ने पर समय समय पर उन गुनाहों के लिए पश्चाताप भी करते हैं, प्रायश्चित भी करते हैं । कैथॉलिक चर्च या पोप के अब माफी मांगने से अब गैलीलियो का कुछ बनने बिगड़ने का नहीं है किन्तु गुजरी पीढ़ियों के जुर्म और गलती का अहसास मौजूदा और आगामी पीढ़ियों के सलीके और सलूक को निखारता है, ढालता है । इसके बाद लगातार उसे सामाजिक सीख और शिक्षा के माध्यम से जनमानस की चेतना मे बैठाया जाना होता है । जर्मनी ने कुछ हद तक यह किया । हिटलर और उसके नाजीवाद को अपना कलंक माना, पढ़ाया और उस पर गर्व करना लज्जा की बात बताया ।  इस देश मे यह दोनों ही काम नहीं हुये । किसी एतिहासिक कालखण्ड मे हुयी जघन्यता को जघन्यता माना ही नहीं गया । उल्टे अतीत के गौरव की बहाली के नाम पर उनको अपनी शान और संरक्षणीय धरोहर करार दिया गया । नतीजा सामने हैं ; इसे अब भी नहीं थामा या उलटा गया तो यह .कभी धर्म तो कभी संप्रदाय, कभी जाति तो कभी भाषा के बहाने सभ्यता और समाज, गाँव के गाँव यहाँ तक कि घर की चौखट के भीतर के परिवारजनों को भी स्त्री-पुरुष के नाम पर खण्डित विखण्डित कर देगा  ।

इसमे जातिश्रेणीक्रम और पितृसत्ताकता सबसे अधिक सांघातिक और जानलेवा है । इसकी दुष्ट चेतना से उबरने की शुरुआत मनु के कहे से हुये  कुकर्मों की सार्वजनिक माफी मांगने से होगी । एक पूरी सभ्यता को सर झुकाकर, भरी आँखों से  कहना होगा कि “गलत हुआ, बहुत गलत हुआ ।  बस अब इसकी निरंतरता या पुनरावृत्ति नहीं होना चाहिए/नहीं होने देंगे।” उसके बाद ही शुरू होगा अगला चरण ; मौजूदा और आगामी पीढ़ियों को उन अमानवीयताओं से वाकिफ कराने का जो इस सबके चलते हुयी । उनके घाटों और खामियाजों के जोड़ से जो इस सबके चलते हुये । रोशनी से सॉरी बोलकर ही भारत की  सभ्यता और समाज की रौशनी बचाई जा सकती है, अविनाश से क्षमा मांग कर ही मनुष्यता को विनाश से बचाया जा सकता है ।

वरना ह्यूस्टन से शाहजहांपुर तक घण्टा तो बज ही रहा है, पढ़ लीजिये इसी शंखध्वनि में अपना भी गरूड़ पुराण !! वह गरूड़ पुराण जो मृत्यु के बाद पर्याप्त दक्षिणा लेकर पण्डज्जी पढ़ते हैं, मौत की पुष्टि करने के लिए.

डिस्क्लेमर (अस्वीकरण) :इस आलेख में व्यक्त किए गए विचार लेखक के निजी विचार हैं. इस आलेख में दी गई किसी भी सूचना की सटीकता, संपूर्णता, व्यावहारिकता अथवा सच्चाई के प्रति cgbasket उत्तरदायी नहीं है. इस आलेख में सभी सूचनाएं ज्यों की त्यों प्रस्तुत की गई हैं. इस आलेख में दी गई कोई भी सूचना अथवा तथ्य अथवा व्यक्त किए गए विचार cgbasket के नहीं हैं, तथा cgbasket उनके लिए किसी भी प्रकार से उत्तरदायी नहीं है.

Anuj Shrivastava

Next Post

देशव्यापी मंदी के दुष्प्रभावों के ख़िलाफ़ किसानों को लामबंद करेगी किसान सभा

Sun Sep 29 , 2019
छत्तीसगढ़ किसान सभा ने देशव्यापी मंदी का छत्तीसगढ़ के किसानों पर पड़ रहे दुष्प्रभाव के खिलाफ प्रदेशव्यापी अभियान चलाने तथा […]

You May Like