दंतेवाड़ा सुकमा में फर्जी मुठभेड़ कर ग्रामीणों को मारने का आरोप

प्रेस विज्ञप्ति

शुक्रवार 13/09/2019 को दंतेवाडा जिला के गुमियापाल गावं [ थाना किरन्दुल ] में एक घटना घटि जिसको पुलिस ने मुठभेड़ का नाम दिया है , परन्तु आज एक चार – सदस्यीय जाँच दल ने अपनी जाँच में पाया है कि वहां मुठभेड़ नहीं पर हत्या हुईं है | पुलिस अधिकारियों का यह कहना की पोदिया सोरी [ पिता जोगा ] और लच्छू मांडवी [ पिता पंडू ] जो दो लोग मारे गये वह 5 -5 लाख के इनामी नक्सली थे , यह सरासर झूठ है | यह दोनों गाँव के सक्रिय सदस्य थे |

  इस घटना के 3 गवाह है, इन तीनो गवाहों से इस जाँच - दल की बात चीत हुई जिसके फोटो व् विडियो हमारे पास उपलभ्ध है | यह बात – चीत गाँव के ग्रामीण व् मृतको के परिजन जो आज भारी संख्या में आए थे उनके समक्ष हुई | जाँच के दौरान हमें पता चला कि:
  1. शुक्रवार शाम गाँव को 5 मित्रों ने कुछ मनोरंजन करने की सोची और कुछ विशेष खाने पीने का प्लान बनाया | शाम 8 : 30 – 9 बजे अचानक स्कूल परिसर जहाँ वे सब बैठे हुए थे वहां 15 – 20 की संख्या में फ़ोर्स घुस गई कुछ आध घंटे पहले पांच में एक पोदिया सोरी – थोडा पीकर सोने के लिए स्कूल के पास उसके एक मित्र के घर चला गया था | स्कूल परिसर में बाकि 4 जन थे, फ़ोर्स चारो को घेर कर थोड़े थप्पड़ मारने के बाद सड़क के तरफ खीच कर ले जाने लगी इन्होने फ़ोर्स में आये सिपाहियों में दो को पहचान लिया मडकामीराज गाँव का पोडिया मडकाम और मदारीगावं का भीमा कड़ती, इसी बिच पोदिया को भी उसके मित्र के घर से लाकर सभी को एक साथ ले जाने लगे | अँधेरे की आड़ में इन पंचों में से 2 व्यक्ति भागने में सफल हो गये, बाकी तीन में से दो को [पोदिया सोरी और लच्छू मंडवी ] रास्ते में ही मार दिया गया | इनकी लाश किरंदुल थाना ले गए और दूसरे दिन दंतेवाडा हास्पिटल ले गए |

2.तीसरा युवक , अजय नेताम , को फ़ोर्स अपने साथ ले गई थी और मोटरसायकल भी ले गई थी, पर उनकी माँ विज्जो तेलाम , शानिवार और रविवार दोपहर तक किरंदुल थाने में बैठी रही पर उनको अपने बेटे की जानकारी नही दी गई

T.I ने उनको कहाँ ‘’ तुम्हारा बेटा 10 साल जेल में रहेगा “, पर आज शाम को जाँच दल को किरंदुल थाना के TI ने अपने staff द्वारा कहा कि अजय के बारे में उनके पास कोई जानकारी नही है। कानून के मुताबिक अजय को 24 घंटे के भीतर में मजिस्ट्रेट के समक्ष पेश करना चाहिये था पर पुलिस उसको show नहीं कर रही है । जाँच दल ने SP दंतेवाडा को कई बार फोन किया पर उन्होंने फोन नहीं उठाया । जाँच दल उनको मिलने भी गया पर मिलने में असमर्थ रहा ।

हमारी मांग है की इस घटना का सही FIR दर्ज हो , जाँच हो और फर्जी मुद्दों का सिलसिला बंद हो |

अजय तेलाम को पुलिस जल्द से जल्द मजिस्ट्रेट के सामने प्रस्तुत करे और उनके परिवार को उनके बारे सही जानकारी दे |

                धन्यवाद

सोनी सोरी, लिंगाराम कोडोपी, हिड़मे मड़कम और बेला भाटिया

  

CG Basket

Next Post

दंतेवाड़ा - सुकमा में फर्जी मुठभेड़ कर ग्रामीणों को मारने का आरोप

Mon Sep 16 , 2019
Share on Facebook Tweet it Share on Google Pin it Share it Email पुलिस ने शानिवार को पाँच माओवादीयों का […]