इस्तीफ़े के कारण में कही गोपीनाथन की बातें फ़र्ज़ी राष्ट्रवाद की धूल को एक झटके में झाड़ देती हैं

Want create site? Find Free WordPress Themes and plugins.

केरल कॉडर के IAS और पिछले दिनों बाढ़ राहत कार्यक्रमों को लेकर चर्चा में रहे IAS कन्नन गोपीनाथन ने नौकरी से इस्तीफा दे दिया है. उन्होंने कश्मीर में चल रहे ब्लैकआउट और मौलिक अधिकारों के हनन का कारण देते हुए नौकरी छोड़ी है.



कन्नन ने केरल राज्य में कई अहम पदों पर काम किया है. वे पॉवर और अपरंपरागत ऊर्जा स्त्रोत विभाग के सचिव रहे हैं. कन्नन कलेक्टर भी रहे हैं.

फ़ोटो सौजन्य-suvarnanews.com



एक मलयाली वेबसाइट ieMalayalam.com. को दिए इंटरव्यू में गोपीनाथन ने विस्तार से अपने इस्तीफे के कारणों के बारे में बताया.

फ़ोटो सौजन्य – द क्विंट हिन्दी



गोपीनाथान ने आगे कहा, ‘सवाल ये नहीं है कि मैं क्यों अपनी नौकरी से इस्तीफा दे रहा हूं, दरअसल पूछा ये जाना चाहिए कि मैं कैसे इस वक्त अपनी नौकरी में बना रहूं.’

फ़ोटो सौजन्य – द क्विंट हिन्दी



पिछले दिनों चर्चा में थे कन्नन

कन्नन पिछले दिनों डीएनएच प्रशासन के डिस्ट्रिक्ट कलेक्टर के तौर पर बाढ़ पीढ़ितों की मदद करने के लिए चर्चा में थे. उन्हें रिलीफ और रेस्क्यू ऑपरेशन में एक्टिव तरीके से मदद करते देखा गया था. उन्होंने प्रशासन की तरफ से केरल सीएम डिजास्टर रिलीफ फंड को एक करोड़ रुपये का चेक भी दिया था.

फ़ोटो सौजन्य – द क्विंट हिन्दी



वे रिलीफ कैंप में आम आदमी की तरह सामान पहुंचाते नजर आए थे. एक साथी अफसर ने उनकी पहचान मीडिया से शेयर की थी. इसके बाद वे खबरों की हेडलाइन्स बने थे.

फ़ोटो सौजन्य – द क्विंट हिन्दी

नोट – ये लेख और तस्वीरें द क्विंट हिन्दी में प्रकाशित हो चुकी हैं हमने ये सामग्री वहीँ से ली है. मूल ख़बर का लिन्क नीचे दिया गया है.
https://hindi.thequint.com/news/india/ias-kannan-gopinathan-resign-over-kashmir-human-rights-ban?utm_source=moengage&utm_medium=push-notification

Did you find apk for android? You can find new Free Android Games and apps.

Anuj Shrivastava

Next Post

ढहती अर्थव्यवस्था: मोदी सरकार द्वारा महाअमीरों को संजीविनी बूटी और आम जनता को विष का प्याला

Sun Aug 25 , 2019
Want create site? Find Free WordPress Themes and plugins. आखिरीकार नीति आयोग को भी स्वीकार करना पड़ गया है कि […]

You May Like