21 टन की मशीन आर्चब्रिज से दो बार निकली , एक फुट और नीचे धंसी सड़क

स्लैब के पास बड़ा गड्ढा , दोनों तरफ की सड़क ब्लॉक , सिक्योरिटी गार्ड भी तैनात

पत्रिका न्यूज

रायपुर तकनीकी जांच के बीच एक्सप्रेस – वे के आर्चब्रिज के करीब सडकखतरनाक स्थिति में पहुंच गई उस हिस्से से अभी केवल दो बार ही 21 टन की ब्रिज जांच मशीन निकली और आचब्रिजके स्लेब केपससक एक फीट तक धस गई वहां लंबा चौडागइदाहोचका है । इसे देखते हुए सहक विकास निगम के अफसरों ने वेनों तरफ से सड़क को पूरी तरह से ब्लॉक कर दिया है । सिक्योरिटी गार्ड भी तैनात कर दिए गए हैं । खौफनाक तस्वीर यह है कि आर्चब्रिज के आखिरी स्लैब के पास 25 फीट चौड़ी और 15 फीट लंबे दायरा तेजी से बैठता जा रहा है तकनीकी अधिकारियों का कहना है कि यदि सड़क की ऐसी स्थिति रही तो ब्रिज चेकिंग मशीन को आर्चब्रिज के पास से निकालना किसी बड़े खतरे से कम नहीं है । क्योंकि ब्रिज का स्लेब ऊपर आ चुका है । गहरा गड्ढा होने से सड़क धंसने का सीधा असर ब्रिज के दोनों तरफ की रिटेनिंग वॉल पर पड़ रहा है ।

हर पहलू के तथ्यों की जांच हो : वीरेश

छत्तीसगढ़ कांट्रेक्टर एसोसिएशन ने मुख्य तकनीकी विंग की जांच रिपोर्ट आने से पहले केवल ठेकेदारको जिम्मेदार ठहरानेवाले अफसरों की कार्यप्रणाली पर सवाल उठाया है । एसोसिएशन के अध्यक्ष वीरेश शुक्ला का कहन है कि निर्माण कार्य कराने वाले ठेकेदारों के पक्ष को भी सुना जाना चाहिए । सीटीई जांच में निर्माण एजेंसी के तकनीकी तथ्यों की भी बरीकी से जांच हो । एसोसिएशन ने निर्माण एजेंसी से पत्राचार किया , जिसमें जवाब दिया है कि एक्सप्रेस – वे निर्माण के लिए जमीन अतिक्रमण हटाए बगैर दी गई थी । ऐसी स्थिति में समय सीमा को देखते हुए कार्य कराया । सड़क धंसना तकनीकी त्रुटि है । ढांचे में कोई खराबी नहीं । बरसात के बाद पूरीसड़क दुरुस्त कर आम जनता को सौंपेंगे । एसोसिएशन ने निर्माण एजेंसी के तकनीकी पक्षों को नजरअंदाज नहीं करने की मांग की है ।

वाहनों की आवाजाही परी तरह बंद ‘

पत्रिका ‘ टीम ने शनिवार को देखा कि एक्सप्रेस – वे सड़क के अवंति विहार से लेकर अमलीडीह उतार तक पूरी तरह से वाहनों की आवाजाही पर सख्ती से रोक लगा दी गई है । दोनों तरफ सिक्योरिटी गार्ड तैनात मिले । उस जगह पहुंचने पर भयावह तस्वीर सामने आई । केवल सर्विस रोड से ही वाहनों की आवाजाही जारी थी ।

पूरी तरह जांच निष्पक्ष होगी निर्माण में गुणवत्ता से कोई समझौता नहीं अफसरों को निर्माण कार्य में गुणवत्ता और समय सीमा का पालन करने का आदेश दिया है ।

ताम्रध्वज साहू , मंत्री पीडब्ल्यूडी |

CG Basket

Next Post

जम्मू - कश्मीर में सीआरपीएफ के असिस्टेंट कमांडेंट ने की आत्महत्या

Sun Aug 25 , 2019
पत्रिका न्यूज श्रीनगर . जम्मू कश्मीर में सीआरपीएफ की 40वीं बटालियन में तैनात तमिलनाडु निवासी असिस्टेंट कमांडेंट एम अरविंद ( […]