कुपोषण से मुक्ति के लिए मध्यान भोजन में अंडा वितरण के निर्णय का छत्तीसगढ़ बचाओ आंदोलन स्वागत करता हैं.

अण्डा के विरोध की जगह कुपोषण से मुक्ति की लड़ाई में आवाज बुलंद करें।

छत्तीसगढ़ में बच्चो में कुपोषण की गंभीरता को देखते हुए मध्यान भोजन में अंडा वितरण के राज्य सरकार के निर्णय का छत्तीसगढ़ बचाओ आंदोलन स्वागत करता हैं। रमन सरकार के पिछले 15 वर्षों के कार्यकाल में मध्यान भोजन और पूरक आहार पर विशेष ध्यान नही दिए जाने के कारण ही आज प्रदेश में 38 प्रतिशत बच्चे कुपोषित हैं और यह शर्मनाक स्थिति विकास के दावों पर गंभीर सवाल खड़े करती हैं। कुपोषण की इस गंभीर स्थिति में बच्चो को प्रोटीन युक्त पूरक आहार आवश्यक हैं।

भूपेश सरकार की अण्डा वितरण की यह पहल कुपोषण से मुक्ति के लिए बहुत ही महत्वपूर्ण कदम है । अंडा नही खाने वाले शाकाहारी बच्चों को दूध जैसे अन्य विकल्प उपलब्ध करवाए जाएं । जो बच्चे अण्डा खाना चाहते हैं उन्हें इससे वंचित करना उचित नही जबकि यह उनके लिए आवश्यक हैं। छत्तीसगढ़ बचाओ आंदोलन का मानना हैं कि खान पान की स्वतंत्रता हमारा मूल संवैधानिक अधिकार हैं और उसे किसी भी संघठन या सरकार द्वारा बाधित नही किया जा सकता।


छत्तीसगढ़ बचाओ आंदोलन

CG Basket

Next Post

बिलासपुर , मानसिक चिक्तासालय : अंततः अभियुक्त डॉ बनर्जी पर बलात्कार का मामला दर्ज, युवती के साथ कार्यस्थल पर यौनिक हिंसा, गाली गलौच, पीछा करने का मामला.

Fri Jul 19 , 2019
बिलासपुर में सेंदरी स्थिति मानसिक चिकित्सालय में कार्यरत डा. बनर्जी के खिलाफ उनके ही विभाग में कार्यरत महिला डाक्टर ने […]