जिंदल के चेयर मैन 30 मिनट रहे बीएसपी के यूआरएम में, निजीकरण की अटकलें.कर्मियों में उत्सुकता ….आखिर क्यों आये थे .

भिलाई . भिलाई इस्पात संयंत्र में गुरुवार को जिंदल स्टील व पॉवर के चेयरमैन नवीन जिंदल पहुंचे । यहां उन्होंने संयंत्र की कुछ प्रमुख इकाइयों का अवलोकन किया । वे यूनिवर्सल रेल मिल में करीब 30 मिनट तक रहे और उत्पादन की प्रक्रिया को बारीकी से देखा । इस मौके पर बीएसपी के मुख्य कार्यपालक अधिकारी अनिवन दासगुप्ता , महाप्रबंधक प्रभारी , परियोजनाए एके भट्टा भी उनके साथ मौजूद थे ।

फोटो पत्रिका

पत्रिका न्यूज नेटवर्क

     इस बीच बीएसपी के बाद भारतीय रेल को रेलपांत सप्लाई करने वाले नवीन जिंदल के संयंत्र दौरे को लेकर सोशल मीडिया में संयंत्र कर्मचारी सक्रिय हो गए । कर्मियों ने बीएसपी के निजीकरण , यूआरएम जैसा प्लांट दूसरे प्रदेश में लगाने जैसे तमाम सवाल खड़े किए । बीएसपी के रेल उत्पादन में एकाधिकार को झटका देने वाले जेएसपीसीएल के संचालक से क्या आदान - प्रदान किया जाएगा , यह सवाल भी सोशल मीडिया में जमकर चला । | चेयरमैन नवीन जिंदल ने अत्याधुनिक तकनीक से निर्मित यूनिवर्सल रेल मिल को बारीकी से देखा , यहां लांग्स रेलपांत निर्माण किस तरह से किया जाता है , उसे देखने के बाद लांस रेलपांत को रेलवे के वैगन में किस तरह से लोडिंग किया जाता है , उस प्रक्रिया को देखा । लॉग्स रेलपांत के लिए चुम्बकीय सिस्टम का पूरा एक अलग युनिट है , जहां से रेलपांत को ऑटोमैटिक सिस्टम से विशेष वैगन में लोड किया जाता है ।

युआरएम स्थापित करने की लागत आई 1200 करोड़

बीएसपी में यूआरएम की स्थापना 1200 करोड़ रुपए की लागत से की गई है । बीएसपी के आधुनिकीकरण का यह हिस्सा है । यूआरएम की उत्पादन क्षमता 70 लाख टन सालाना तक है । अब बीएसपी नई यूनिवर्सल रेल मिल के सहारे दुनिया की सबसे लंबी रेल पटरियों का वाणिज्यिक स्तर पर उत्पादन शुरू कर चुका है । बीएसपी ही सेल की एकमात्र इकाई है ,

130 मीटर सिंगल रेलपांत करते हैं तैयार यूआरएम में

260 मीटर लंबी लॉन्स रेलपांत की सप्लाई की क्षमता

21 वैगन होते हैं , एक रैक में

48 नग लॉन्ग रेलपांत एक रैक में होती है लोड

260 मीटर लंबी रेलपांत का किया जा रहा उत्पादन

बीएसपी पुराने मिल ( आरएसएम ) से 65 मीटर लंबी पटरियों का उत्पादन कर उसे वेल्डिंग के जरिए जोड़कर भारतीय रेल की । मांग को पूरा करती रही है , लेकिन नए यूआरएम के शुरू होने से कपनी अब 130 मीटर । लंबी पटरी का उत्पादन करने में सक्षम हो गई है और अब उसे भारतीय रेल के लिए 260 मीटर लंबी पटरी की आपूर्ति केवल एक जोड़ ( वेल्डिंग ) के साथ कर सकती हैं । इसे खासकर जिंदल ने देखा .


महामाया को देखा

जिंदल ने देश की सक्से बड़े ब्लास्ट फर्नेस में शुमार महामाया ब्लास्ट फर्नेस – 8 , रेल मिल में एण्ड फोर्जिंग प्लांट , इस्पात गलन शाला – 1 को भी देखा । उन्होंने अधिकारियों के साथ ज्ञान व अनुभव को साझा कर इस्पात उत्पादन व उत्पादकता को बढ़ाने संबंधी प्रयासों पर चर्चा की ।

सुरक्षा का अवलोकन

चेयरमैन ने संयंत्र में सबसे पहले संयंत्र के मेनगेट के पास में स्थापित किए सेफ एरॉस सेंटर सुरक्षा कवच का अवलोकन किया । रामें अतिथियों को संयत्र भ्रमण में निहित सुरक्षा संबंधी जानकारी और अपेक्षित व्यवहार के विषय में विस्तार से बताया जाता है ।

**

CG Basket

Next Post

किसी व्यक्ति को सरकार द्वारा केवल इस संदेह के आधार पर प्रताड़ित नहीं किया जा सकता कि उसने माओवादी विचारधारा अपना ली है.: केरल हाईकोर्ट.

Fri Jul 12 , 2019
हाईकोर्ट की एक खंडपीठ ने एकल पीठ के फैसले को बरकार रखते हुए केरल सरकार की अपील खारिज कर दी, जिसमें एक […]