अदम गोंडवी, लोग कहते हैं कि गोंड का ये शायर जब अपने बगावती तेवर में कविता पढ़ता था तो लगता था कि ज़ालिम सत्ता को अभी पल में बदल के रख देगा. इनका असली नाम रामनाथ सिंह था पर सब ने इन्हें अदम गोंडवी पुकारा, इसी नाम से शोहरत पाई. 

ऊंच-नीच और सत्ता की लूट के ख़िलाफ़ अदबी जंग छेड़ी अदम ने. उनकी शायरी ग़रीब- बेसहारों का हथियार बनी.
उनकी एक कविता बहुत मशहूर हुई “मैं चमारों की गली में ले चलूंगा आपको”. कविता एक दलित लड़की से बलात्कार की सच्ची घटना पर आधारित है.

आज मसाला चाय कार्यक्रम में सुनिए अदम गोंडवी की वही रचना.

अनुज श्रीवास्तव ने मुबंई में.मसाला चाय की श्रंखला प्रारंभ की थी जिसमें वे देश के लब्धप्रतिष्ठित साहित्यकार ,कवि और लेखकों की कहानी, कविता का पाठ करते है.यह श्रंखला बहुत लोकप्रिय हुई ,करीब 50,60 एपीसोड. जारी किये गये. सीजीबास्केट और यूट्यूब चैनल पर क्रमशः जारी करने की योजना हैं. हमें भरोसा है कि अनुज की लयबद्धत आवाज़ में आपको अपने प्रिय लेखकों की कहानी कविताएं जरूर पसंद आयेंगी.

मसाला चाय के इस अंक में सुनिए..अदम गोंडवी की कविता ..