केलो प्रवाह से आभार सहित.

**

रायगढ़ . जेएसडब्ल्यू एनर्जी करीब तीन साल पहले जेएसपीएल पावर प्लांट अधिग्रहण की इच्छा जताई थी ,बातचीत बेनतीजा रही अब जाकर जेएसडब्ल्यू कर दी घोषित कि वह इस प्लॉट डील खत्म रहा है ।

करीब 40 करोड़ में डूबे जेएसपीएल के यह झटका माना जा रहा है फंड के लिए जेएसपीएल स्थित 1000 मेगावाट वाले पावर प्लांट ने इच्छा जताई थी .सबसे पहले इसके लिए जेएसडब्ल्यू एनर्जी कंपनियों के बीच बातचीत थी जिसमें पूरी डील की जानकारी दी गई ।

प्रक्रियागत चर्चाएं जारी रही . 30 जूनत्र 2018 में इसे डील का फाइनल हो जाना चाहिए था ,लेकिन कई रुकावटें आई . इसके बाद डील की बची हुई औपचारिकताएं करने के लिए 30 जून 2019 तक मोहलत दी गई । दोनों कंपनियों के बीच

कुछ शर्त पर बात नहीं बन सकी तो डील ही कैंसल हो गई । जेएसडब्ल्यू ने शेयर मार्केट में फाइल किए जवाब में इसकी जानकारी दी है । जवाब में कहा गया लंबी बातचीत के बावजूद कुछ मुद्दों समाधान नहीं हो सका इसलिए डील
टर्मिनेट किया गया .2016 को ही जेएसडब्ल्यू ने कहा जेएसपीएल के 1000 मेगा.पावर प्लांट का अधिग्रहण चाहता है ।

60 प्रतिशत कैपेसिटीपर चल रहा कहा जा रहा था प्लांट

इस डील से जेएसपीएल को नुकसान होगा क्योंकि इससे कर्ज चुकाने के लिए कुछ फंड उपलब्ध हो जाता । जेएसपीएल की तमनार पावर यूनिट प्लांट लोड फैक्टर या कैपेसिटी यूटीलाइजेशन के तहत 60 प्रतिशत क्षमता तक चलाया जा रहा है । वहीं जेएसपीएल ने हाल ही में ऊर्जा मंत्रालय द्वारा जारी पावर सप्लाई टेडर में कमसे कम टैरिफ दर पर बिजली आपूर्ति के विडिंग में सफलता पाई है ।

***