भैया… ठोला नहीं…अभिताभ कट बना दो?

राजकुमार सोनी ,वरिष्ठ पत्रकार

राजेश खन्ना के ढलान और अभिताभ बच्चन के उठान युग में धीरे-धीरे मेरी हाइट बढ़ रही थी. अक्सर दोस्तों और भाइयों के बीच इस बात को लेकर झगड़ा हो जाता था कि कौन श्रेष्ठ है.बहुत से लोग राजेश खन्ना को श्रेष्ठ मानते थे और कुछ दोस्तों का कहना था कि अमिताभ का कोई मुकाबला नहीं. जो मुझसे छोटा भाई था उसे विनोद खन्ना पसंद था.

निजी तौर पर मैं अभिताभ का मुरीद था. अभिताभ पर फिदा होने के कई कारण है, लेकिन सबसे बड़ा कारण अमिताभ की हेयर स्टाइल थीं. दोनों तरफ फुग्गे वाली कली रहती थीं और पूरे कान ढंके रहते थे. मैं अभिताभ जैसी हेयरस्टाइल रखना चाहता था. इसके लिए खूब मेहनत भी करता था, लेकिन मेरी सारी मेहनत पर पिता जी पानी फेर देते थे. हर महीने किसी एक रविवार मेरे बालों का काम तमाम कर दिया जाता था.

बाकी भाइयों को केश सज्जा का महत्व पता नहीं था इसलिए वे पिताजी के सामने सरेंडर हो जाते थे और जैसा पिताजी चाहते थे वैसा ही बाल कटवा लेते थे, लेकिन मैं नाई की दुकान में जाते-जाते तक प्रतिरोध करता था.जैसे ही नाई की दुकान पहुंचता वैसे ही नाई भी खुश हो जाता. शायद वह मुझे बकरा समझता था. कई बार तो यह भी लगता था नाई पिताजी से मिला हुआ है और उनकी ही सुनता था. मेरे हाट सीट पर बैठते ही पिताजी डायरेक्शन दे देते थे और नाई भी उनके कहे अनुसार कैची चला-चला कर खुश होते रहता था. मैं अभिताभ…अभिताभ चिल्लाते रहता और पिताजी कहते-कोई अभिताभ नहीं… ठोला कट काट दो. बाल कटाई के दौरान ही यह पता चल गया था जो पुलिस वाले छोटे-छोटे बाल रखते थे उन्हें ठोला कहते हैं.कई बार तो नाई सिर पर सीधे कटोरा रखकर बाल काट देता था और डबल ठोला बनाकर छोड़ता था.

आप सबके साथ भी शायद ऐसा हुआ होगा. कोई राजेश खन्ना हेयरस्टाइल के लिए परेशान रहा होगा तो कोई विनोद खन्ना जैसी स्टाइल रखना चाहता होगा.

मैं जिस स्कूल में पढ़ता था वहां सारी लड़कियों को सख्त हिदायत थीं कि वे दो चोटी में लाल रिबन बांधकर आएगी.उन्हें शनिवार को सफेद रिबन बांधना होता है. उन दिनों लड़कियों के बीच फिल्म अभिनेत्री साधना की हेयर स्टाइल का जलवा बरकरार था. लड़कियां साधना कट भी रखती थीं तो भी दो चोटी डालनी होती थीं. कक्षा में लड़कियों के सिर पर अच्छे-खासे बाल देखकर जलन होती थीं. एक बार मैंने चंद्राकर गुरुजी से डरते-सहमते कह ही दिया- गुरुजी… आप कभी लड़कियों को बाल कटवाने के लिए नहीं कहते हैं? हम लोग ही कब तक बलिदान देते रहेंगे? गुरुजी ने कहा- ठीक है तुम बाल बढ़ा लो…लेकिन फिर चोटी भी बांधकर आना पड़ेगा.

हमारी हेयरस्टाइल का युग राजेश खन्ना, अभिताभ बच्चन, विनोद खन्ना और थोड़े समय के लिए मिथुन चक्रवर्ती से गुजरकर समाप्त हो गया है. अब शायद लड़कों के बीच विराट कोहली वाली हेयर स्टाइल चल रही है? लड़कियों के बीच कौन सी हेयर स्टाइल चल रही है इसकी जानकारी नहीं है. पहले मन ही मन में लड़कियों की तारीफ करने लिए ज्यादा सोचना नहीं पड़ता था. तस्वीर एकदम साफ रहती थी. कौन सी लड़की में साधना मौजूद है? कौन लड़की हेमामालिनी है? कौन दो चोटी डालने वाली रेखा है? कौन जीनत अमान है और कौन परवीन बाबी? अब पहचान थोड़ी मुश्किल हो गई है. अब पता ही नहीं चलता क्योंकि सारी लड़कियां एक जैसी दिखती है. जिसे देखता हूं वह मुंह को आड़ा-तेड़ा करके सेल्फी लेते मिलती है और हर रोज मिलती है.

****

CG Basket

Next Post

छत्तीसगढ़ पत्रकारों का लिंचिंस्तान ना बन जाए. उत्तम कुमार .

Thu Jun 27 , 2019
Share on Facebook Tweet it Share on Google Pin it Share it Email सम्पादक दक्षिण कोसल छत्तीसगढ़ में लगातार पत्रकारों […]