Want create site? Find Free WordPress Themes and plugins.
शिकारी बिलासपुर  मे भी तैयार हैं ,बस तैयारी है किसी बड़ी घटना के अयोजन की .


ईद के दिन से बिलासपुर मे तरह तरह की कोशिश हो रही है की कैसे भी यहां तनाव  पैदा किया जाये ,जैसा मुज़फ़्फ़रनगर या देश के बांकी और जगहो मे किया जा रहा  हैं, संघ के वास्तविक एजेंडा ज़ोर शोर से हर जगाह लागू करने की तैयारी हैं, ठीक ईद के दिन शम को ६ बजे किसी फर्जी आई डी से फेसबूक पे देवी देवताओ के फोटो पोस्ट किए गए ,और पोस्ट होने के आधा घंटे बाद ही ,उपद्रवी लोग निकल आये , जैसा की वे हमेशा करते है वेसे ही नारेबाजी, लाठी बल्लम के साथ आतंक मचाया गया , जैसा की पुलिस करती है देर से पहुंची , मामले को शान्त करने के लिये , ये भी तय ही था की सारे उपद्रवी धर्मसेना ,बजरंगी और भाजपा के संघटानो के ही थे,पुलिस तो शक्ल देख के ही घबरा गई , जैसे तैसे केलेक्टर को बुलाया गया , सबसे पहले  प्रशशन ने उस पोस्ट को अपने प्रयासो से हटवाया , अब तक शहर के शान्ती प्रिय ,जनसंघटन के लोग पहुच गए थे  , उन्होने भागदोड करके मामला शान्त करवाया , प्रशशन से पुरजोर माँग की हर हालत मे पोस्ट करने वाले को तुरन्त गिरफ्तार किया जाये , और गूगल पे कानूनी कार्यवाही की जाये .
गूगल ने पहले भी ये कहा है की कोई भी ऐसी पोस्ट नहीं हो डी जाएगी जॉ समाज मे अशान्ती फैलती हो , लेकिन होता कभी नहीं हैं। इसलिये जनसंघटानो के मित्रो ने ताई किया की न्यालय मे गूगल के खिलाफ  इस अधर पे प्रकारण दर्ज़ किया जाएगा की वो भी अशान्ती फैलाने के लिये जिम्मेदार हैं . उसी रात यह भी तय हुआ की कल सवेरे गांधी जी की प्रतिमा के सामने  शान्ती और अमन के लिये शहर के आम नागरिक मोन बैठेंगे ,
मेने पहली बार अपने मोहल्ले मे रात को नारे लगाती एक जीप और कुछ गडिया घूमती देखी जॉ ज़ोर ज़ोर से जय श्रीराम और हा रहर महादेव के नारे लगा रही थी ,मे सही मे इस नारे से सिहर गया , मेने अपने दोस्तो को बताया भी , मेने इसके पहले कभी ऐसे नारे लगते समूह को नहीं देखा था , रिपोर्ट और खबरो मे जरूर देख अथ अकी कैसे दंगाई इन नारो के साथ उत्पात लकरते हैं ,देश ने इन नारो के परिणमो को बुरी तरह भुगता भी हैं 
दूसरे दिन अखबरो मे पढा भी की कुछ उत्पतियो को पकडा गया ,लेकिन सबसे  बड़ी बात तो ये की इन गुंडो को छुडाने के लिये  एक कोंग्रेस नेटे और एक भाजपा नेता ने फॉन किया ,और इन दोनों की सिफारिश पे उन्हे छोड दिया गया . 
क्या आपको अब भी शक है की इस तरह के तनव फैलाने के  लिये कोन लालायित रहते हैं, 

ईद के दिन से बिलासपुर मे तरह तरह की कोशिश हो रही है की कैसे भी यहां तनव पैदा किया जाये ,जैसा मुज़फ़्फ़रनगर या देश के बांकी और जगहो मे किया जा रहा  हैं, संघ के वास्तविक एजेंडा ज़ोर शोर से हर जगाह लागू करने की तैयारी हैं, ठीक ईद के दिन शम को ६ बजे किसी फर्जी आई डी से फेसबूक पे देवी देवताओ के फोटो पोस्ट किए गए ,और पोस्ट होने के आधा घंटे बाद ही ,उपद्रवी लोग निकल आये , जैसा की वे हमेशा करते है वेसे ही नारेबाजी, लाठी बल्लम के साथ आतंक मचाया गया , जैसा की पुलिस करती है देर से पहुंची , मामले को शान्त करने के लिये , ये भी तय ही था की सारे उपद्रवी धर्मसेना ,बजरंगी और भाजपा के संघटानो के ही थे,पुलिस तो शक्ल देख के ही घबरा गई , जैसे तैसे केलेक्टर को बुलाया गया , सबसे पहले  प्रशशन ने उस पोस्ट को अपने प्रयासो से हटवाया , अब तक शहर के शान्ती प्रिय ,जनसंघटन के लोग पहुच गए थे  , उन्होने भागदोड करके मामला शान्त करवाया , प्रशशन से पुरजोर माँग की हर हालत मे पोस्ट करने वाले को तुरन्त गिरफ्तार किया जाये , और गूगल पे कानूनी कार्यवाही की जाये .
गूगल ने पहले भी ये कहा है की कोई भी ऐसी पोस्ट नहीं हो डी जाएगी जॉ समाज मे अशान्ती फैलती हो , लेकिन होता कभी नहीं हैं। इसलिये जनसंघटानो के मित्रो ने ताई किया की न्यालय मे गूगल के खिलाफ  इस अधर पे प्रकारण दर्ज़ किया जाएगा की वो भी अशान्ती फैलाने के लिये जिम्मेदार हैं . उसी रात यह भी तय हुआ की कल सवेरे गांधी जी की प्रतिमा के सामने  शान्ती और अमन के लिये शहर के आम नागरिक मोन बैठेंगे ,
मेने पहली बार अपने मोहल्ले मे रात को नारे लगाती एक जीप और कुछ गडिया घूमती देखी जॉ ज़ोर ज़ोर से जय श्रीराम और हा रहर महादेव के नारे लगा रही थी ,मे सही मे इस नारे से सिहर गया , मेने अपने दोस्तो को बताया भी , मेने इसके पहले कभी ऐसे नारे लगते समूह को नहीं देखा था , रिपोर्ट और खबरो मे जरूर देख अथ अकी कैसे दंगाई इन नारो के साथ उत्पात लकरते हैं ,देश ने इन नारो के परिणमो को बुरी तरह भुगता भी हैं . 
दूसरे दिन अखबरो मे पढा भी की कुछ उत्पतियो को पकडा गया ,लेकिन सबसे  बड़ी बात तो ये की इन गुंडो को छुडाने के लिये  एक कोंग्रेस नेटे और एक भाजपा नेता ने फॉन किया ,और इन दोनों की सिफारिश पे उन्हे छोड दिया गया .
क्या आपको अब भी शक है की इस तरह के तनाव फैलाने के  लिये कोन लालायित रहते हैं, 
Did you find apk for android? You can find new Free Android Games and apps.