पत्रिका.

बैलाडीला की डिपॉजिट 13 को अडानी को जाने के विरोध में 7 दिन चला आंदोलन गुरुवार को खत्म ने गया । इसके साथ ही जिला प्रशासन ने हिरोली में हुई कथित फजी ग्रामसभा की जांच शुरू कर दी हैं । दंतेवाड़ा एसडीएम नूतन कवर को जांच का जिम्मा दिया गया है । एसडीएम ने शुक्रवार को एनएमडीसी समेत उन सभी विभागों को नोटिस जारी किया है , जिनकी सहभागिता था । एनएमडीसी समेत विभागों से कहा गया है कि वे तीन दिन के भीतर 2014 में हुई ग्रामसभा से जुड़ी हर वो जानकारी उपलब्ध करवाए जो उनके पास है । अंदर खाने की माने तो नोटिस जारी होने से एन एम डी सी समेत विभागों में हुडकंप मचा हुआ है । विभाग के कर्मचारी रिकॉर्ड रूम में डटे हुए हैं और एक – एक कागज देख रहे हैं .

2014 में हुई कथित फर्जी ग्रामसभा में हिरेली का ग्राम पंचायत सचिव अब भी वहां पदस्थ हैं । जिस दिन आन्दोलन शुरू हुआ तब से वह गायब था. वह कांकेर जिले का रहने वाला है , जांच में उसका रहना जरूरी है । अब उसे ढूंढा जा रहा है ।

सारे तथ्य जल्द सामने होंगे एसडीएम को जांच का जिम्म सौंपा गया है । उन्होंने शनिवार को अपना काम शुरू कर दिया । हम जांच के दौरान दस्तावेजों के साथ समझौता नहीं कर सकते । इसलिए एसडीएम ने सभी डेटिंग मांगा है ताकि उसके आधार पर जांच तेजी से आगे बढ़ सके । जांच में पूरी दक्षता बरती जाएगी । ग्रामसभा से जुड़े सारे तथ्य आपके सामने जल्दी ही होंगे .

तोपेश्वर वर्मा , कलक्टर दंतेवाड़ा