नितिन सिन्हा की रिपोर्ट

रायगढ़ जिला पुलिस की चुनौतियां कम होती नजर नही आ रही है। खबर है कि जिले में एकाएक बढ़ते अपराध के ग्राफ को लेकर जहाँ एक और पुलिस अधीक्षक आज दिन भर जिला पुलिस के तमाम अधिकारियों के अलावा थाना प्रभारियों की मीटिंग ले रहे थे। वही दूसरी तरफ़ अपराधी शहर की पुलिस व्यवस्था के समक्ष चुनौती पेश करने की योजना बनाने में लगे थे।

दोपहर 3 बजे के आसपास क्राइम मीटिंग खत्म होने के बाद पुलिस अधीक्षक सहित अन्य अधिकारी बमुश्किल अपने कार्यालय पहुंचे ही होंगे कि शाम 6 बजे के आसपास शहर के भीड़-भाड़ वाले इलाके लक्ष्मीपुर में श्याम पेट्रोल पंप के पास स्थित यूनाइटेड बैंक में तीन हथियारबंद नकाब पोश युवक जिनकी उम्र 22 से 25 साल बताई जा रही है,तेजी से बैंक के भवन में घुस गए। उन्होंने बैंक के असिस्टेंट मैनेजर से पिस्टल अड़ाकर लाकर और आलमारी की चाबी मांगी,और नगदी पैसों की जानकारी मांगने लगे। मैनेजर के बताए अनुसार इस समय बैंक बन्द करने का टाइम हो चुका था। नगदी रकम पहले ही सुरक्षित रखी जा चुकी थी। इस समय बैंक में भी उनके सहित कुल तीन स्टाफ मौजुद थे। उन्होंने मैनेजर से की मारपीट करते हुए बैंक में कैश नहीं मिलने पर डी वी आर मशीन तथा कर्मचारियों के पास से कुल सैंतीस सौ लेकर भाग खड़े हुए।

इधर शाम को काफी चहल-पहल रहने वाले इस बैंक में डकैती की सूचना मिलते ही सिटी कोतवाली थाना प्रभारी अपने स्टाफ और आपात सेवा 112 सांथ घटनास स्थल पर पहुंच गए। बैंक कर्मचारियों से प्रारम्भिक जानकारी लेने के बाद पुलिस ने आरोपियों की पतासाजी के लिए नाकाबंदी करने में जुट गई है। इधर आरोपियों के विषय मे पता लगाने के लिए बैंक भवन के आसपास स्थित व्यवसायिक भवनों में लगे सी सी टी वी कैमरों की फुटेज चेक किये जा रहे हैं। खबर लिखे जाने तक घटनां स्थल पर पुलिस अधीक्षक राजेश अग्रवाल और एड एस पी पहुंच गए है।

बैंक प्रबंधन की लापरवाही बनी लूट के असफल घटना की वजह यहां ध्यान देने योग्य बात यह है कि जिला पुलिस अधीक्षक राजेश अग्रवाल के द्वारा शहर और जिले में स्थित बैंकों की सुरक्षा को लेकर लगातार बैंक प्रबंधन को समझाइस देते रहे कि वे बैंक में एक गार्ड और सुरक्षा के दूसरे उपायों को दुरुस्त रखे। परन्तुं उनकी समझाईस के बावजूद यूनाइटेड बैंक प्रबंधन ने सुरक्षा उपायों में गम्भीर लापरवाही बरती। सम्भवतः ईसे ध्यान में रखकर डकैतों ने यूनाइटेड बैंक में लूट की योजना बनाई,और उसे आज अंजाम देने का असफल प्रयास किया।

शाम करीब छह बजे तीन हथियार बन्द युवक मुंह मे गमछा बांधकर बैंक भवन में जबरन घुस गए। उन्होंने लूट का असफल प्रयास किया। उनमे से एक नए रिवाल्वर की नोंक से मुझे चोट पहुंचाई और सी सी टी वी का dbr लेकर भाग निकले। बैंक की सुरक्षा को लेकर बरती गई लापरवाही के सम्बंध में मेनेजर ने गोल-मोल सा जवाब दिया। बाईट-2 पुलिस अधीक्षक रायगढ़- तीन अज्ञात युवकों के द्वारा शाम 6 बजे लूट की घटना को अंजाम देने का प्रयास किया गया। प्रारम्भिक पुछताछ में उनके हुलिया वगैरह की जानकारी लेकर नाकाबंदी की गई है। वे लोग स्ट्रांग रूम बन्द होने के कारण अंदर नही घुस पाए और करीब दो हजार रुपये लूट कर ले गए है। जल्दी ही वे पकड़े जाएंगे.