लोक सृजन समिति भिलाई के संगठनात्मक प्रक्रियाओं पर चर्चा .भिलाई .

आज सेक्टर 2 हाउसलिज कार्यालय में लोक सृजन समिति भिलाई, हाउसलिज संघर्ष समिति ,लोकतांत्रिक इस्पात एवं इंजियनियरिंग मजदूर यूनियन लोईमु का मीटिंग हुआ पहले लोक सृजन समिति भिलाई के संगठनात्मक परिक्रियाओ पँर चर्चा हुआ फिर ठेका श्रमिकों को युनियन चुनने का अधिकार मिले पँर चर्चा हुआ क्योंकि भिलाई इस्पात संयंत्र में उत्पादन को ऊँचाई तक पहुचाने वाले ठेका श्रमिको को यूनियन चुनाव से बाहर रखा जाता है वही ठेका मजदूर जो विधायक,संसद सरपंच पार्षद महापौर सब चुनते है लेकिन यूनियन चुनाव से क़्यो दूर रखा गया है?

जिसके लिए हस्ताक्षर अभियान का निर्णय लिया गया 28 मई को मरोदा गेट,29 को बोरिया,30 को मुर्गा चौक मेंन गेट,31 को खुर्सीपार गेट,1 जून को जोरा तराई गेट,2 को काउंटिंग किया जाएगा फिर हस्ताक्षर डिटेल को 3 जून को चुनाव अधिकारी के समक्ष रखा जायेगा.

यह विडंबना है कि भिलाई इस्पात संयंत्र में ठेका श्रमिको को यूनियन चुनाव से वंचित रखा गया है,इसके पीछे जो साजिश है वो ये है ठेकेदारों के मनमानी ,ठेकेदार ओर प्रबंधक क़े साथ साठ गाठ कर जो बेतहासा लूट जारी है उस पर मजदूर यूनियन कानूनी रूप से कार्यवाही करेगा ,प्रबंधक कानूनी जवाब देहि हो जाएगा इन सब कारणों से ठेका श्रमिकों को यूनियन चुनाव से वंचित रखा गया है,मिनिमम वेजेस,पी एफ ई एस आई, बोनस समान काम समान वेतन, शिक्षा स्वास्थ्य इन सब हक से श्रमिक वंचित है खास तौर पर ठेकेदारी प्रथा जानलेवा है, ठेका श्रमिको को यूनियन चुनने का मताधिकार का उपयोग करने का पूर्ण अधिकार मिले इस लड़ाई को सतत जारी रखेंगे.

***

CG Basket

Next Post

संसदीय लोकतंत्र को न तो “पूँजीवाद” के खात्मे के लिए, और न ही “समाजवाद” लाने के लिए डिजाईन किया था. राजेन्द्र सायल.

Mon May 27 , 2019
Share on Facebook Tweet it Share on Google Pin it Share it Email “एक, संसदीय लोकतंत्र को न तो “पूँजीवाद” […]

You May Like