अखिल भारतीय शांति एवं एकजुटता समिति की छत्तीसगढ़ इकाई बिलासपुर में समिति के महासचिव नंद कश्यप और उनके बेटे तथा परिवार के अन्य सदस्यों पर 15-20 लोगों द्वारा किये गये हमले की तीव्र निंदा करती है।

शांति एवं एकजुटता समिति के महासचिव होने के अतिरिक्त नंद कश्यप माकपा जिला कमेटी के सदस्य तथा शहर और प्रदेश के जाने माने किसान नेता और सामाजिक कार्यकर्ता भी हैं।नंद कश्यप और उनके बेटे तथा परिवार पर यह हमला पिछले कुछ वर्षों में देश में हुई मॉब लिंचिंग की घटनाओं की तरह की कोशिश है। उनके बेटे को काफी चोटें आई हैं और वह अपोलो में भर्ती है। कामरेड नंद कश्यप को भी चोट पहुंची है।

शांति एवं एकजुटता समिति छत्तीसगढ़ सरकार औऱ प्रशासन से मांग करती है कि वह इस मामले में कठोर कार्यवाही करे और दोषियों को तुरंत गिरफ्तार कर नंद कश्यप और उनके परिवार को पूरी सुरक्षा प्रदान करे। समिति प्रदेश के सभी राजनीतिक दलों से भी मांग करती है कि वे एक स्वर में ऐसे हमले की निंदा करें और शासन से कठोर कार्यवाही की मांग करें ताकि छत्तीसगढ़ की मिलजुलकर रहने की शालीन और शानदार परंपरा बरकरार रहे।

अरुण कान्त शुक्ला, महासचिव, शांति एवं एकजुटता समिति, छत्तीसगढ़ इकाई, रायपुर