दंतेवाड़ा .गोंडेरास में जिस 15 ग्राम पंचायत के ग्रामीणों ने इकट्ठा होकर अपने इलाके के लिए मूलभूत समस्याओं का मसौदा तैयार किया था , उसके निराकरण के लिए ग्रामीणों ने शनिवार को दंतेवाड़ा कलेक्टर के जरिए पीएम को सौंपा हैं.

ज्ञापन में कहा है कि लिखित विषयों का जल्द निराकरण किया जाए . गोंडेरास में 14 गांव के ग्रामीण लगातार दो दिन जुटे थे । पहले दिन सिर्फ ग्रामीण गोंडेरास पहुंचे थे । ग्राम सभा की ताकत समझने के बाद उन्होंने इस सभा में पंचायत प्रतिनिधियों के नहीं आने पर नाराजगी जताई थी । इसके बाद दूसरे दिन गुरुवार को ग्रामीणों के साथ सरपंच व सचिव भी गोंडेरास पहुंचे थे । दोनो दिन करीब 4 – 4 घंटे चली इस बैठक में ग्रामीणों ने ग्राम सभा में रखे जाने वाले प्रस्ताव का मसौदा तैयार किया । जिसमें 11 बिंदुओं पर बात बनी ।

अब यह सभी प्रस्ताव गोंडेरास में होने वाली ग्राम सभा में रखे जाएंगे । सोनी सोढ़ी का कहना है कि ग्रामीण ग्रामसभा के माध्यम से अपने क्षेत्र के विकास का तरीका चुने । इसलिए संवैधानिक तरीके से ही पहले ग्रामीणों को जागरूक किया गया । अब जब यह जागरूक हो चुके हैं और ग्राम सभा का महत्व जान चुके हैं तो इसी के माध्यम से अपने इलाके के विकास का तरीका चुनेंगे ।

11 विषय जिसके निराकरण के लिए पीएम को भेजा गया है पत्र : वनोपज में इमली , महुआ , आम , चार और चरोटा का दर बढ़ाने , फूलपाड़ , समेली , पोटाली , नंदाराज में भूमि विस्थापन कार्य पर रोक लगाने , ग्रामीणों पर पुलिस अत्याचार व फर्जी मुठभेड़ और पुलिस बलात्कार पर रोक व कार्रवाई , पूर्व में संचालित स्कूलों और अस्पतालों को ग्राम पंचायतों में ही संचालित करने , फर्जी ग्रामसभा पर रोक , निर्दोष प्रकरण के तहत जेलो में बंद आदिवासियों को छोड़ने के सबंध में , ग्राम पंचायतवार स्थानीय वारंटियों की सूची उपलब्ध कराने , ग्राम पंचायत द्वारा विशेष ग्रामसभा की अनुमति देने के सबंध में , मजदूरी दर बढ़ाने , नए पुलिस कैंप पोटाली और बुरगुम में विरोध , ग्राम सभा के बिना अनुमति के बड़े पुल व रोड़ निर्माण पर रोक । यह प्रस्ताव गोंडेरास में होने वाली ग्रामसभा में भी रखे जाएंगे ।

**