केलो नदी को बचाने के लिये एनजीटी ने सीवरेज वाटर ट्रीटमेंट लगाने के दिये आदेश .

केलो नदी के जल को प्रदूषण से बचाने के लिए लिये नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल दिल्ली ने सख्त कदम उठाते हुए रायगढ़ से कनकतुरा तक कुल 15 किलोमीटर में दो सीवरेज वाटर ट्रीटमेंट प्लांट स्थापित करने का सख्त दिशा निर्देश जारी किया है। जिला बचाओ संघर्ष मोर्चा रायगढ़ ने एनजीटी को धन्यवाद देते हुए जिला प्रशासन से ईमानदारी, निष्ठा एवं गुणवत्तापूर्ण कार्य अतिशीघ्र पूर्ण करने की मांग की है।

विगत 15 वर्षों में ड्रेनेज सीवरेज वाटर ट्रीटमेन्ट प्लांट लगाने की यह आठवीं बार योजना है। कलेक्टर श्री अमित कटारिया के कार्यकाल से यह जोर पकड़ा लेकिन हर बार केवल कोरी घोषणा बन कर रह गया । जिला बचाओ संघर्ष मोर्चा,विभिन्न जनसंगठनो,मीडिया एवं प्रबुद्ध नागरिकों द्वारा किये जा रहे निरन्तर संघर्ष, लगातार उठाये जा रहे सवालों तथा केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड की जांच रिपोर्ट के आधार पर एनजीटी ने सख्त कदम उठाए हैं।

केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड की जांच रिपोर्ट के आधारपर एनजीटी ने केलो को बचाने व उसके जल को स्वच्छ रखने हेतु दो सीवरेज वाटर ट्रीटमेंट प्लांट लगाने की योजना का सख्त दिशा निर्देश जारी किया है।यह रायगढ़ की जनता के लंबे संघर्ष का सुखद परिणाम है।

जल प्रदूषण खतरनाक सीमा से कई गुना ज्यादा प्रदूषित हो चुका है।प्रदूषण इतना खतरनाक ही गया है कि पानी स्नान योग्य भी नहीं रह गया है। एक रिपोर्ट के अनुसार केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड ने छत्तीसगढ़ की नदियों- महानदी, खारुन,हसदेव, शिवनाथ ,अरपा व केलो नदी में लगभग 24 जगहों से सेम्पल लेकर जांच रिपोर्ट तैयार की है। पानी की स्वच्छता का मानक 100 मिलीलीटर पानी में अधिकतम 500 बैक्टीरिया से ज्यादा नहीं होनी चाहिये। परन्तु जांच रिपोर्ट के अनुसार मानक पैरामीटर से सैकड़ों गुना ज्यादा बैक्टीरिया पाया गया है जो जन जीवन के लिये काफी खतरनाक है। नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल ने इसे काफी गंभीरता से लिया है।एनजीटी ने इसे काफी गंभीर मानते हुए तत्काल कार्यवाही करने के सख्त निर्देश जारी किए हैं।

जिला बचाओ संघर्ष मोर्चा ने जिला प्रशासन एवं विधायक से मांग की है कि रिपोर्ट की गंभीरता को देखते हुए केलो और केलो पर आश्रित जन जीवन की रक्षा के लिये एनजीटी के दिशा निर्देश के अनुसार पूरी ईमानदारी और गुणवत्तापूर्ण सीवरेज वाटर ट्रीटमेंट प्लांट की अविलंब स्थापना किया जाये.

जिला बचाओ संघर्ष मोर्चा के सचिव बासुदेव शर्मा,समन्वयक कैलाश अग्रवाल, वरिष्ठ साथी शिव शरण पांडे,पी एस पंडा, ट्रेड यूनियन कौंसिल के संयोजक गणेश कछवाहा,सीनियर सिटीजन संघ के अध्यक्ष के के एस ठाकुर, के आर यादव, पेंशनधारी कल्याण संघ के अध्यक्ष महादेव अग्रवाल, आर के शर्मा,प्रगतिशील पेंशन संघ के अध्यक्ष राजीव रत्न चौबे, एकता परिषद के जिला समन्वयक रघुवीर प्रधान, सर्वोदय मंडल के संयोजक डॉ सुरेश शर्मा,सद्भावना सांस्कृतिक समिति के अध्यक्ष नीलकंठ साहू,सामाजिक कार्यकर्ता गणेश मिश्रा, मदन पटेल,स्वतंत्रता संग्राम सेनानी उत्तराधिकारी संघ के साथी जय प्रकाश अग्रवाल, आल इंडिया बैंक एम्प्लाइज एसोसिएशन के पूर्व पदाधिकारी टी के घोष,बीएसएनएल एम्प्लाइज यूनियन के साथी एच एस दानी, एम एल साहनी,आंगनबाड़ी कार्यकर्ता सहायिका संघ अध्यक्ष अनिता नायक, काजल विश्वास, तृतीय वर्ग शासकीय कर्मचारी संघ के अध्यक्ष शेख कलीमुल्ला, रतिदास महंत,लघुवेतन कर्मचारी संघ के साथी बिष्णु यादव, एम आर एसोसिएशन के साथी खगेश्वर पटेल,एस बी सिंह,लोको रनिंग स्टाफ एसोसिएशन मो.एम शमीम, बिलासपुर डिवीजन इंश्योरेंस एम्प्लाइज एसोसिएशन के सचिव प्रवीण तंबोली, किसान सभा के साथी लंबोदर साव इत्यादि साथियों ने इसे बड़ी गंभीरता से लिया है, और जिलाप्रशासन से मांग की है कि

केलो को बचाने एवं जल की शुद्धता बनाये रखने के लिये एनजीटी के दिशा निर्देशों का अनुपालन करते हुये अविलंब सीवरेज एव वाटर ट्रीटमेंट प्लांट की स्थापना करे। तथा माननीय विधायक ,जनप्रतिनिधियों,एवं प्रबुद्ध नागरिकों से अपील की गई है कि वे इसके अविलंब निर्माण कार्य शुरू करवाने, समय सीमा में गुणवत्तापूर्ण कार्य पूर्ण हो इसे सुनिश्चित करने में सतत प्रयत्नशील रहें।

गणेश कछवाहा
जिला बचाओ संघर्ष मोर्चा, रायगढ़ छत्तीसगढ़।

CG Basket

Next Post

बुध्द पूर्णीमा पर विशेष : बुद्ध विष्णु के अवतार नहीं है.. संजीव खुदशाह .

Sat May 18 , 2019
Share on Facebook Tweet it Share on Google Pin it Share it Email पिछड़ा वर्ग के अध्ययन से बुद्ध की […]